Sunday, February 26, 2012

दो गीत


मोहिन्द्र कुमार जी दे दो गीत

गीत एक
दिले दियां गलां तुसां समझ न सक्के कदी
हुंण तां सुक्कण लग्गी मेरे अखां दी नदी

प्यारे पल थोडे दित्ते
लम्बे ऐ बिछोडे दित्ते
सब्ब कुछ भुलाई दित्ता
रोणा गलें पाई दित्ता

इक इक रात कट्टां जिंये होए इक सदी
दिले दियां गलां तुसां समझ न सक्के कदी

ए रूप रंग कुस जो दसां मैं
दिले दी उमंग कुस जो दसां मैं
मन्ने च गल्लां कई
ए गल्लां कुस जो दसां मैं

बैचेन जई फ़िरां मैं सारे गम संग बददी
दिले दियां गलां तुसां समझ न सक्के कदी


गीत दो


कदी औंणा छुट्टिया तू
दस दिल्ले देया मेरमां
पुच्छे बस इक्को गल्ल
मेरी निक्की जां

किन्ने रिढे पार है पाणिये दी बां ऐथु
कवालुआं उतरी चढी जाणी मेरी जां ऐथु

कदी औणा छुट्टिया तू
दस दिल्ले देया मेरमां
पुच्छे बस इक्को गल्ल
मेरी निक्की जां

रुखां कन्ने पेडां चडी हाये मेरा दिल कम्बे
दिन्न इन्तजार दे हाये होए बडे लम्बे

कदी औणा छुट्टिया तू
दस दिल्ले देया मेरमां
पुच्छे बस इक्को गल्ल
मेरी निक्की जां

अग्गे पिच्छे घर अंगण सारे ही बुहारी करी
बैठी मैं हुण अप्पु जो सज्जी कने संवारी करी

कदी औणा छुट्टिया तू
दस दिल्ले देया मेरमां
पुच्छे बस इक्को गल्ल
मेरी निक्की जां

7 comments:

  1. बड़े छैल गीत हन... बधाई..

    ReplyDelete
  2. अग्गे पिच्छे घर अंगण सारे ही बुहारी करी
    बैठी मैं हुण अप्पु जो सज्जी कने संवारी करी
    gud

    ReplyDelete
  3. मोहिन्द्र कुमार जी
    अपणियाँ भाषा च तुसाँ जो पैह्ल्ली बरी पढ़ा दा.
    मजा आई गेया. हिन्दिया च ता तुसाँ ब्लॉग कनैं इंटर्नेट दिया दुनिया पर पैह्ल्लैं इ छाह्यो रैह्न्दे. ‘निह्याळ्पा ’मतलब इंतजारे दी खुस्बू तुसाँ देयाँ गीत्ताँ च मिल्ला दी.

    ReplyDelete
  4. द्विजेंद्र जी,
    तुसां खरी गल लाई है. हाली असां दयारे हेठ कठरोआ दे ही हन. पर जेड़डि़यां दो चार रचनां एथी आइयां तिनां ते इक गल साफ सुज्‍झा दी है भई हिमाचले ते बाह्र रैहणे आळे हिमाचली भी प्‍हाड़ी लि‍खा दे. दूई गल, भई इनां दी भासा फर्क है.जिह्यां तेज होरां दी कवता थी, बड़ी लपेटेदार जबान थी,तुहां दी भासा भी मुहावरेदार हुंदी. तुआं मोहिंदर कनै कुसल होरां दा पता लगी जांदा भई हिंदिया पंजाबिया दा तुड़का लगदा जा दा. अंगरेजी तां लूणे साःई है. तिहा ते बगैर न बची सकदे न सुआद औंदा.बादल होरां इयां तां हिमाचली हन पर तिन्‍हां जेह्ड़ी पोस्‍ट लिखी थी, तिसा दी भी जुदी ही छटा थी.
    मतलब ए है भई रंग-बरंगा रूप बणा दा है.

    ReplyDelete
  5. अनूप भाई साहब !

    ठीक गलाअ दे तुसाँ . हुण लगणाँ ता लग्गा, असाँ द्यारे हेठ कठरोणा लह्गेओ . . बड्डी गल्ल ता इह इ है जे हिमाचली द्यारे दी छाँ दूरे-दूरे ते मितराँ जो खिंजी ल्योआ दी. तुसाँ बोम्बे रेह्या दे अपण तुसाँ दिया प्हाड़िया दा भी ता कोई जुआब नीं है. दिखा राजीव भरोल अमरीक्का बैह्ठेयो अपण द्यारे जो नीं भुल्ला दे. द्यारे च (अँ)ग्रेजिया दा लूण, हिन्दिया, पंजाबिया दे तुड़के, भासा दे बखरे-बखरे, जुदे-जुदे सुआद... हौळैं-हौळैं हर पोस्टा कन्नैं साह्म्णें औह्न...भासा दी असली नुहार पता लगै... असाँ जो भी कनैं एह्त्थु औणे आळेया मितराँ जो भी. इह सभ ता द्यारे हेठ इ होई सकदा.

    ReplyDelete
  6. अनूप जी, द्विज जी, राजीव जी, हरीश जी मुज्जो बडी खुशी होई की मेरे गीत तुसां जो खरे लग्गे। हुन्न पहाड़ी दायरे दे मन्चे पर मुलाकात चल्दि ही रेणी चाहीदी.

    ReplyDelete
  7. मैं जदूं आकाशवाणी च था तां इक बरि हृदयेश मयंक होरां रिकार्डिंग कराणा आए. गलाणा लग्‍गे मैं लोक गीत लि‍खओ. मैं समझदा था,लोकगीतां कोई लिखदा नीं. मतलब लिखदा दा होणा पर क्‍लेम नीं करदा. कनै सैः लोकां दी साझी मिल्कियत हुंदी. मोहिंदर होरां दे गींत पढ़े तां एह गल चेतें आई गई. कैंह कि एह गीत भी लोकगीतां साःई हन. विरह बछोड़े दे गीत. घरे आळे नौकरिया चले जांदे थे कनैं जनानां याण्‍यां कनैं जनौरां पाळदियां, खतरां बांह्दियां कनैं कंतां न्‍याह्ळदियां रैंह्दियां थियां. तेज होरां गांदे हन 'घरा बल सुरत दुड़ाई..'. इक होर गीत है, इक्‍को ई लैण याद है - 'न मैं धोती न मैं न्‍हाती, न मैं कीता सिंगार वे...'

    खरी गल है मोहिंदर होरां इन्‍हां जो गीत ई गलाया, लोकगीत नी.

    माइग्रेशन पैह्ले साःई है, पर हुण के लोक मबाइलां चमेड़ी रखदे कन्‍नां नैं, तां विरह कनै चेते भी नौइयां किस्‍मां दे होणे...

    ReplyDelete