Wednesday, July 29, 2015

मजदूर कवि नारायण सुर्वे


मित्‍तरो अज इक मजदूर  कवि नारायण सुर्वे जो  याद कीता जाये। एह 1926 दी गल है जाह्लु ईकी मज़दूर गंगाराम सुर्वे जो एह मैलयाँ कचेल्यां कपड़याँ   मुम्बई दे इकी फुटपाथे पर भटकदे मिले कनै इस नभाळ जागते सैह घरें लई आये। तिसजो पढाया- लिखाया कनै फिरी दसां  सालां दिया  उमरा   बेसहारा छडी ने चले गै। 

एह ऑइल मिला हमाली करदे-करदे, होटलां-ढाबयां कनै घरां च भांडयां मांजदे बडे होये, फिरी कम्युनिस्ट पार्टीया दे दफ्तरे च झाड़ू लगादें कनै पर्चियां कटदे-कटदे मार्क्सवाद पढ़या। मुम्बई दे आम आदमीयां दा कवि , मजदूरां दा कवि, गरीब-मुफलिसां दा कवि  , दलित-उत्पीड़ितां दा  कवि कनै अनाथ बेघरां दा कवि नारायण सुर्वे जिसजो सोवियत लैण्ड नेहरू पुरस्कार , मध्यप्रदेश दा  कबीर सम्मान .. क्या क्या नीं मिला अपर  सैह अखीर तिकर इक आम आदमी ही रैह , मजदूरां दे कवि  

नारायण सुर्वे दी चर्चित कवता शीगवाला दा  अनुवाद करने दी  कोसस कीती थी। अपर  हिन्दी मिळईयो इसा दी  मुम्बईया  मराठी कनै  झोपड़पट्टीया   बोली जाणे वाळी आम आदमीयां दी एह भासा , इसादा अनुवाद किंया करी सकदा था इस ताईं तुसां दी  सुविधा ताईं  लफ्जे  पर स्टार लगार्ई ने  बरेक्‍टां   अर्थ  दितया है कवता जदैही है तदेही मेद है तुसां  समझी जाणा.. एह  इक  मुसलमान कसाईये दा  बयान  है  कियां तिन्‍ही इकी हिन्दू जनाना   दी जान बचाणे   अपणे पैर गुआये  

कॉमरेड नारायण सुर्वे होरां जो  सादर नमन कनै तिन्‍हा  दी एह कवता शरद कोकास  

शीगवाला

 
क्या लीखादा ओ छोरू !
कुछ नी चाचा - - कुछ हरफां जोड़ा दा
गलांदा, गलांदा दाऊद चाचा कमरे च बड़ी गिया*         
गोंडेवाळीया  तुर्की टोपीया कडी ने                                    
गळे हेठला पसीना पूंजी सैह 'बीचबंद' पींदा
थलें बही जांदा
तिसदियां  जंघा पसारी पुठा होदां डंडा

पुत्‍तर इक गला दा  ध्यान रखणा                                         
हरफ  लीखणा बडा सोखा होंदा 
हरफां ताईं जीणा  मुश्कल है
दिख एह मेरा पैर 
तेरी माता काशीबाई गुआह है
'मैं कसाई * है  पुत्‍तर - मगर 
गभणी गाईं कदी नी कटदे.'

सैह - सुराज आया* गांधीए वाळा
रहम फरमाया अल्लाह
खूब जुलूस मनाया चालीवाळयां 
तेरे बापूएं - 
तेरा बापू चाली दा भोंपू

हां ता मैं  गलादा  था
इक दिन मैं बैठया था कसाईबाडे पर 
बकरा फाड़ी ने  रखया  था लटकाई  
इतणे च ही  सामणे रोळा पई गिया          
मैं दौड़या दिखया ता -                                                
भीड़ें घेरीयो  थी तेरी  माता
बडा बोलया 
अल्ला हू अकबरवाला 
खबरदार मैं बोलया
सब हसणा लगे, बोले,
एह त साळा  निकळया  पक्का हिंदूवाला 


"फिर काफिर को काटो !" 
अल्लाहुवाले दी उआज आई 
झगडा होई गिया।
साळयां मिंजा खूब कुट्टया 
मरदें मरदें पैर  गुआया  
सच है कि  नी काशिबाई* - ?


'ता पुत्‍तर  -
हुण  माह्णु होई गिया सस्ता - बकरा मैंहंगा होई गिया 
जिंदगी मुन्‍नु, पूरा न्‍हेरा आई गिया, 
कनै* हरफां जो  
जीदां रखे  देह्या  कुण है दिलेवाळा 
सबना जो पैसयां खाई  छडया।'

       


शीगवाला

क्या लिखतो रे पोरा !
नाही चाचा - - काही हर्फ जुळवतो *                            ( जोड़ता हूँ )
म्हणता, म्हणता दाऊद चाचा खोलीत शिरतो*          ( खोली में घुसता है )
गोंडेवली तुर्की टोपी काढून*                                       ( निकालकर )
गळ्याखालचा घाम* पुसून तो 'बीचबंद' पितो( पसीना )
खाली बसतो
दंडा त्याचा तंगड्या पसरून उताणा* होतो.( उलटा )

एक ध्यानामदी ठेव* बेटा                                           ( रख )
सबद लिखना बडा सोपा* है ( आसान )
सब्दासाठी* जीना मुश्कील है( शब्दों के लिये )

देख ये मेरा पाय 
साक्षीको तेरी आई* काशीबाय( माँ )
'मी खाटीक* आहे बेटा - मगर ( कसाई )
गाभणवाली* गाय कभी नही काटते.'( गर्भवती गाय )

तो - सौराज आला* गांधीवाला( आया )
रहम फरमाया अल्ला
खूप जुलूस मनवला चालवालो ने 
तेरे बापूने - 
तेरा बापू चाल का भोंपू

हां तर मी सांगत होता* ( कह रहा था )
एक दिवस मी बसला* होता कसाईबाडे पर ( बैठा )
बकरा फाडून रख्खा होता सीगपर 
इतक्यामंदीसमोर* झाली  बोम          (इतने में सामने हुआ शोर  )
मी धावलादेखा -                                                  ( मैं दौड़ा और देखा )
गर्दीने* घेरा था तुझ्या अम्मीला ( भीड़ ने )
काटो बोला 
अल्ला हू अकबरवाला 
खबरदार मैं बोला
सब हसले, बोले,
ये तो साला निकला पक्का हिंदूवाला 


"फिर काफिर को काटो !" 
अल्लाहुवाला आवाज आला 
झगडा झाला
सालो ने खूब पिटवला* मला ( मुझे पीटा )
मरते मरते पाय गमवला  
सच की नाय काशिबाय* - ?( काशी बाई )


'तो बेटे -
आता आदमी झाला सस्ता - बकरा म्हाग* झाला ( महँगा )
जिंदगी मध्ये पोरा, पुरा अंधेर आला, 
आनि* सब्दाला( और ऐसा कौन है जो )
जगवेल* असा कोन हाये दिलवाला ( शब्दों को जीवित रखेगा )
सबको पैसेने खा डाला '

       कविता : नारायण सुर्वे

प्रस्तुति :शरद कोकास
पहाड़ी अनुवाद : कुशल कुमार

No comments:

Post a Comment