Sunday, February 1, 2015

जुबां मिली है मगर हमजुबां नहीँ मिलता।




असां जाहलु तरफेन जगहां च तरफेन लोकां बिच किल्‍‍हे  होंदे ता कुथी ते अपणिया बोलिया दे दो बोल सुणने जो मिली जाह्न ता जानी च जान आई जांदी। एह गल घुमणे फिरने वाल्यां कनै परदेसां च रैह्णे वाळयां  कई बरी मेहसूस किती होणी। परदेसां च अपणे प्रदेशे दी चौथिया कूणा दा माह्णु भी अपणे घरे दा मित्तर लगदा। गलाणे जो ता सारा देश इक है पर चीजां-मौके थोह्ड़े हन कनै हितां दा टकराव है। सब अपणे-अपणे दी करदे। एह देहियां हालातां बिच मतयां सारयां लोकां कनै ऐह होया कि अपणियां बोलीया दे दूह्ईं बोलां नै कम्‍म बणी गिया। रिजर्वेशना वगैर रेला च ता कई बरी अपणी बोलिया वाळा मिलने पर तिस कनै सफर करने दा सुख मतयां लोकां लेया  होणा। हुण ता ऐह होआ दा कि मता टैम किट्ठे कम करने ते बाद भी पता नी लगदा कि ऐह बंदा अपणे ग्रांये दा है। मेरे भाणजे जो छे मीह्ने इक्‍की क्‍लासा च बैठणे बाद कुसी गल्‍ला पर साम्‍हणे वाले दे मुंहे ते प्‍हाड़ीया च गाळ निकली ता पता लग्‍गा दूंही दी तसील भी इक है।  
सार एह है कि लग-लग लोकां दियां दुनिया दी भीड़ा च अपणी मां-बोली असां जो अपण्‍यां नै मेळदी भी कनै असां जो दुनिया ते लग इक पछैण भी दिंदी। जे असां ध्‍याने ने सोचन ता एह पछैण ही असां दा वजूद है। होर दुनिया दी कोई भी समरथ कनै काबिल कौम अपणे व‍जूद ने कोई समझौता नी करदी ता असां च क्‍या कमी है? जे असां इसा पछैणा ते न्‍हठा दे। असां दिया पीढ़ीया तिकर असां अपणी बोली, हिन्‍दी कनै अंग‍रेजी घट ते घट इन्‍हां तिन्‍हां भांसा च महारत रखदे थे। ऐहत्‍थु असां दे दखण दे  भाई ता लग भासा परिवार ते होणे दे बावजूद हिन्‍दीया कनै-कनै मराठिया पर उत्‍तर भारत दे हिन्‍दी भासीयां ते जादा अधिकार रखदे। पर समझा नी औंदा कि हुण देहा क्‍या होई गिया कि असां अपणयां बच्‍चयां जो अंगरेजीया ते अलावा कोई दूर्इ भासा सिखाणा ही नी चाह दे। एह बेवकूफी है कनै इसा दा कुसी हकीमे भाल कोई लाज नी है कि अपणी बोली बोलने नै अंगरेजीया दा लैह्जा खराब होई जांदा।          
अपणी पछेण कनैं जड़ां ने जुड़ने दी सोच कनै भावना ही है कि असां हिमाचले दे बाह्र इतणीया संस्थां बणाइयां। एथु मुम्बई च ता मंडल हिमाचले दे भासा दे आधार पर गठण ते  भी पराणा है। पैह्लें भले ही इस दा नां काँगड़ा मित्र मंडल  था पर इस दा दायरा कांगड़े तिक ही सीमित नी था। असां दे स्याणंया 1952 च इस दे विधान च इक नूठी धारा पाईयो जेह्ड़ी असां दे पहाड़ी भासा दे विकास दे रस्ते दा मील दा पत्‍थर बणी सकदी। मंडले दे विधाने दे अनुसार पहाड़ी बोलने वाला कोई भी सख्स मण्डले दा सदस्य बणी सकदा था। इस करी ने मंडले दी शुरूआत ते ही कांगड़े ते अलावा कुल्‍लु मंडी बिलासपुर ते लई ने जम्‍मू तिक दे पहाड़ी मित्‍तर मेंम्‍बर थे कनै अज भी हन। इत असां दे पढ़यो-लीखयो ठेकेदार अज भी ससपंजां च पई नै पहाड़ीया ताएं कट्ठे होणे दे बजाए कुतर्कां दे पहाड़ चिणी जा दे।  
लता जी ने गायो भला सपाहईयी डोगरीया, निकड़े फंगड़ु उची उड़ान, ते लई ने ठंडी-ठंडी हवा जे झुलदी, मोहणा, कुंजू-चंचलो, अस्‍सी बकरी-पचासी भेड़ां ओ महाजना  होर भी मते सारे गीतां च असां जो अज भी कोर्इ फर्क नी लगदा। सारे अपणे ही लगदे। भासां-बोलीयां कनै पाणी दूरी औणे पर थोड़े-थोड़े बदलोई जांदे पर इतणे भी नी कि पाणी पाणी नी रैह। ऐह नियम सारीया ही दुनिया पर लगदा पर प्‍हाड़ां च दूरियां बड़ीयां मुश्‍कल होंदीयां। इक गल होर है मदानां च इक्‍की नदीया ते  लग-लग नै‍ह्रां निकलदियां कनै पहाड़ां च मतीयां सारीयां खड्डां इक नदी बणांदियां। इस कारण असां सारयां दियां लग लग खडां हन कनै असां तिनां हीका ने लाई बैठयो।          
जिथु तिक्कर असां दियां देसी भासां दी गल  है दिखदयां दिखदयां मन्ज़र बदलोई गिया। हिन्दीया समेत सारियाँ भासां पिछलेयां पैरां पर खडो़तियां हन। बस वक्‍त दी गल है। मिंजो याद है जाह्लू असां बड्डे होआ दे एथु मुम्बई च हिन्दीया, अँग्रेज़ीया कनै असां दियां लगभग  सारियाँ भासां दे स्कूल थे। ताल्हू एह् भी लगा दा था कि औणे वाला टैम हिन्दीया  दा है। इस करी ने असां कनै होरनां भासां बोलने वाळयां दे बच्‍चे  भी हिन्दीया दे स्कूलां पढा़ दे थे। एह् वहम कई साल बणी रिहया। हाली भी इक हलका देहा मुगालता जरूर है पर एह मुग़ालता ही है। मेदा दे सारे तिनके विखरदे जा दे।
बजह क्या है इक ता असां जो अपणे आप पर रत्‍ती भर भी वश्‍वास नी है। एही कारण है असां नैईंया पीड़िया जो अपनियां भासा कनै संस्कार  नी देई  सके। अगंरेजां असां जो देह्या नौकर बणाया कि सठां-पैंटां  सालां बाद भी असां दी सोच तिनां दी नौकरिया ते अगें गैं लेणे जो त्‍यार नी है। अज भी असां ताएं नौकरी कनै चार पैसे ही सबकुछ हन। असां पहाड़ीयां दा ता होर भी बुरा हाल है। असां कांगड़े खड़ी ने कांगड़ी कनै मंडीया खड़ी ने मंडयाळी बोलने ते डरदे। क्‍या पता सामणे वाळे जो समझा ओंगी की नी। नी ओंगी सैह तिसदी समस्‍या है इत पंजाबी-बिहारी धड़ले ने असां दे घरें आयी ने अपणी या च असां जो जलेबियां, पकौड़े कनै गोळ-गप्‍पे बेची जा दे कनै असां डरे ने फळ-फळ करी जा दे। दे ही भी क्‍या मजबूरी है कनै जे कोई बाहरला ही होंगा ता सैह हिंदीया अंगरेजिया च गल करगा ता असां कुस मामले च घट हन। सारयां ते बड्डी गल सैह असां दे घरें आयो रोटी कमाणा या घुमणा-फिरना। असां जांदे तिन्‍हा दे मुल्‍खें ता क्‍या सैह असां ने असां दिया बो‍लीया च गल करदे? नहीं। असां तिन्‍हां भाल जाई ने अपणी ही भुली जांदे।      
दूजी गल खास करी  हिंदी गऊ पटिया च पढ़याँ  लिखयाँ  आधुनिक राष्ट्रवाद  दे ठेकेदारां दा मुख्‍यधारा कनै एकता दे खोखले नारे लाई ने स्थानीयता जो नकारना। अपणे आपे जो नकारना। असां भी इसा पट्टीया दा हिस्‍सा हन। जे असां अपणिया भासा गलांगे ता असां पिछड्यां ही रही जाणा। एह हीनता दी भावना ग्रंथीया साही असां दे सारे वजूद जो निगलदी जा दी।
पहाड़ी ता स्कूलां तक पूजी ही नी। जेड़ईयां भासां पूजीयां तिनां दा भी बुरा हाल है। जे किछ भी माड़ा-मोटा बचया तिसदा जुगंळा दूंहीं वाळदां दे मूंह्डयां पर है। इक गरीबां दी सरकारी स्‍कूलां पर निरभर  होणे दी मजबूरी दुआ सरकारी स्‍कूलां जो पाळने दी सरकारां दी मजबूरी। इनांह् बाळदां दी भी बस होणे ही वाळी है। इकी पासें वपारी बणी चुकईयां सरकारां इस घाटे दे सौदे ते हत्थ खड़े करी दितयो। दूजे सरकारां करन भी क्‍या। जेह्ड़ा हलवाई अपणीया मठाईया अप्‍पुं ही चखणे तांए तयार नी है तिसदी दकान नी चली सकदी।


दूजे गरीब भी अंगरेजी-अंगरेजी दे इस रौळे च अपणे आपे जो ठगोया महसूस करा दा। इक तिस भाल ताकत नी है कि व्‍यवस्‍था दे इस पीपे ते घयो कडी सके। इस ताएं सैह भी अपणिया संताना दे भविष्‍य ताएं अपणे आपे जो गिरवी रखी भी घयो खरीदणे दे चक्‍करे च है। कैंह कि सैह भी नी चाहंदा तिस दे बच्‍चे भी अंगरेजीया दे कारण प्‍चांह रही जान। एह बजारे दा नियम अच्‍छे माले दियां बडीयां दकानां दे बजारे दी पटरीया पर ही सस्‍ते कनै घटिया समाने दा बजार लगदा। इसा तरजा पर पूरे देशे च अंगरेजी स्‍कूलां दी बाढ़ आई यो।       
सारयां दे बडी गल है। बिल गेट्स दे कंप्‍यूटरे दी खिड़किया दे रस्ते आई ने बीपीओ दी हौवां दे जोरे ने सब कुछ तबाह करने पर आमादा इसा अंग्रेजिया दी सुनामीया ते किछ भी बचणे दी कोई मेद फिलहाल ता नजर नी औआ दी। अजकल इक नारा चलया अकेला मोदी क्‍या करेगा। सच है जे किल्‍‍हे दे बसे दा कम होंदा दा पहाड़ी भासा जो लालचंद प्रार्थी होरां ते बड़ा जोधा होर नी मिलणा।
ऐह कुसी किल्‍हे दे बसे दा कम नी है। जे असां चाहंदे कि असां दी पहाड़ी पछैण, भासा कनै संस्‍कृति बची रैह ता असां जो  प्रार्थी कनै पहाड़ी गांधी बाबा साही बुजुर्गां ते प्रेरणा लई ने सारयां जो कम्‍मे लगणा पोणा। सबते बडी गल असां जो अपणे दमागे दे खाने च बठयालणा पौणी कि असां पहाड़ीयां दे जीन इतणे कमजोर नी हन कि जे असां दी संतानां पहाड़ी सीखी लेंगीयां ता तिन्‍हा अंगरेजीया पिच्‍छें रही जाणा है। इस ताएं अप्‍पु भी बोला, बच्‍चयां जो भी दस्‍सा कनै बाहरलयां दे भी डरा मत। दुनिया जो भी दस्‍सा अपणिया भासा दी मिठास।

कुशल कुमार

एह लेख दैनिक जागरण च 29 जनवरी 2015 जो प्रकाशित होया था।


3 comments:

  1. बौह्तई बधिया मुद्दे ज्नाब ने रक्खे ! एह गल्ल बडी दमदार है अम्माँ बोली भासा जो असाँ इस्तेमाल कर्दे ता अम्मांजी दा असीर्बाद बी कन्नैं रैह्न्दा जी ! एह असीर्बाद जिस कन्नैं रैह्न्गा सैह खता नी खाह्न्गा ! लखहारियाँ जो बडी बडी बधाइयां बलदेव सांख्यायने दीया तर्फा ते !!!

    ReplyDelete
  2. बलदेव सांख्यान जी। धन्यवाद। तुसां दा गलाणा ठीक है। असां जो इस आसिर्वाद दा मुल पता नी है।

    ReplyDelete
  3. बलदेव सांख्यान जी। धन्यवाद। तुसां दा गलाणा ठीक है। असां जो इस आसिर्वाद दा मुल पता नी है।

    ReplyDelete