Thursday, March 19, 2015

मराठी लिखारी भालचन्द्र नेमाडे



मराठी लिखारी भालचंद्र नेमाडे दा ज्ञानपीठ पुरस्‍कार ने सम्‍मनित होणा मराठी साहित्‍य, मराठी प्रेमीयां कनै असां सारयां अपणियां देसी भासां प्रेमीयां ताईं बडीया खुशीया दी गल है। मते सारे लिखारी हिन्‍दीया समेत असां दियां भासां-बोलियां च लीखा दे पर अपणियां भासां तईं लड़ना ता बडी गल है, गलाणे आळा भी कोई नी सुझदा। हिन्‍दीया दे अखबार ता अंगरेजीया दे खलाफ इक अख्‍खर ता लीखणा दूर हिन्‍दीया च भी अंगरेजी लीखी जा दे। कईयां अखबारां ता अंगरेजी सखाणे दा ठेका ही लई लिया।   

एह देहे मौह्ले बिच एह गलाणा असान नी है भई  मैं अंगरेजीया दा वरोधी नी है पर असां दे दिलो-दमागसमाज कनै संस्कारां च  भासा दा होणा बड़ा जरूरी होंदा। इस ताईं बच्‍चयां दी स्‍कूली पढ़ाई अपणिया मातरी-भासा च ही होणा चाही दी। असां जो मराठी भाषा दी नीं  मजबूत करना चाही दी। अपणिया गल्‍लां पर तिन्‍हां जोर देयी ने गलाया कि मराठी स्‍कूलां च पढ़यो अंग‍रेजी स्‍कूलां आळयां ते खरी अंगरेजी बोल दे।

तिन्हां यूनेस्को दे  सनदां  दा हुआला देयी ने गलाया कि कि ज्ञान कनै बोध मां-बोलीया च ही सम्भव है। एह मेरियां भावनां नीं हन बल्कि  विज्ञानिक सच्‍चाई है   विश्व बैंक दी रपोट भी एही दसदी कि स्‍कूली पढ़ाई मातरी भासा च ही होणा चाही दी। इस बारे च नेमाडे जी दा गलाणा था कि अंगरेजीया जो जरूरी  करने दे बजाय इसा जो पूरे तरीके नै हटाणा जरूरी है। प्राथमिक ही नीं माध्यमिक स्‍कूली पढ़ाई भी मातरी भासा च ही होणा चाही दी। तिन्‍हां एह् भी गलाया- अंगरेजी  भाषा च देह्या महान क्या है? इसा च इक भी महाकाव्य नीं है। असां भाल महाभारते च ही  दस महाकाव्य हन। एह गलाणे वाले नेमाड़े ऐत्‍थु कई विश्वविद्यालयां च अंगरेजी पढ़ाणे दे अलावा लन्दन दे  स्कूल ऑफ़ ओरिएण्टल एंड अफ्रीकन स्टडीज  भीअंगरेजी कनै तुलनात्मक साहित्य पढाई चुक्‍कयो। नेमाडे दा गलाणा है कि  अंगरेजी मारक भासा है। इसा दे औणे ते पैहलें उत्तरी अमेरिका  187 भासां थियां। 150 सालां बाद हुण 37 ही बचीयां। ऑस्ट्रेलिया   300 ते 65 कनै ब्रिटेन दियां पंजां ते इक आयरिश ही अज जीन्दी  है। अंगरेजीया पर जादा जोर देणे पर नेमाडे ने गलाया कि ऐसा नीं है कि असां जो अंगरेजी सिखणा ही नी चाही दी पर स्‍कूली पढ़ाईया च इसा दी कोई जरूरत नी है। असां जो पैरां दियां पणियां साही इसा जो घरे ते बाहर ही रखणा चाही दा ताकि जरूरत पौणे पर इस्‍तेमाल करी सकन।  

ज्ञानपीठ पुरस्‍कार कमेटी दे प्रधान नामवर सिंह दा गलाणा था कि मराठी पढ़ने आळे भी  नेमाडे  दा  माहत्‍व  नी समझी सके। इन्‍हां दी रचना हिन्दू :जगण्याची समृद्ध अडगळ’ (हिन्‍दु : जीणे दा समरिध कबाड़) इक महान साहित्यिक देण है। एह अपवाद ही लगदा कि इतणा गैहरा चिंतनखोज-बीण कनै अभ्यास करी नै नाबल लीखणे आळा देसे च होर भी कोई होंगा।

अपणा पैहला ही नाबल कोसला  कालजे दे मुंड़ुआं-कुड़ीयां दी जबाना च लीखी ने इन्‍हां मराठी नाबलां दी दुनिया ही बदली ने रखी ती थी। नायक दी मराठी  परंपरा दे बरखलाफ सरब सधारण प्रतिनायक  कालजे च पढ़ने वाले पांडुरंग सांगवीकर दा चितरण करी ने नोंई परंपरा बणाई। इन्‍हां नाबल दे चौखटे  महाराष्ट्र दे जन-जीवन दा विस्तार च चितरण करी ने जिंदगिया  दे बारे च गंभीर सोच-विचार कनै  चिंता नै इक नोंर्इया अभिरुचिया दा निरमाण कीता।

इन्‍हां शिक्षा  व्‍यवस्‍था दे काहिलपणे दे कनै-कनै समाजिक, सांस्कृतिक जन-जीवन दे होरना हिस्‍सयां च भी ईमानदारी कनै सच्‍चाई दे नी होणे पर कलम चलाई। सफेद पोश लोकां दियां पोलां, कमियां कनै खोखलेपणे पर भी व्यंग्य कस्‍सी ने चोट कीती। इन्‍हां ते पैहलकणे मते सारे लिखारी पढ़ने वाले जो खुश करने ताईं लीखदे थे। इस बारे च नेमाडे दे विचार हन कि  पढ़ने वाळे जो पढ़ी ने  बेचैनी होणा चाही दी कनै लीखणे ने भौएं इंच भर ही सही समाजे जो गां‍ह बधणा चाही दा।
क्‍या जुआन दुनिया जो अग्‍गैं नीणे वाळयां बदलावां दे सिर्फ नुमाईंदे  ही  होंदे? मुसलमानां च  अज भी मध्य-जुगे वाळी एकता दी भावना कियां है? ऐह अपणे लिखणे च एह देहे  सवाल चुक्‍की ने जवाव देणे बगैर छडी दिंदे। शायद एह देहयां  सवालां दे जवाब टोळने  भी नीं होदें पर लिखणे च समाज भी ता हाजर होदां।

हिन्दू कनै नेमाडे जो समझणे दे पैहलें देशजवाद (nativism)  (मराठी  देसीवाद) जो समझणा जरूरी है। नेमाडे होरां 40 साल पहले 1975 दे दौर बिच भूमंडलीकरण दे खलाफ देसीवाद दे अपणे विचार   क्वेस्ट (अंग्रेजी) च दो लेख लिखी नै लोकां सामणे रखया था। अज कईयां विश्वविद्यालयां च एह देसीवाद पढ़ाया जा दा। असां क्या-क्‍या चीजां गुआ दे तिन्‍हां दा एहसास  ही देसीवाद दा मूल है। जातिं असां दे इक सच है कनै देसीवाद दे चिंतन  बहुसंख्यकां दी जातिगत सच्‍चाईया जो दिखणे दा इक साफ नजरीया पढ़ने आळे जो मिलदा।  

फ्रेंच साहित्य समीक्षक जॉन पेरी जॉन ओलिवर दागलाणा है कि नेमाडे दी देसीवाद दी संकल्पना दा  असर मराठी ही नीं सारे भारत दे साहित्य पर पिया। इन्‍हां दे इस देसीवाद च लिखारीयां दे  अपणिया  संस्कृति च अपणिया जमीना च सिधे खड़णे दी  महता है। ऐह देहा लेखन साहित्य निरमाण जो मजबूती दिंदा। इस ताईं वदेशी धारणा कनै विचारां जो महत्ता देणे बगैर लीखणा चाही दा। ग्रामीण हलकयां दे लिखारीयां जो प्रेरणा कनै आत्म-विश्वास देणे च  देसीवाद दा बडा जोगदान है। इकी पासें रूढ़ीवादी टीकाकार इन्‍हां दे कम्‍मे   कमियां कडदे ता दूजे पासें सधारण पढ़ने वाळे इन्‍हां दे लीखणे दे गुणां जो मुल्‍ल कनै अ‍हमियत दिंदे।

नेमाडे दी हिन्दू सारयां जो कठेरी नै चळणे आळी पराणी  संस्कृति है। दुनिया दी समरिध संस्कृतियां च इसा दी अपणी जगह  है ऐह देहीया संस्कृतिया जो धर्म गलाई ने संगरेड़ना ठीक नी है। इस करी ने नेमाड़े उप-महाद्वीप दी बहुसांस्कृतिक सभ्यता जो हिन्दु सभ्यता गलाणे दा जोखम लई ने अपणी  गल  इक लम्मे विमर्श कनै रखदे। इन्‍हा दे वचारा नै  हिंदु नांए दे समाजें  बोधां दे  सुधारां दे भंवरां जो पचाया,वरोधियां जो कियां अपणा बणाया कनै विदरोही सतां ते ही सम्प्रदाय कियां शुरू कीते। एह सब नेमाडे जाणदे इस ताईं हिन्दू च एह देहे कई लोक पढ़ने वालयां जो मिलदे।
पिछलयां 40 सालां ते भूमंडलीकरण दे खलाफ देसीवाद (nativsim) दा झंडा लई साहित्यकारां दिया पंचिया ते दूर किल्‍हे साधना  लगयो नेमाडे ना ता  साहित्य सम्मेलनां   जादेंना अखवार पढ़दे होर ना ही पुरस्कारां च  जादा बैंहदे। तुसां इन्‍हां ने  सहमत होन या नीं होन पर तुसां इन्‍हां दी अणदेखी नी करी सकदे। इन्‍हां दे धुर वरोधी भी नेमाडे क्या गलांदे एह सुणना चाहदें।

बड़ी पैहलें लिखारीये दा लिखारी साह्ब कैं बणी जांदा? निबंध लीखणे  वाले प्रतिनायक  नेमाडे जो ज्ञानपीठें नायक बणाई ता। एह देहीयां उआजां भी उठी सकदीयां पर नेमाडे इस सन्मान ने ही नायक नी बणी जांदे। इन्‍हां दे लेखन,  दृष्टि कनै चिंतन दे कारण  साहित्‍य च इन्‍हां दी जगह  पक्‍की है। प्रादेशिक भावनां दा होणा गल्‍त नी है पर इन्‍हां दा  इस्तेमाल करना गल्‍त है। एह मनणे वाले नेमाडे जो ज्ञानपीठ मिलने पर पहाड़ी दयार दी लख-लख बधाईयां।
कुशल कुमार

सदर्भ : लोकसत्‍ता - टेकचंद सोनवणे/ डॉ गो मा पवार
लोकसत्‍ता – संपादकीय
वैभव पुरंदरे – टॉइम्‍स ऑफ इंडिया 7/2/15
प्रफुल्‍ल शिलेदार – नवभारत टाइम्‍स

5 comments:

  1. कुशलजी, निमाड़े होरां पर पहाड़िया च लिखी नै तुसां इक जरूरी कम कीता है। इस लेखे ते असां दे मुलके दियां भासां कनै तिन्‍हां दी हालत कनै जरूरत असां जो समझ औंदी। असां दे ब्‍लागे दी टैग लाइन ''पहाड़ी भासा दी नौईं चेतना'' देह् देहृयां लेखां पढ़ी नै सार्थक हुंदी। इस लेखे पढ़ी नै मिंजो इक बरी फिरी एह् लग्‍गा दा भई पहाड़ी भासा च नौएं कनै अजके बचार परगट करने होण ता अक्खर (सब्‍द) कुती ते ल्‍यौणे। मिंजो परदेसे आह्यो 30 साल होई गेयो, मेरी भासा ओहृथी ई खड़ोतियो, कनै जणता खुंह्डी भी होई गइयो। तुसां दा परयास काबले तरीफ है कैंह् कि तुसां दी पैदाइश मुंबई दी है। फिरी भी तुसां भासा दी लो अपणे अंदर बाळी रखियो।

    ReplyDelete
  2. अनूप जी धन्यवाद होंसला बधाणें ताएं। शायद एह मुंबई दिया मिटटीया दा ही असर है। ऐत्थु सारयां लोकां जो लग-लग भांसा च गल करदे दिख्खी ने मिंजो एह चेता नी भुलदा कि असां भाल भी इक भासा है। तिसा दे कारणा मेरी अपणी इक लग पछेण है जेड़ी मिंजो मेरीयां जड़ां ने जोड़दी।

    ReplyDelete
  3. बलदेव सांख्यायनMarch 24, 2015 at 12:25 PM

    मराठी लख्हारी श्री भाल चन्द्र नेमाडे जी देयाँ चरनाँ च नमस्कार ! एह लख्हारी खुद अन्ग्रेज़िया रे मन्ने तन्ने बद्वान हे ! इन्हें इक गल्ल एह बी बडी बांकी सारेयाँ जो दस्सी कि अन्गेज्जी मारक भाखा हई ! कई लोक मेरिया इसा गल्ला रा बुरा मन्नी लैं हे ! हाऊँ बडे अर्से ते एह्डा मसूस कर्दा भई एह भाखा तानासाहाँ री बोली ही ! चाहे अच्वारण री गल्ल हो ! बौह्त आखराँ री पड़दापोसी फेरी कई आखर गल्वाम्मां साहि पता नी काल्हू मुँह बंद करने रा हुकम हुई जाणा यानी कि साइलैन्ट ! किसी आद्मीये जो कोई ब्चार मनाँ च आओ ता एह टटकाई अन्ग्रेज्जी नी औन्दी ! लोक बी ऐसे गल्वाम हुईरे इसा रे भैई अपणे ब्चार अपणिया बोलिया च लिखी ई नी पान्दे लिखो ता कोई पढदा हि नी हा ! अम्माँ रि स्खाई री बोल्ली ज्नाब इतनी मिठी हुन्दि भैई मिसरी बी किछ नी ई इसा रे अग्गे ! नेमाडे साह्ब ने इतना बड्डा कम्म करिने दस्सी त्या भैई महातड़ भाई ता सोच्दे डरदे ही रैही जान्दे ! इन्हाँ जो पहाड़ी ब्लाग देयार क्ने पहाड़ी पंची रिया तर्फा ते लख लख ब्धाइयां !!!

    ReplyDelete
  4. सांख्याान जी धन्यवाद। नेमाडे होरां दा कम्मज बडा है। एह देहे लिखारी भासा दी ताकत होंदे। मैं इन्हा ते ऐही शिक्षा लई की डरने दी कोई जरुरत नीं है असां जो अपणी भासां च कम्म करदे रेहणा चाही दा।

    ReplyDelete
  5. बिल्कुल ठीक ! सोला अन्ने सही ! ब्चाराँ री अजाद्दी क्ने भाखा री बी हूँगी ताँ ई खरे खरे ब्चार अग्गे तक पुजणे नहींता एह मना बिच ही घुट्हदे रैह्णे ज्नाब कुशल साह्ब !
    तुसें इतना बधिया छैल लेख लिख्या ! तुसांजो बी बौह्त बौह्त बधाई !

    ReplyDelete