Wednesday, January 13, 2016

हेतराम तनवर






राष्ट्रपति  अब्दुल कलाम दे हत्थां राष्ट्रपति सम्मान ने सम्मानित हिमाचल दी लोक कनै शास्त्रीय गायकी दी पछेण 84 सालां दे  हेत राम तनवर होरां दा किछ दिन पेहलें  गुजरी गै। सैह बमार रेहा दे थे। 

1 जनवरी 1932 जो कुनिहार हरकोट च संगीत दी परम्परा वाळे परिवारे च इन्हां दा जन्म होया था। इन्हां पेहलें अपणे पिता गुड्डू राम ते कनै उसते बाद चाचा लच्छी राम ते सुगम संगीत सिखया। राष्ट्रपति सम्मान ते अलावा संगीत नाटक अकादमी दिल्ली कनै हिमाचल कला,संस्कृति कनै भासा सम्मान ने सम्मानित हेतराम जी दी उआज  आकाशवाणी शिमला पर 1955 च इस दी स्थापना ते ही सारे हिमाचले च गूंजदी ओआ दी। 

इन्हां देस-वदेस तिकर हिमाचली लोक संगीत जो ख्याति दुआई। इन्हां दी  गाईयो गंगी, शंकरी, मोहणा व बामणा रा छोहरूवा अज भी हर कुसी दी  जुआनी पर गाणा लगी पोन्दी।
इन्हां  अपणी माता दे गुज़रने  ते  बाद शिमले दे माहूंनाग मंदिर च शरण लई। इसते बाद इन्हां पिछें हटी की नीं दिखया । इन्हां दिया लोक गायकीया जो इन्हां दे परुआरें भी संभाळी ने रखया। आकाशवाणी शिमला पर इन्हां दे नुंहां, पुत्रां कनै पोतरुआं दी उआजा च लोकगीत बजदे रेहंदे।


इंडियन आइडल ते परसिद्ध कृतिका तनवर इन्हां दी पौतरी है।

हेतराम तनवर 
...............
कुनिहार ते ओन्दीयाँ होआं दसया
अज धौलाधार जो 
गीतां दा ईक संत नीं रिहया
जिसदयां गीतां गूंजदी थी 
असां सारयां दी  हार 
असां सारयां दी जित 
हरकतां कनै मुर्किंयां देहियां 
कि कोई पूजी जाए धौलाधार ते कुनिहार 
या हंडे सांडू दे मदाना
जित्थु बेकसूर मोहणा जो फांसीया दा रस्सा
अज भी घुटी-घुटी जांदा 
कनै  हेतराम दी उआज गान्दी
मोहणा दे गलें उपड़यो रस्से देया नशाणां
हेतराम दी याद आणे दा  कोई ईक मौसम नीं होणा है
पीछा करना है असां तिन्हां दियाँ यादां दा
असां ते रोकी नीं होणा है
समिंटें ने लदोई गाहं चलदा अर्की दे नंबरे वाळा ट्रक 
नम्‍होल दी चढ़ाइयां या मोड़ 
इस घाटे  या तिस घाटे दे तिखे मोड़
हेतरामे जाह्लु भी गाया, तार कसया था
तिसदे साफे साही 
साफ कनै चिट्टा  तिन्हां दिया दाढ़ीया साही
हेतरामें हुण  भी गाणे  हन असां दे बछोह 
असां सारयां दे मिलण
म्हारियां खुशियां 
बाईं-खुहां दे नखरे
पहाडाँ दे छाले 
रूख़ाँ दे ठूंठाँ दी व्‍यथा 
पहाड़े दियाँ खाकां पर उपड़ीयाँ लूचां दी कथा 
देणे गंभरीया दे  बोलां जो सुर 
देणी लंम्मिया टेरा च 'बामणा रा छोहरूआ' जो  उआज 
हेतराम कुत्थी नीं गे
हेतराम कुत्थी नीं जान्दे
इस वग्त जाह्लु 
लोक ते विरत है लोक 
कनै पछेणा ताईं दौड़ा दे 'फोक 
विधां तोपा दियाँ राज्‍याश्रय 
नीं झुकणे वाळा ईक ऊंचा दयार जरूरी है  
जेड़ा गल्लाइ सके 
'
आऊं कसी कौ डरूं थोड़ी भी.....'
जेड़ा गाई  सके लोक दे अंदरला  लोक 
अण डरे 
अण रुके 
अण थके 
इस करी
हेतरामें गान्दे रेहणा है
हेतरामें  याद ओन्दे रेहणा है
-नवनीत शर्मा

(लोक संगीत दे  विख्‍यात बुजुर्ग हस्‍ताक्षर हेतराम तनवर जी दी स्‍मृति जो समर्पित। तिन्हां दे बारे च  ईक किस्‍सा एह भी है कि जाह्लु सैह राष्‍ट्रपति होरां ते  सम्‍मान लेणा गे ता सुरक्षा कर्मियाँ तिन्हां दी तलाशी लेणा लगे ता इन्हां तिन्हां जो बुरे हालें  झिड़की ता। ‘एह क्‍या करा दे।‘ इन्हां ते जाह्लु पुच्छया गिया कि तुसां जो  डर नही लगा ता इन्हां दा जवाब था, मैं कुसी ते डरदा थोड़ी)

8 comments:

  1. जेहड़ा गाई सके लोक दे अन्दरला लोक

    इह्नां फुल्लां दा जवाब नी

    नवनीत भाई कमाल!

    ReplyDelete
  2. नवनीत जी कवता कन्नैं तलासिया दीया गल्ला पढ़ी उपमन्यु होरां दीयां दो लैणा याद आईयां

    असां पहाड़ हुन्दे
    डरदे नीं
    नां हीं झुकदे

    बद्दिया कवता !

    ReplyDelete
  3. हेतराम होरां दे जाणे दी खबर आई, तिन्‍हां पर नवनीत होरां दी गंगाजली कवता मिल्‍ली,तुह्आं डीडी भारती पर हेतराम होरां पर डाकुमेंटरी आई। जणता हेतराम गै नीं स्‍हाड़े अक्‍खें बक्‍खें ही बसी गै सुबासा साह्ई।

    ReplyDelete
  4. श्री हेत राम तनवार जी बडे़ मजाकिया क्ने रौणकी आद्मी थे । इक्क बारि असें बिलासपुर नलवाडी़ मेले च आकाशवाणी शिमला रिया तर्फ़ा ते साँकृतिक कार्यक्रम देणे गैइरे थे । तित्थी मैं बी चम्बे रा गीत "कुंजू चैन्चलो" गाया था दूँह अवाज्जाँ च । तनवार होरी "तू नि दिसदा ओ मो...णा तू नि दिसदा" बलासपुरा रा मसहूर लोकगीत गाया था । बडा़ इ छैळ (छैल़्) । एह्डी़ खणकदी अवाज भैई हलि तिक्कर बी मेरेयाँ कन्नाँ च गुञ्ज्या कर्दी । जेह्डा़ गीत मैं गाया सैह पैह्ले श्री हेत राम कैन्था क्ने रोशनी देवी जी गाईरा था । ता तनवार होरी मिञ्जो बोल्दे थे "हाए ओ मेरेया कैन्थेया, हाए ओ मेरिए रोसनीए" । बडे बडे उस्ताद तिन्हां रे पैरां च पैई जाँह थे तिन्हाँरा गाणा सुणि ने ।
    बौह्त इ सुरील्ले कलाकार थे सेओ ।
    इक बारि मसहूर गायक कलाकार गुरदास माण सुन्दरनगर नलवाडी़ मेल्ले च आइरे थे सैह बी तनवार होरी रे पैरें पैई गे ताल्ही जे तनवार जी ने अलाप लगाया । टाइम्स इन्डिया री कैसेट च बी तिन्हें बडा़ चैल़् गाइरा ।

    ReplyDelete
  5. इस गीत्ता जो श्री हेत राम तनवार जी बडा़ मिट्ठा गान्दे थे

    तू नि दिसदा ओ मोहणा तू नि दिसदा
    मेरा तोला़ तोला़ खून रोज सुकदा

    गइयाँ मिसलाँ ओ मोहणा गइयाँ मिसलाँ
    तेरे राजे रे बनारसा जो गइयाँ मिसलाँ

    आया फैंसला ओ मोहणा आया फैंसला
    तेरे राजे रे बनारसा ते आया फैंसला

    खम्भ गड्डी ते ओ मोहणा खम्भ गड्डी ते
    इस बेडी़या रे घाटे खम्भ गड्डी ते

    खाई लै रोटियाँ ओ मोहणा खाई लै रोटियाँ
    अपणिया अम्माँ रियाँ पकीयाँ खाई लै रोटियाँ

    माँह नि खाणीयाँ ओ माए माँह नि खाणीयाँ
    मेरे मरने री घडी़ पल माँह नि खाणीयाँ

    मुंढे परना ओ मोहणा मुंढे परना
    तेरे भाइए रिया कित्तिया आया मरना

    तेरी बुरीए ओ मोहणा तेरी बुरीए
    मेरा गल़् लाया बढणे पैनी छुरीए

    तैं नि कित्तियाँ ओ मोहणा तैं नि कित्तियाँ
    तेरे भाइए रियाँ कित्तियाँ तिज्जो बीत्तियाँ

    बारा बजी गे ओ मोहणा बारा बजी गे
    इस राजे रीया घडी़या बारा बजी गे

    ReplyDelete
  6. ध्‍न्‍यवाद। बलदेव सांख्‍यान जी,
    हेतराम होरां दा इतणा मार्मिक कनै लोकप्रिय गीत पढ़ाणे ताईं।

    ReplyDelete
  7. बलदेव जी दा धन्‍नवाद। एक बड़ी खरी सुरुआत है। लोकगीतां दे बोलां जो भी सांभणे दी जरूरत है। एह गांह् शोध करणे आळयां दे कम्‍में भी आई सकदे। इन्‍हां जो कमेंटा ते कापी करी नै पोस्‍ट बणाई के पाणा पाणा चाहिदा।

    ReplyDelete