Wednesday, March 7, 2012

मितरो! फिरी आई ऐ होळी


होळिया दे मौके पर  पहाड़ी कवि सागर पालमपुरी होरां दी एह कवता 
द्विजेंद्र द्विज होरां भेजिओ है. 

लई फुल्लाँ नैं भरियो झोळी
मितरो! फिरी आई ऐ होळी
मितरो! फिरी आई ऐ होळी

सिड़-सिड़ लह्गिओ कुह्ल्ला-कुह्ल्ला
रंगीली रुत मौसम खुह्ल्ला
सर्हुआँ साह्यीं मितरो झुल्ला
सिँब्ळाँ साह्यीं तुसाँ भी फुल्ला
चढ़ेया ऐ फौग्गण मतवाळा
रंग खलारा बह्न्नी टोळी
मितरो! फिरी आई ऐ होळी

चिड़ु-पखेरू राग्गाँ लह्गेओ
दीयाँ साह्यीं चेह्रे जह्गेओ
राह्यी- मुसाफ़र बत्ताँ ठह्गेओ
ग्रायें-ग्रायें मेळे लह्गेओ
झुल्ला दी ऐ डाळी-डाळी
सह्जियो ऐ ब्हाराँ दी डोळी
मितरो! फिरी आई ऐ होळी

फुल्लाँ पर त्रेळी- दे अथरू
अंगण ल्योह्यो बाँके टपरू
बीह्याँ पर प्राल्ले दे सथरू
धाराँ उग्गे लुँगड़ू ,फफरू
चौँह बक्खाँ ऐ भीड़ रँगाँ दी
न्होत्त्यो धोत्तेयो सप्पाड़-खोळी
मितरो! फिरी आई ऐ होळी

बीड़ाँ ते फुट्टी हरियाळी
नची उट्टी ऐ डाळी-डाळी
खह्ड़ण पत्ते बज्जी ताळी
कर्ह्न कलोलाँ जीजा साळी
अज सारे दुख दर्द भुलाई
लेया दिलाँ देआँ भित्ताँ खोह्ल्ली
मितरो! फिरी आई ऐ होळी

गूँज्जा दे सुर बौंसरियाँ दे
मौज मस्तियाँ लोक जिया दे
झड़ू-सुआरू झोळ पिया दी
जळबाँ देआँ जख्माँ सीया दे
भरी पिचकारियाँ छोहरू चल्ले
बाळ्टुआँ बिच रंगाँ घोळी
मितरो! फिरी आई ऐ होळी

मेळैं आये ‘रिड़कू’ ‘मथरू’
चुक्की नैं गान्नेआँ दे गठरू
अम्बळ-तासी धुप्प हस्सा दी
सुकी गेह्यो ब्हाराँ दे अथरू
बणी-ठणी ने निकळी ‘फुँह्गरी’
नीह्ठ्ठा लैहँग्गा -उच्ची चोळी
मितरो! फिरी आई ऐ होळी

घरे देयाँ कम्माँ झट्ट मुकाई
रंग-बरंगे ओढण लाई
तिक्खेयाँ नैणाँ कज्जळ पाई
नक्के पर लौंग्गे लसकाई
स्हेलियाँ ने निकळी ऐ छैल्लो
कईयाँ देयाँ दिलाँ जो छोळी
मितरो! फिरी आई ऐ होळी

लेया दिलाँ दियाँ गठ्ठाँ खोह्ड़ी
अपणियाँ सोच्चाँ लेया फरोळी
सांज्जो प्यार सखाए होळी
प्रीत्ताँ दे किछ मोत्ती रोळी
चुक्की लेया रुत्ताँ दी डोळी
मितरो! फिरी आई ऐ होळी
 









  
  25 जनवरी,1929 - 30 अप्रैल,1996

3 comments:

  1. होळीया दे हर रंग खो:ह्ल्ली-खो:ह्ल्ली
    कवता बड़ी छळकदी बोल्ली
    रुत्तां दीयां तस्वीरां क:ड्ढीयां
    ग्रांईयां दीयां तकदीरां कड्ढीयां
    उघाड़ी ते प्रीतां दे फुल्ल खरोल्ली.

    ReplyDelete
  2. पिता जी बहुत याद आए।

    ReplyDelete
    Replies
    1. Saagar ji kee yaad phir se taaza ho gayee. Adbhut.

      Delete