Monday, July 6, 2015

बीन्डे


पंडित चंद्रधर शर्मा गुलेरी दे वंशज, कवि ,कहाणीकार, अनुवादक, समीक्षक, संपादक   डॉ. पीयूष गुलेरी हिमाचली प्हाड़ी भाषा जो इज्जत मान दुआणे कने तिसा दिया सेवा च अणथक कम्म्म करने आळे जोधेयाँ देयां सरताज्जा च इक हन । धौलाधार दे छलैप्पे कने छटा जो छंद च बह्नणे दी कामजाबी दा मुक्ट भी इन्हा बाह्ल ऐ। गोर्की दे उपन्यास ';मदर';जो पहाड़ी च अनुवाद करने दा पुन्न भी इन्हां इ कमाह्या।
हिंदिया दे प्रोफेस्सर कने डिग्री कॉलेज ते रिटायर्ड प्रिंसिपल डॉ पीयूष गुलेरी दी रचना "बींडे" च ग़ज़ल दी सोह्गमान्नी कने नज्म दी रवान्नी दोह्यो हन।
 




ठक ठकैं ठक चलै कुहाड़ी, देह्ये- देह्ये जैल्ले पाए बींडे 
रुख रोआ दा तेसा घड़िया लक्कड़ देई घड़ुआए बींडे 


पलाँ छिनाँ बिच दिन बदलोए, दुसमण जीन्दे जीन्दे मोए 
बि:गड़यो कम सिद्धे भाऊ जिन्हाँ दे हत्थैं आए बींडे 

 

नाँ सोन्दे नाँ सोणा दिन्दे, एह चैन्नी नीं बोह्णा दिन्दे 
नौंई फाह्यी पाई रखदे हाई बो मेरिये माए बींडे 

पिरथी फेरा पाई लैन्दे ,दिने जो रात बणाई लैन्दे 
गल-कथ अँबरैं छींडा पाणा बींडे होन्दे आए बींडे 


हरिया भरिया लाम्बू लाणा, अप्पूं लाई आप बुझाणा 
कम्म बणाणा रट्टा पाई देह्या करदे आए बींडे 

 
सिद्धा साद्दा माह्णू रोए, धाड़- धाड़ सैह खड़ा पटोए 
इक्को इ बींडा मान नईं था हण कठरोई आए बींडे 

 
किछ भी करने तैं नी झकदे, सतुएँ गास्सैं पुज्जी ढुकदे 
छुट्ट-भलाइया गुणी बड़े एह एह माऊ दे जाए बींडे 
 
सतजुग द्वाप्पर कळजुग त्रेता, एह पीयूषाबड्डे नेता 
बींडेयाँ दी म्हेसा पुछ रेह्यी जुगाँ ते होन्दे आए बींडे 

डॉ. पीयूष गुलेरी 






No comments:

Post a Comment