Tuesday, February 7, 2012

खड्ड



शायद असां पचनोळू खादयो तां ही पचां रही गै। 26 जनवरी चली गई ता याद आई। गणतंत्र दिने दियां मुबरकां।  ऐह गल बड़ी पुराणी है। मतयां ते सुणी कनै पढ़ी। देशे दे अखिरी वाईसराय कारा च चलयो थे हरयाणे दी सड़क थी। सड़क डंगरां रोकयो थी। डरेंबरें ग्‍वाळु ते पुछया सड़क तेरे बुढे़ दी है। सड़का पर डगरां चारी जा दा। ग्‍वाळुएं जवाब दिता जै सड़क मेरे बुड़े दी नी है ता तेरे बुड़े दी भी नी है। वाईसराय होरां गलाया हुण देश आजादीया दे काबल होई गिया। लोकां राज चलाई लेणा है। इस जवाबे जो असां अपणी बड़ी होशियारी कनै समझदारी मनदे आये। पर ऐ‍ह बोहत बड़ी गलती थी। इसते बाद अजे तक सारीयां शामलातां कनै सार्वजनिक संप्‍पतियां जो असां अपणे बुड़े दी ही मनी ने चला दे। जेड़ी कुस्‍सी दे बुड़े दी नी है सैह मेरे बुड़े दी। असां कुछ नी डया बण, खड्डां, नदियां, सब घेरी ले। शहरां च ता साह् लेणे ताईं भी हरयाळी नी बचईयो। जेड़ी बच्चियो तिसा जो बचाणे तांए भी कुछ जाणकार हिम्‍मति लोकां जो कोर्ट-कचैहरीयां करना पोआ दियां। इस बारे च हिमाचले दा भी बड़ा बुरा हाल है। शायद अपणिया खड्डां, नाळुआं कनै धारां जो बचाणे दा ऐही बक्‍त है।
इस तांए पेश है। अपणे ग्रांये दी मंध खड्डा ताएं ली‍खीओ कवता।

खड्ड

धौलाधारा ते दूर था
पर इकदम हेठ लगदा था मेरा ग्रां
बड़ा घणा बण था घरे कनै
दूरे ते सुझदी थी खड्ड
मेरे सिरे दे बा कने बणे दे रुख
काहलू कनै कुथु रुढ़ी गै
पता ही नी लग्गा
पिछलिया मुसाफिरिया च
घौलाधार भी काळी मिली
थोडी-बोहत जे बचियो थी बर्फ
सै: सुहाग बिंदिया साही
पिघलने ते डरा दी थी
हलें बस खड्डा नी टपदी थी
खड्डा ने मिलणे ते बाद ही मिलदा था घर
बस चल्ली फिरी पुल बणी गिया
खड्ड दूर होंदी गयी
फिरी भी हर बारी
दो-चार बरि ता लौही ही जांदा था मैं
खड्डा ने मिलणा
पैरां दे तलुए खड्डा दे पत्थर
बड़ी-बड़ी देर गप्पां मारदे थे
इक नशा था पत्थरां च
पर नजर लगी गयी
मेरिया खड्डा दे परां जो
दूर-दूर जाई मकानां च चणोणा लगे
कल मिंजो इकनी हक पायी
दिखया ता हथां ने लगियो धूड़ थी
तुसां मिंजो पछैण्या नी
मैं खड्डा दा प
क्रेशर चलया था
रां कनै खड्ड हवा च उड़ा दी थी
सारे शरीरे चिप-चिप करा दी थी
इकी-इकी डालुए दे
इकी-इकी पतरे पर बैठियो थी खड्ड
पुले हेठ बिहारी मजदूर
उन्ना नंबर वन दे पाऊचां पिया दे थे
खड्डा च फसयां पाऊचां च
खड्डा दा कल साफ-साफ सुझा दा था
लुक्‍का दे कारखाने च
लुक्‍का च मिला दी थी खड्ड
पुले पर लगया था
विकसित हिमाचले दा ईश्तहार
सैह बडा होंदा गिया
मेरिया खड्डा निगलदा गिया
कल ईश्तहारां च ही मिलणिया हन खड्डां

कुशल कुमार

3 comments:

  1. पुले पर लगया था
    विकसित हिमाचले दा ईश्तहार
    सैह बडा होंदा गिया
    मेरिया खड्डा निगलदा गिया
    कल ईश्तहारां च ही मिलणिया हन खड्डां

    Bahut khoob Kushal ji

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया कुशल जी...

    ReplyDelete