Wednesday, July 22, 2015

स्व्र्गीय देस राज डोगरा ‘दर्द’ धमेटवी


साहित्यकार,समाजसेवी,कुशल प्रशासक राजनेता काने लोकसंस्कृति दे सच्चे पुजारी स्वर्गवासी देस राज डोगरा `दर्द `धमेटवी अनेक मुखी प्रतिभा दे धनी थे।हिमाचल प्रदेस कने प्रदेस ते बाहर कइयाँ साहित्यिक  कने सामाजिक संस्था ने जुड़ेओ थे। "नूरां "कहाणी जिसदा उर्दू च अनुवाद सागर पालमपुरी ने कित्ता था बड़ी मसहूर होई। अथक लेखक थे कने नामी लेखक यशपाल होरां दे पक्के मित्तर थे। मुम्बई बिच कांगड़ा मित्र मंडल (हुण हिमाचल मित्र मंडल) दे संस्थापक सदस्य थे।हिंदी  उर्दू अंग्रेज़ी  कने हिमाचली दे कुशल लिखारी थे।

चाचू गिरधारी

हत्‍थें सोह्ठी ठुळ ठुळ करदा
कुचले घोड़े साह्यीं चलदा
पैरॉं बयाड़े हत्‍थॉं छाल्‍ले
पर्तणिया की कस्‍सी कस्‍सी
मड़यास्‍से जो फेरा करदा
मंगी छुंगी गैस्‍सण ढोई
चलया ऐ सै साह्ये भरदा
एह सारी ज्‍यादात कमाई
लई टपरुऍं रात्‍ती बड़दा
खिन्‍द खन्धोलू ओढण ओढी
किल्‍ही कळपी भ्‍याग ऐ करदा
जीणा होया जिसदा भारी
सैह मेरा चाचू गिरधारी 

माऊ दा था एह भी जाया
इस पर भी था जोबन छाया
पर उसदी बेअंत ऐ माया
बदली इसदी कदी नी काया
लौह्का था मजदूरी कित्‍ती
बडा होया ता बुचका भारी
किछ दिन पट्ट अखाड़ैं ठोरे
किछ दिन इन्‍नी खेत्‍तर बाह्या
किछ दिन  खर्ल खारोळे
भूत बदंगी दा था छाह्या
ठेठ जुआन्‍नी ईह्यां बीत्‍ती
मिल्‍ली इस जो कदी नी काया
रेह्यी जिसजो सदा लाचारी
सैह मेरा चाचू गिरधारी
कितड़ा इन्‍नी धन्‍न कमाया
कितड़ा इन्‍नी खाह्दा लाया
तिसदा दसना मैं हिसाब
धियान दई करि सुणो जनाब
सौ गज कपड़ा तेह्रा साफ्फे
बत्‍ती सुथणु तैत्‍ती जुट्टे
सौ मण छल्‍ली सठ मण धान
बारहा मंजे टुट्टे फुट्टे
पंज्‍झी मण तमाक्‍कू पीत्‍ता
दो हजार रुपइये कमाए
सैह भी पिण्‍ड पड़ोसें खाए
इसदा रेह्या एह इ हाल
इह्यां बीत्‍ते सत्‍तर साल
लोक्‍की बोल्‍लण मत्‍त ऐ मारी
सैह मेरा चाचू गिरधारी 

No comments:

Post a Comment