Friday, September 2, 2016

लखारिए दा पुनर्जन्म


दिसंबर 2014 च तमिल लखारी पेरूमल मुरुगन जो अपणे उपन्यास ‘मथोरुभागन’ तियें जान्नी ते मारने दी धमकी मिल्ली थी  । जिसते बाद, जात-पात कने धर्मे दे  नायें  पर तिह्नाँ दियाँ कताब्बाँ फूकियाँ गेइयाँ । पुलिस केस भी कित्ता गेया। मुरुगन ने अप्पुँ जो  को घरे दियाँ दुआल्लाँ च हुड़ी पाया   कने लखारियें बिरोध च गलाया:“मरी गेया लखारी पेरूमल मुरुगन।”

पिछले महीने मद्रास हाई कोर्ट च तिह्नाँ दिया  कताब्बा  पर लगियो रोक पर सुणवाई थी। कोर्ट ने गलाया “कताब्बा च  ऐसा किछ नीं  ऐ, जिस दिया बज्हा ने मुरुगन जो लिखणे ते रोक्या जाये । लखारी मुरुगन जो डरना नीं चाह्यी दा, लिखणा चाह्यी दा..अपणे लिखणे दा विस्तार होर बधाणाँ चाह्यी दा।  लोक तिह्नाँ दे लिखणे दे तरीक्के ने बह्णी सैहमत नीं होन , मुरुगन जो साहित दे खेत्तर च अपणा योगदान रोकणा नीं चाह्यी दा।’

कने फिरी , उनियाँ म्हीनेयाँ बाद पेरूमल मुरुगन ने अपणी  चुप्प तोड़ी। एह लखारिए दा पुनर्जन्म था । कोर्ट दे फैसले दे बाद, मुरुगन अपणियाँ 200 नौंइयाँ कवताँ दी कताब लेई ने आये हन।  कताब्बा दा नां ऐ : ओरु कोज़ाइयिन पादलकल मतलब इक्की डर्पोक्के दा गीत (A Coward’s Song)  अंग्रेजिया च अनुवाद अनिरुद्ध वासुदेवन जी  ने कित्तेया|  22 अगस्त को दिल्ली च मुरुगन दिया कताब्बा दा लोकार्पण होया। तिह्नाँ लिखेया: ’मिंजो बझोआ दा जे अन्दरैं-अंदर किछकी होआ दा  था जिसदिया बज्हा ने मैं इह्याँ लिखी सकेया ।  मेरिया कताब्बा  पर रोक लगणे दे तिन्नाँ म्हीन्नेयाँ बाद मैं किछ भी नीं लिखेया था। इह्याँ लग्गा दा था जीह्याँ मेरियाँ  उंगळियाँ सुन्न होई  गेइयाँ थियाँ । मैं पढ़ी लिखी नीं सका दा था। फरवरी 2015 च  मैं अपणियाँ मुनियाँ  ने  मिलणा मदुरई गेया। मैं अपणे मितरे दे घरैं ठैहरेया था। दो कमरे थे, इक्की च कताब्बाँ भरोइयाँ थियाँ ,  इक्की च पळंग था। पैहले किछ रोज मैं पळंगे च पेई रेह्या , थोड़ेयाँ रोज्जाँ  बाद इह्याँ लग्गा  जीह्याँ  नदिया च फाण आया कने  बह्न्न  टुटी गेया। मैं लिखणा शुरू कित्ता कने रुकेया नीं। इक्की डरपोक्के दा गीत दा जन्म इह्याँ होया।”
पेरुमल मुरुगन
दिया कवता दा
अँग्रेजिया ते प्हाड़ी अनुवाद: द्विजेन्द्र द्विज

डर्पोक्के दा गीत

बिपता नीं  पोंदी
कुसी जो
डर्पोक्के दिया  बह्जा ते
दंगे नीं भड़कदे कुथी भी
डरपोक्के दिया  बह्जा ते
बरबाद नीं होई जांदा किछ भी
डर्पोक्के दिया  बह्जा ते

डर्पोक 
नीं खींजदा अपणीं तलुआर
जां ताणदा  तिसा
 कुसी रुक्खे पर 
पर्खणे तियें तिसा दी धार
कैंह, डरपोक्के वाह्ळ ता
 हुन्दी इ नीं तलुआर

डर्पोक
कुसी जो डरांदा इ नीं

कुदरत सुआगत करदी
डर्पोक्के दा
सैह नीं मुर्कदा इक भी पत्तर
जां तोड़दा
इक भी फुल्ल

कुदरत 
छातिया ने लांदी डर्पोक्के जो
मां मूड़ैं लैन्दी डरेयो
यांणे जो, कने
 प्यान्दी अपणा दुद्ध

कुदरत हार पुआंदी
डर्पोक्के जो
कैंह जे सैह निकळदा  
 घरे ते बाह्र
भरने तियें सिर्फ 
अपणाँ पेट
अन्दर इ रैह्न्दा सैह
कने रैह्न्दा 
झँझटाँ ते दूर
डर्पोक्के तियें मुस्कल हुंदा
 रैह्णा बज्झी नैं
सैह करदा रैह्न्दा साफ
कूणाँ

डर्पोक 
नीं मिलदा 
खेल्लाँ दे मदान्ने च
सैह नीं
भड़कांदा 
भीड़ा जो
नफरता च गच्च 
राष्ट्रबादी पागलपणें तियें

डर्पोक
शामल नीं हुंदा
कुसी राजनीतिक पार्टिया च 
नीं चलदा 
कुसी विचारधारा कने
नीं हुंदा भगत 
कुसी नेते दा

डर्पोक
नीं बणाई सकदा
सुआगती मस्हूरी
नीं सट्टी सकदा दुद्ध
बड्डेयाँ बैनराँ पर
नीं बजाई सकदा
 स्प्पड़-सींढाँ, 
नीं दुड़की सकदा
नीं जांदा जलूस्साँ च

डर्पोक
नीं कर्दा कुसी दैं चोरी
नीं रोकदा तिसदियाँ 
चीज्जाँ लुटणाँ आह्याँ जो

डर्पोक
नीं कर्दा कोस्त कुसी दा ’रेप’
कर्ने दी
सैह नीं दिखी सकदा 
कुसी जो चोर-नजराँ नें

डर्पोक
कदी नीं बणदा खून्नी
हाँ सैह सोचदा 
आत्महत्या कर्ने बारे
कने करी भी लैन्दा।

A Coward’s Song

Perumal Murugan

Misery befalls no one
because of a coward
Riots break out nowhere
because of a coward
Nothing gets destroyed
because of a coward

A coward
does not draw his sword
or aim it at a tree
to check its sharpness
Why, a coward has no sword
to begin with

A coward
causes no one to feel fear

A coward
fears darkness
Songs come forth from him

Nature welcomes
a coward
He doesn’t pinch away a leaf
or pluck a flower

Nature embraces
a coward
A mother gathers a terrified child 
and suckles it

Nature garlands
a coward
For he steps out only 
to feed himself
He stays in and
keeps out of trouble

A coward 
also finds it hard 
to stay confined
He keeps cleaning up
nooks and corners

You won’t find a coward
in a playground
He never rouses crowds
into hateful nationalist frenzy

A coward 
joins no political party,
abides by no ideology,
and is loyal to no leader

A coward
cannot prepare a welcome flyer 
he cannot pour milk over big banners
he simply cannot whistle, prance about,
and go out in processions

A coward
steals from no one
he doesn’t stop those
who come to take away this things

A coward
does not attempt to rape anyone
he cannot even look in stealth
at another’s body

A coward
never turns into a murderer
However
He thinks about suicide
and does it, too.


Title Poem
From
Oru Kozhaiyin Paadalkal
Translated into English by Aniruddha Vasudevan                         

1 comment:

  1. द्विज जी, बड़ियां परतां हन इसाा कवता च। डरपोक म्‍हाणुए दे ब्‍हाने नै सत्‍ता दी खल्‍ल छिली तियो मुरुगन होरां। तुूसां कवता चुणी, अनुवाद कीता। इन्‍हां अनुवादां नैं (ताजा मिसाल तुसां दा कनै नवनीत हाेेरां दा) गांह् बधा दी। दयारे पर असां बाईलाइन रखियो 'पहाड़ी भासा दी नौईं चेतना' । तुसां दूंही सिद्ध करीता। बधाई।

    ReplyDelete