Thursday, April 25, 2013

कात्‍था – तीसरी कने आखरी किश्त


सच कनै न्‍याँ जींदा है कनै दुरुस्‍त है


र लखारिये दी सिरजन प्रक्रिया नोक्खी हुन्दी, मेरा हर इक नॉवल प्‍लॉट कनै प्रेरणा दे लिहाजे ने दुए ते लग है। द ट्रांसपैरन्‍ट कैरेट साह्यीं नॉवल सुपनयाँ ते इजाद कीते गये हन, बाकी जीह्याँ द गार्लिक बैलेड्स दे मूल च असली घटनाँ हन । रचना दा स्रोत चाहे सुपना होए जाँ असल जिंदगी, अपणेयाँ तजर्बेयाँ कनै तिसजो मिलाणे ते बाद ही सैह खासियत भरोई सकदी , ताल्‍हू ही तिसजो जीवंत विस्‍तार कने गुंदयो खास पात्तराँ दे जरीये मसाहूर बणाया जाई सकदा , तां ही तिस च इक रज्जियो-पुज्जियो कनै यादां जगाणे वाली भासा आई सकदी कनै ता ईं तिसदा इक सुचिंतित घड़ेया ढांचा खड़ेर्या जाई सकदा। एत्‍थु मैं द गार्लिक बैलेड्स दा जिकर करा दा कि तिस च मैं इक कथां सुणाणे वाले कनै गायके जो इक बड़े ही खास रोल्ले च पेस कित्या है । काश, मैं तिसदा असल नां नी इस्‍तेमाल करदा, हालांकि तिसदे गलायो लफ्ज कनै तिदे कित्यो कम्‍म नॉवले च काल्प्निक थे । इह  देह्या मिंजो कनै कई बरी हुन्दा, मैं पात्तराँ दा असल नां पाई अपणाप्पा  हासल करने ताएं रचना पर कम्‍म सुर्हू करदा कनै जाह्लू कम्‍म पूरा होई जांदा,ताह्लू तक तिसदा नां बदलने तांए बड़ी देर होई चुकियो हुन्दी । इसते हुन्दा इह जे कई बरी लोक अपणा नां आया दिखी, नाराजगी जाहर करना, मेरे पिता होराँ  वला पूजी जांदे। मेरे बदलें मेरे पिता हमेशा माफी मंगदे, कनै तिना ने बिणती भी करदे कि इह दहइयाँ  गल्‍लां जो जादा गंभीरता ने  नीं लैह्न  , पिता बोलदे: रेड सोरम’ नॉवले दे पैह्ल्ले वाक्य , मेरा बुह्ड़ा, इक्की डाकुए दी संतान, ते मिंजो कोई तकलीफ नी होई ता भला तुसां लोक कजो नराज हुन्दे ।’

मेरियां सारयां ते बडियाँ चुनौतियाँ ताह्ल्लू ओंदियाँ जाह्ल्लू मैं सामाजिक यर्थाथ ने जुड़यो नॉवल लिखदा जीह्याँ जे  द गार्लिक बैलेड्स । इस तियैं नी जे मैं समाज्जे देयाँ काळयां पैहलुआं दी सरेआम अलोचना करने ते डरदा, अपण इस करि ने, जे उबळदियाँ  भावनां कनै गुस्‍सा, पोलटिक्‍स जो मोक्का दिन्दे जे सै साहित्य जो दबाई सकै कनै नॉवले जो इस तरीके ने समाजिक घटनां दिया रिपोर्टा च बदली दिंदे । समाज दे इक सदस्‍य दी हैसियत ने इक उपन्‍यासकारे जो अपणा पक्ख  रखणे कनै अपणा नजरिया देणे दा हक है, अपण लिखदिया बारिया तिस जो मानवीय पक्ख ही लैणा चाह्यी दा, कनै इस लिहाज्जे ने ही लिखणा चाह्यी दा। तां ही साहित्‍य घटनां ते जन्‍मीं  सकदा बल्कि तां ही इन्हाँ ते पार भी निकळी सकदा। साहित्‍य तां ही न सिर्फ राजनीति दी चिंता करी सकदा, तां ही सैह राजनीति ते बड्डा भी होई सकदा।

सायद इस ताएं कि मैं अपणी जादा करि जिंदगी मुश्‍कल हालात्ताँ च बिताई , मैं सोचदा जे जिंदगी दे बारे च मेरी समझ जादा गैह्री है। मैं जाणदा जे सच्‍चा होंसला क्‍या हुन्दा, कनै मैं सचिया  बेदणी जो भी समझदा । मैं जाणदा जे लोकां दे दिलां च कनै दमाग्गे च  च इक धुँधला देह्या लाक्का बणी रैंहदा। इक देह्या लाक्का जिसयो गळ्त कनै ठीक  जाँ खरा कनै बुरा दे आम अर्थां च ठीक  ढँगे ने नी समझेया जाई सकदा, कनै ए‍ह विशाल लाक्का सैह  इ है जित्‍थु इक लिखारी अपणिया प्रतिभा जो खुह्ल्ला छडी दिंदा। जाह्ल्लू तक रचना ठीक नजरिये च कनै पूरे रूप्पे च इस अस्‍पष्‍ट, भारी पमाने पर बिरोधाभास भरोये लाक्के दी ब्याख्‍या करदी, ता तिन्‍ने पक्के रूप्पे च राजनीति ते अग्गैं रैहणा है कनै साहित्यिक उत्‍कृष्‍टता बणाई रखणी है।
अपणे कम्‍मे दे बारे च मेरिया इसा लगातार बकबका ने तुसां लोक उकताई गै होणे, अपण मेरी जिँदगी कनै रचनां अप्पुँ च गुणोइयाँ हन, इस करि नै जे मैं अपणे कम्‍मे दे बारे च नी गलाँगा ता मिंजो नी पता मैं क्‍या गलांगा। मेद है तुसां लोक मिंजो माफ करी दिंगे।
मैं नौयें जमाने दा (कात्‍था) किस्‍सागो था जेह्ड़ा  अपणे पिछले कम्‍मे दे पिछवाड़े च जाई लुक्‍कया था, अपण  सैंडलवुड डैथ ते छाऊंआ ते छुत्‍ता मारी बाहर आया। मेरयां पराणयां कम्‍मां च मेरी अपणी काफी बकबक है, आत्‍मभाषणे साह्यीं  , मेरे दमाग्गे च कोई पाठक नीं था। इस नॉवले जो शुरू करदे ही मैं अप्पूँ जो इक चरस्ते पर खड़ोत्या दिक्ख्या जीह्याँ जे मैं ओत्‍थु सुणने वाळिया भीड़ा जो जोस्से ने भरोई अपणी कहाणी सुणाआ दा। इह परंपरा दुनिया भर दे फिक्‍शन च मौजूद है पर चीन च किछ खास इ है । इक टैम था , मैं पश्चिमी आधुनिक फिक्‍शन दा मुरीद था कनै मैं आख्‍यान दियां सारियां शैलियां पर हत्‍थ भी आजमाई लियो थे, आखर मैं अप‍णियां परंपरां दे पासें हटी आया। इह तय था जे इह  वापसी अपणे रूपांतरणे जो भी कन्‍ने लई नै आईयो थी। जीह्याँ जे सैंडलवुड डैथ स्‍थानीय ओपेरा कनै फिक्‍शन दा मिश्रण है, जद्कि मेरा किछ पराणा कम्‍म कला, संगीत कनै एक्रोबेटिक्‍स ते भी प्रभावित रिह्या।

आखिर च, अपणे नॉवल लाइफ एंड डैथ आर वियरिंग मी आऊट दे बारे च गल्‍ल करने तांए तुसांदा ध्‍यान मिंजो चाह्यी दा, एह चीनी टाइटल बौद्ध ग्रंथा ते लेह्या है, मिंजो दसया गिया है कि अपणिया अपणिया भाषां च पेश करणे च मेरयां अनुवादकां दे होश उड़ी गियो थे। मैं बौद्ध ग्रंथां कने मैह्रम नी है कनै तिस धरमें दे बारे च मेरी जानकारी भी त्राह्ल्ली ही है। मैं शीर्षक इस ताएं चुणया कैंह जे मैं मनदा जे  बौद्ध विश्‍वास दे बुनियादी सिद्धांत सार्वभौमिक ज्ञान दा प्रतिनिधित्‍व करदे कनै मनुष जाति दे तमाम विवाद बौद्ध जगत च अर्थहीन ही हन। ब्रह्मांड दे तिस उत्‍कृष्‍ट न‍जरिए ने, माह्णुआँ दी दुनिया दीनहीन ही ठैहरी। मेरा नॉवल कोई धार्मिक रस्‍ता अख्तियार नी करदा, एह माह्णुआँ दिया किस्‍मता कनैं इन्‍सानीं भावनां दे बारे च दसदा, इन्‍सानी हदां कनै इन्‍सानी उदारता दे बारे च दसदा, खुसिया दिया तोप्पा कनैं तिसा खातर लोक कुसा हदा तक जाई सकदे हन, कनै अपणे विश्‍वासां जो कायम रखणे ताएं सैह कितणा त्‍याग करी सकदे हन।

लॉन लियान, जेह्ड़ा समकालीन प्रवृतियां दे खिलाफ खड़ोन्दा , मेरिया नजरां च इक सच्‍चा हीरो है, इक पड़ेसी ग्रांए दा किरसान इस किरदारे दा मॉडल था । मैं बचपने च तिस जो अपणे घरे बखे ते इक लँगड़े गधे ने बह्नियो लकड़िया दिया पहियां वाळिया चरमरांदिया गडिया जो ठेली ने लई जांदे दिखदा था । अगें अगें तिसदी मुड़यां तुड़या पैरां वाली लाड़ी चलदी थी। तिस दौर दी सामाजिक फितरता जो दिखदे होयां इह मजदूर दल इक लग ही तस्‍बीर बणांदा था जेह्ड़ी तिह्नाँ जो तिस दौर दे वक्‍ताँ ते कनारें करी दिंदी थी। असां बच्‍चयां दियां नजरां च, सैह इतिहासिक प्रवृत्तियां दे खिलाफ मार्च करने वाळे जोकर थे, सैह असां दे अंदर देही गुस्‍से ने भरोईया घृणा भड़कांदे थे कि तिना चलदयां पर असां पत्‍थरां मार दे थे। साल्लाँ बाद, लिखणा शुरू करने ते बाद, सैह करसाण कनैं तिनीं पेस कीतियो झांकी मेरे दमाग्गे च तरना लगी, कनै मैं जाणदा था जे इक दिन मैं तिसदे बारे च इक नॉवल लिखणा है, कि देर-सबेर दुनिया जो तिसदी कहाणी सुणाणी है, अपण 2005 च जाह्ल्लू मैं इक मठे दिया दवाला पर बौद्ध म्‍युरल (दुआल-चित्तर) , संसारे दे छह चरण दिखे, ता मिंजो पता लग्गा जे इह क्हाणी कुस ढँगे ने लिखणी है।

मिंजो नोबल पुरस्‍कार देणे दे एलाने ते विवाद पैदा होया, पैहलें -पैहल मैं सोच्‍चया जे मैं किछ विवादां दा नसाणाँ बणी गिया, अपण  टैमे कनै मिंजो एह एहसास होया जे जेह्ड़ा माह्णू असली नसाणाँ है, तिसदा मिंजो ने कुछ लेणा देणा इ नी है। जीह्याँ कोई थियेटरे च नाटक दिखदा, मैं अपणे अख्‍खे-बख्‍खे दे अभिनय प्रदर्शन जो दिखदा था। मैं इनाम जितणे वाले जो फुल्लाँ ने लदोह्या भी दिखया कनैं पत्‍थरां मारने वाळ्याँ कनै चिक्कड़ उछाळने वाळ्याँ ने घिरया भी मिल्ला । मैं डरदा था कुत्‍थी तिस हमले ते सैह हारी नी जाए, अपण सैह फुलमाळां कनै पत्‍थरां दे बिच्‍चे ते निकळी आया, तिसदे चेहरे पर मुस्‍कान थी । तिनीं चिक्कड़ कनै मैल पूह्न्जेया, इक कनारे जाई ने सान्त होई करी खड़ोता कनैं भीड़ा जो गलाया : इक लिखारिये ताएं बोलने दा सारयां ते अच्‍छा तरीक्का है  लिखणा, तुसां लोक्काँ जो मेरियां रचनां च सैह सब मिलणा है जे कुछ भी मैं गलाणा चाह्न्दा।  भाषण ता होआ च उड़ी जांदे, लखोह्या लफ्ज कदी नीं म्टाह्या जाई सकदा। मैं चाहंगा जे तुसां लोक मेरियां कताबां पढ़ने ताएं धीरज दह्सन। मैं देह्या करने ताएं तुसां जो मजबूर नी करी सकदा, कनै फिरी भी तुसां देह्या करदे हन, ता मैं फिरी भी नी चाहंगा जे मेरे बारे च तुसांदी राय बदलोई जाए। दुनिया च कुत्‍थी भी देह्या कोई भी लिखारी प्रगट नी होया जेह्ड़ा सारयां पढ़ने वालयां जो पंसद होए, कनैं इह गल अज दे देह्यां वक्‍तां च होर भी ठीक है।
इह्याँ ता मैं किछ नी गलाणा चाहंगा अपण किछ ता इस मौक्के पर मिंजो करना ही पौणाँ , इस करि मिंजो अपणियां इह गल्‍लां गल्‍लाई लेणा देया  : मैं इक (कात्‍था) किस्‍सागो आँ, अफसानानिगार आँ, इस ताएं मैं तुसां जो किछ क्हाणियां सुणांदा। 1960 दे दशक च मैं जाह्ल्लू तीसरिया च पढ़दा थामेरें स्‍कूलें पीड़ा (बेद्दण) दा इम्‍तहान लेणे ताएं इक फील्‍ड ट्रिप नीणे दा फैसला कीता, असां लोक बाहर गै । मास्टराँ दे निर्देशने च असां खूब अत्‍थरू टराए । मैं अपणे अत्‍थरू अपणियां खाक्खाँ पर टिकाई ते जे मास्टरे दी तसल्ली होई जाए। मैं दिखया मेरे कुछ साथी अत्‍थरू दसणे ताएं अपणयां हत्‍थां पर थुक्की-थुक्की  अपणे चेहरे पर मळा  दे थे। मैं तिह्नाँ चा  किछ सचमुच कुछ झूठमूठ बिलखदयां बच्‍चयां दे बिच इक पढ़ीक दिखया जिस दा चेहरा सुक्‍का था कनै सैह चुप था, तिनी अपणा चेहरा हत्‍थां ने नी ढकया था, सैह बस असां दे पासें दिखा दा था, तिसदिया आखीं हरैनियाँ ने जाँ शायद असमंजस ने फटियाँ थियां।

दौरा पूरा होणे ते बाद मैं टीचरा ने तिस दी शकायत करी ती, कनै तिस जो वार्निंग दित्ती गई गई। साल्लाँ बाद, मुंड़ए दी शकायत करने  तियैं  मिंजो पछताअ होया, मास्टरें गलाया कम से कम दस बच्‍चयां सै ही कित्या था जे मैं कित्ता । मुंडू  इक दशक जाँ कुथी तिसते भी पैहलें मरी भी गिया था, कनै जाह्ल्लू भी मैं तिसदे बारे च सोचदा मेरी अंतर आत्‍मा हिलणा लगदी। अपण मैं इसा घटना ते कुछ सिक्ख्या, कनै सैह एह था : जाल्‍हू तुसां दे अखें-बखें हर शख्‍स रोआ दा होए, ताल्‍हू तुसांदा हक्‍क है कि तुसां मत रोआ, कनै जाह्ल्लू सारे अत्‍थरू सिर्फ दसणे ताएं होंन ता दे‍ह्ये बिच तुसां दे नी रोणे दा हक्‍क होर भी पक्का होई जांदा।

इक होर क्हाणी है : तीह्याँ साल्लाँ ते भी जादा होए, मैं फौजा च था। इक्की संझा मैं अपणे दफ्तरे च बैठया कुछ पढ़ादा था, ताल्‍हू इक सीनीयर अफसर दरवाजे खोली अंदर दाखल होया, तिनी मेरे सामणे दिया सीटा पर नजर पाई कनै भुण्भुण कित्ती, हम्‍म, कतांह मरी गिया हर कोई। मैं खड़ोता कनै उचिया अवाजा च गलाया तुसांदा मतलब है जे कि मैं कोई नी है सीनीयर साथिए दी पुड़्पुड़ी सरमां ने लाल होई गई कनै सैह बाहर निकली गिया। इस वाक्‍ये ते बड़ी बाद तक मिंजो फखर था जे मैं क्‍या होंसला दस्सेया। साल्लाँ बाद, गरव दी सैह अनुभूति अंत:करण दे ज्ञान्ने जो तिक्खा बणाणे दे कम्‍में आई। किर्पा करि इह आखरी क्हाणी सुणने ताएं होर धीरज रखी लेया। इह क्हाणी मिंजो मेरे दादुएं बड़े साल पैहलें सुणाईयो थी : अठ्ठाँ मिस्त्रियाँ दिया इक्की टोल्लिया तफाने च इक्‍की टुट्ट्यो फुट्ट्यो मठे च सरण लई। बाहर बिजलियां कड़का दियां थियां कनै अग्‍गी दे गोळे तिनां दे पासें लपकदे ओआ दे थे, तिह्नाँ ड्रैगनाँ साह्यीं फुफकारां भी सुणियां, आदमी डरे ने कंब्‍बी पै। तिह्नाँ दे चेहरे धूड़ी साही चिट्टे पई गै, तिह्नाँ ते इकनी गल्‍लाया, असां अठां ते देह्या कोई है जिनी कुसी भयानक कम्‍मे ने देवतयां दा कोप स्हेड़या  जेह्ड़ा दोस्सी है सैह अप्पुँ इ सजा भुगतणे ताएं बाहर निकली जाए ताकि जेह्ड़े बेगुनाह हन सैह कष्टे ते बची जाह्न। जाहर है कोई तयार नी होया, फिरी कुह्नकी इक्की गलाया: कैंह जे कोई बाहर निकळना इ नी चाह दा, इस ताएं असां सारयां अपणियां टोपियाँ बाहरे बखें सट्टणियां, जिसदी टोपी मठे ते बाहर उड़ी जांह्गी तिस जो बाहर जाणा पोणाँ, अपणी सजा भुगतणी पोणी’ फिरी सारयां अपणियां टोपियाँ  दरवाजे बखी  उछाळियां, सत्‍त उड़ी ने अंदर हटी आईयां, इक दरवाजे ते बाहर निकली गई, फिरी तिन्हाँ लोकां अठुएं आदमिये जो गलाया जे सैह बाहर चला जाएकनै अपणी सजा कबूल करै , जाह्ल्लू सैह पिच्छैं हटणा लगा ता सभनाँ सैह चुक्‍कया कनै बाहर सटी ता। मैं शर्त लगांदा तुसां जो पता होणा क्हाणीं कीह्याँ खत्‍म होई: जीह्याँ ही तिह्नाँ लोक्काँ सैह बाहर खदेड़या, मठ भुरभुर करदा तिह्नाँ सभनां पर पई गिया।


मैं आँ इक (कात्‍था) किस्‍सागो। क्हाणियां सुणादें- सुणादें मिंजो नोबेल पुरस्‍कार मिल्ला। पुरस्‍कार जितणे दे बाद ते मिंजो कनै कई दिलचस्‍प गल्लाँ  होइयां, कनै तिह्नाँ ते मेरा इह बसुआस पक्‍का होया जे सच कनै न्‍याँ जींदा है कनै दुरुस्‍त है।

इस ताएं मैं ओणे वालया दिनां च भी कहाणियां ही सुणांदे रैहणा है।
तुसां सारयां दा धनबाद।


पहाड़ी अनुवाद : कुशल कुमार
पहाड़ी अनुवाद सहयोग कनै सुधार  : द्विजेन्द्र द्विज
होवार्ड गोल्डब्लाट दे मूल चीनी ते अंगरेजी अनुवाद दे हिन्दी अनुवाद : शिवप्रसाद जोशी
ते साभार : कथादेश







1 comment: