Wednesday, January 14, 2015

लोह्ड़ी


अज है सूरजे दे मकर राशि च प्रवेश करने दा  महापर्व मकरसंक्रांति। असां दे ऐत्‍थु इस दिनें भ्‍यागा कुडि़यां घर घर जाई ने राजडे गांदईयां। लोक इन्‍हां जो माह-चौळ कनै पैसे दिंदे।

"राजडेओ राजडेओ असां आइआं राजद्वारें 
दिन्नेओ बट्टी चोल़ माह चोल़ माह........
.................."
पिछलें दिनें पौह मीह्ने दे खतम होणे पर लोह्ड़ी मनादें। तिल चौल गुडे दा होम कीता जांदर। कुड़ईयाँ घर घर जाई ने तिलचोल़ी गांदीयां। मुंडु कठे होई हिरण गादें।

"हिरण मंगे तिलचोल़ी दे
लाल गुडे दी रोडी दे
........ ........
..............................
दिंदी जा दोआन्दी जा
कोठें हत्थ पुजांदी जा
कोठें निकलेआ चूआ
ता बिल्लिआ दा खस्सम मूआ।"
इन्हां जो लोक धान चौळ कनै पैसे दिंदे।

इस तरीके दा गायन १५ दिन पैहलें ही शुरु होई जांदा। इन्हां जो लुकडियां गलांदे। मुंडु़आं कनै कुड़ीयां दियां लग  लग लुकडियां होंदियां।

दूहीं मितरां पीयूष कुमार कनै  हेमंत बस्तरिया दी  post ते पता चला कि छत्तीसगढ़ दे बस्तर कनै दुयां लाकयां च भी इस साही तुहार पौह मीहने दी  पुनया कनै तिसा ते  पैहलकणया दिनां च मनाया जादां है। तिस च बच्चे छेरछेरा मांगदे हन। (अन्तर है सौरमास और चान्द्रमास का।)
तुहारां दा हेतु कुदरता कनै तालमेल बणाई रखणा है। कुदरता दे  बदलावां जो हासी-रासी खुशियां ने मनाना। पेश  है संस्कृति दी एकरूपता दसदे किछ ऐत्‍थु दे ता किछ औत्‍थु दियां तस्‍वीरा मेरयां किछ मितरां दे (सौजन्‍य)  :--–---

राजीव कुमार त्रिगर्ती
   



किछ लुकडि़यां कनै राजड़े पहाड़ी पंचीया ते

------------राजड़यो राजड़यो
राज दुआरें आए भाई         
राज दुआरें आए
पैरां लग्गी ठंडड़ी ठंडड़ी
बत् किञा हंडणी हंडणी
पुत्तर तेरे ठाकर भाइया      
पुत्तर तेरे ठाकर
धीयां तेरियां राणियां राणियां  
दे माण चौळमां चौळमां 
कुड़ियां जो पूज भाई     
कुड़ियां जो पूज 
कोठे उप्पर दमदमा दमदमा 
मैं बुझेया कोई चोर 
भाइया चोर नी सरदार
राजे दा सरदार भाइया      
राजे दा सरदार 

सरदार कच्करू भई कच्करू
कच्करू
कच्करू से आये थे
कच्करू
नो सौ तीर मँगाए थे
कच्करू
एक तीर मार दिया
कच्करू
बड़े भाई का नाम लिया
कच्करू
पुकारूँगा पुकारूँगा
कच्करू
सारी दिल्ली पुकारूँगा
कच्करू
कोट दियाँ राणियाँ
कच्करू
खूह्यें भरदी पाणियाँ
कच्करू
बिच मलांदी पाणियाँ
कच्करू
धीयाँ होंदी राणियाँ
कच्करू
बिच मलांदी रेत
कच्करू
पुत्तर होंदे सेठ
कच्करू
लोहड़ी देया जी लोहड़ी

पैरां जो दिन्नेओ मोचणू मोचणू
सिरेओ दीन्नेओ टोपणे टोपणू
सिर खड़े सरताज भाइआ
सिर खडे सरताज
..................
चौल़ा माह रेडदिए रेडदिए
धियां तेरियां राणिया.......
              इञा है एह्।
लाल गुडे दी रियोडी दे     
भन्नी दे मरोडी दे 
दिन्दिया दुआन्दिया   
कोठे हथ पुआन्दिया   
हिरण गया खेडिया   
टोपा पाया पेडिया     
हिरणै लाई सिन्गे दी        
हड्डी भज्जी हिन्गे दी       

टक्कू मक्कू        
तिलचौलिया दा फक्कू       
घुग्गिये घू-घू ...
..

द्विजेंद्र द्विज, बलदेव सांख्‍यान, अनूप सेठी,
राजीव त्रिगर्ती कनै सारे पंच 

3 comments:

  1. वाह जी वाह।
    लोहड़िया दा मजा आई गेया भाऊओ।
    कचकरू वालिया लोहड़िया च 'बिच मलांदी रेत' करी लैह्नयो
    कने मेरा ना ठीक करी देया।

    ReplyDelete
  2. व्‍ट्स ऐप पर पहाड़ी पंची खरी चली पई है। लोहड़िया पर ता मजा ई आई गया। कई नौइयां लोहड़ियां पढ़ी लइयां। इह्दा दयारे जो फाइदा होई गया। एह दयारे पर सम्‍ळोही भी जाणियां। कुशल जी धन्‍नवाद।

    ReplyDelete