Friday, October 3, 2014

डोगरी बयार


मुंबई दे स्‍हाड़े इक पड़ोसी राजेंद्र मोहन कौशिक होरां हन तां कश्‍मीरी पर रैह्न्‍दे जम्‍मू। इञा पिछलयां तकरीबन पंदह्रां सालां ते मुंबईई रेह्यादे। हर साल चार पंज म्‍हीने ज्‍म्‍मू रैंह्दे। इसा बारिया हटी नै आए ता सौगी ध्‍यान सिंह होरां दियां कई कताबां लई आए। ध्‍यान सिंह इन्‍हां दे स्‍कूले दे बक्‍ते दे मित्‍तर हन। डोगरी लेखक ध्‍यान सिंह होरां रटैर होणे परंत फुलबक्‍ती लेखक बणी गयो। लिखदे कनै कताबां भी अप्‍पी ई छापदे। लोकगायक भी हन। डोगरी भाखां गांदे ई नी, इन्‍हां नौइयां भाखा भी लिखियां हन। दिक्‍खा भला इन्‍हां दियां कवता दियां कताबां दियां तस्‍वीरां -   







No comments:

Post a Comment