Friday, April 5, 2013

कात्था- दूसरी किस्त

मो यान  मतलब  मत बोल्ला

चीनी लिखारी मो यान  दे नोबेल पुरस्‍कार समारोह च दित्‍‍तयो नोबेल भाषणे  दा इक टुकड़ा:
प्राइमरी स्कूल्ले ते बाह्र  होंणे ते बाद , कैंह जे  मैं जोरे वाळे कम्माँ करने तियें बड़ा छोट्टा था, मैं नेड्डे दिया नदिया कनारें ग्वाळू बणी गिया। डंगरयां चारी हटदे टैम्में मेरी नजर स्कूल्ले दे अंगणे खेलदे बच्च्याँ पर पोंदी थी  ता मैं दुआस होई जांदा था। मिंजो इसा गल्ला दा एह्सास होया जे कुसी तांए  (बच्चे ताएं ) भी कितणा मुस्कल है अपणे ग्रुप्पे ते लग होई जाणा।

समुदरे साही नीले अंबरे हेठ मैं नदिया कनारे डंगरयां जो घाये दे तिस दलीचे पर चरना छडी दिंदा था जेड़ा जित्थु तिकर नजर पुज्जी सकदी थी, फैल्ल्या था । नजारे कोई होर माहणु नी, कोई इन्सानी अवाज नी, मिंजो ऊपर चिड़ियां दियाँ ओवाज्जाँ, मैं निपट किह्ल्ला । मेरा दिल खाली था, काह्ल्ली कुथी  मैं घाये पर लेटी जांदा था कनै अंबरे आह्ळ्से ने भरोये बदलां ताँह-तुआहँ  हिलदे-डुळ्द्याँ  दिखदा था , तिह्नाँ दिखी कइयाँ किस्माँ दे ख्याल ओंदे -जांदे थे । मुल्खे दा ऐह हिस्सा तिह्नाँ गिदड़ाँ दियाँ कथां तियैं भी जाणया जांदा था जेह्ड़े  छैळ जुआन जनान्नाँ दा रूप धरी लेंदे। मैं सोचदा इक छैळ कुड़िया  दे भेस्से इक गिदड़ मिंजो कनै डंगरयां दी भाळ करने जो आई जायै, सैह् कदी नी आई। हालांकि इक बरी, इक भयानक लाल गिदड़ झुड़यां ते निकली छुत्ता मारी मेरे सामणे आई, मेरियां जंघां खिजीं नीणे जो त्यार । गिदड़ी गायब होणे ते बाद भी मैं बड़ी देर तिसा जगहा कंबदा बेह्यी रिहया।

काह्ल्ली-काह्ल्ली  मैं गाईं बिच दुबकी जांदा कनै तिनां दियां गैहरियां नीलियां हाक्खीं च हाक्खीं पायी दिखदा था   सैह हाक्खीं जिना मेरी तस्बीर होदीं था । कई बरी मैं अंबरे उड़दयां पंछियाँ  ने गलबात करना लगदा था , तिना दे क्ळाणें दी नकल तुआरदा था , ता काल्‍ही मैं रुख बणी जाणे दी मेद कनै खाहिश  करना लगदा  था पर पंछियाँ मिंजो पर गोर नीं कित्ती, रुक्खाँ  भी नी, कई साल बीते, कथाकार बणी जाणे ते बाद किछ तिह्नाँ इ फंतासियां जो मैं अपणियाँ क्हाणियाँ कनैं नावलाँ तुआरया। लोक कई बरि मिंजो ते मेरिया  इसा गैहरिया कल्‍पनाशीलता दे बारे जोर देई करी पुछदे कनै साहित्य दे दुआन्ने मिंजो तिस राज जो जाहिर करते तांए बोलदे जिसते देह्यी समरिध कल्‍पनाशीलता बणदी। मेरा जबाव इक फिक्की देह्यी मुस्कान हुन्दा ।

म्‍हारे डाओसी ताओवादी उस्‍ताद लोओ-त्‍से सारयां ते सही गल्‍ल गलाईयो। खुशकिस्‍मती ओंदी बदकिस्‍मतिया दे रस्‍तें, भागां दे अंदर दुरभाग भी दड़या होंदा।’ मैं बचपने च ही स्‍कूल छडी ता, कई बरी भुक्‍खा कनै कताबां ते दूर रिह्या, पर इह्नाँ सारियां बज्हाँ ते, मेरियाँ पैहलकणियाँ पीढ़िया दे लिखारी श्‍अन त्‍सुंगबेन साह्यीं मिंजो जिँदगिया दी म्हान क्ताब काफी पह्ल्लेँ ही पढ़ने जो मिली गई, बजारे च जाई ने कथां वालयां ते कथां सुणने दा तजर्बा इसा कताबा दा ही इक ब’र्का था।


स्कूल्ले छडणे ते बाद बड्ड्याँ दिया दुनिया च मेरी चोट द्योई गई जिह्त्थु मैं सुणने दा सबक हासल करने दी इक लम्‍मी जात्रा शुरु कित्ती। दो सौ साल पैहलें, सारयां बक्‍तां दा इक बोत बड़ा कथाकार प्‍अउ सुंग-लिंग मेरे जनम-स्थान्ने दे नैड़ें ही रैहंदा था, तित्‍थु मिंजो समेत मते सारे लोक तिह्नाँ दिया बणाईया परंपरा जो अगें बधादें थे। जित्‍थु भी मैं रिह्या, क्लैक्टिव कनै खैतरां च कम करना होए, गऊशालां जाँ अस्‍तबलां च, अपणे नानकियाँ ने, बैलगडियां पर, सड़कां पर‍ हच्कोल्ल्यां खांदे मेरे कन्न अतिमानवी, रूमानी कनै बचित्तरता ने बन्‍ही लेणे वालियां क‍थां ने भरोई गियो थे। सब किछ इक कुदरती पर्यावरण कनै इक जात्ती दे त्हियास्से च बझ्या था । इन्हाँ सारियाँ चीज्जाँ मेरे द्माग्गे च इक जोरदार सच्च दा निरमाण कित्ता ।

मै कदी सुपने च भी नी सोह्च्या था जे ऐह् सारियां गल्लाँ इक दिन मेरे फिक्‍शन दा हिस्‍सा बणी जाणियाँ हन। मैं कथा ने प्‍यार करने वाला जागत था, कथां सुणाणे वालयां पर मोह्त था, तिस बक्‍त मैं बेसक आस्तिक था, मनदा था हर जींदे प्राणियें पर आत्‍मां दी किर्पा बर्ह्दी । मैं खड़ोंदा था कनै उच्च्याँ रुक्खाँ जो आद्दर दिंदा था, मैं इक चिढ़ी दिखदा था ता मिंजो पक्‍का जकीन  होई जान्दा था जे सैह जालू चाहे माह्णूँ बणी सकदी ऐ । मैं हर अणजाणें पर शक करदा जे सैह इक खूनखार  जानवर है, राती कम्‍मे ते घरे जो हट्दिया बरिया भयानक डर मिंजो ने सच्ची जांदे थे , कनै बड्डे होंदे जांदे थे , ता मैं फेफ्ड़्याँ खोह्ड़ी गांदा था कनै हिम्त  बटोळ्ने तियैं खिट्टा पई जान्दा था । ताह्ल्लू मेरी बदलोंदी अवाज खुड़द़रे कनै चरचरादें गीत पैदा करदी थी, इह गीत ग्रांए वाळ्याँ  द्याँ  कन्नाँ च पोंदे ता तिह्नाँ जो ईह्याँ लगदा था जणता  कुह्न्की तिह्नाँ दे कन्‍न घरेड़ी ने रखीत्यो ।

मैं अपणिया जिंदगीया दे पैहले इक्‍की साल तिस ही ग्रांए च कट्टे , रेल्‍ला च चिंगदाउ जाणे ते अलावा मैं घरे ते जादा दूर कदी नी गिया था। तित्‍थु मैं लकड़िया दे इक्‍की कारखाने च जमा लकड़ुआं दे भारयां च करीब-करीब गुआची ही गिया था। मेरियें माऊं मिंजो ते पुछया तैं चिंगदाउ क्‍या दिखया ता मैं उदासिया ने गलाया लकड़ुआं दे भारयां ते अलावा कुछ भी नीं, पर तिनें मुसाफरियें मेरे अंदर ग्रांए छडणे कनै दुनिया दिखणे दी इच्‍छा भरी ती।

मैं फरवरी 1976 च फौज्जा च भरती होया कनै पूर्वोतर दे तिस गाउमी कस्‍बे ते बाह्र निकळी आया, जिसयो मैं प्‍यार भी करदा था कनै जिसनै मिंजो नफरत भी थी। मैं जिंदगिया दे नाजक दौरे च दाखल होआ दा था, मेरे पिठुए च चोह्यीं हिस्सेयाँ  च चीन दा संक्षिप्‍त इतिहास किताब पईओ थी , मेरियें माऊं अपणे ब्‍याहे दे गैह्णयां बेची सैह् कताब खरीदी  थी। इस तरीके ने मेरिया जिंदगीया दा सब ते महत्‍वपूर्ण दौर शुरु होया था। मैं इसा गल्‍ला जरुरी मनदा जे चीनी समाजे च विकास कनै तरक्किया दे अभूतपूर्व तीह साल नी ओंदे कनै बाद दे दौरे च चीन राष्‍ट़्रीय स़ुधारां कनै बाह्रे दिया दुनिया ताएं अपणे दरवाज्जे नी खोह्ड़्दा ता मैं लिखारी नी बणी सकदा था।

दमाग्गे सुन्‍न करने वाळिया फौजी जिँदगिया च , मैं 1980 दे दशक दिया विचारिक अजादिया कनै साहित्यिक फाणे दा स्‍वागत कित्ता  कनै क्हाणियाँ सुणने वाळे इक्की जागते  ते निकळी इक ऐसे माह्णुएँ च बदलोई गिया जेह्ड़ा  तिह्नाँ क्हाणियाँ सुणी अपने ढँगे ने लिखणे दे तजर्बे च ढळनाँ लह्गेया था। शुरु-शुरू च इह इक सप्पड़ बत्त थी । मिंजो पता ही नी लग्गा दूह्यीं दशकां दिया मेरिया  ग्रांए दिया जिंदगीया च मेरिया साहित्‍य समगरिया दा स्रोत कितणा भरया-पुरया होई सकदा था । मैं सोचदा था साहित बस एह इ है जे अच्‍छे लोक अच्‍छा करदे हन, नाय‍कां दे किस्‍से कनै आदर्श नागरिक..बस इतणा ही, इस ताएं उस दौरान छ्पेया मेरा कम्‍म साहित दे स्‍तर पर ममूल्ली ही था।

मैं 1984 च, पी.एल.ए. दी आर्ट अकादमी दे साहित विभाग च आई गिया , जित्‍थु मेरे सम्‍माननीय मैंटर , मशहूर लिखारी शू हुजाइजुंग दे निर्देशन च, मैं क्हाणियाँ कनै लघु उपान्‍यास्साँ दी सीरीज लिखी ऑटम फ्लड्स, ड्राई रिवर, द ट्रांसपैरन्‍ट कैरेट, कनै रेड सोरगम, ऑटम फ्लड्ज़ च पैहली बरी गाउमी कस्‍बा परगट होया कनै तिस पले ते बादे ते, अपणिया जमीन्ना दा इक टुकड़ा हासल करी लेणे वाळे इक  करसाणे , इक बण्जारे, इकी साहितकारे जो, तिसदा ठकाणा मिली गिया जिस जो सैह अपणा गलाई सकदा था। पूर्वोतर गाउमी जो अपणा साहितिक लाकका बणाणे दे दौरान, मैं अमरीकी उपन्‍यासकार विलियम फॉकनर कनै कोलिंबयाई लिखारी गाब्रिएल गार्सिया मारक्‍वेज ते बड़ा प्रभावित रिह्या। मैं दूंई जो विस्‍तार च नी पढ़या था पर लिखणे च जिसा निडरता कनै बेबाकिया ने तिह्नाँ अपणी नौंई टैरीटरी बणाई तिसते मैं उत्‍साहित था, मैं तिह्नाँ ते सिखया जे लिखारिये भाल देह्यी जगहा होणा चाही दी जेड़ी सिर्फ तिस दी इ होए।

दीनता कनै समझौते कुसी दिया रोजमर्रा दिया जिंदगीया च आदर्श होई सकदे पर साहित्यिक कृ‍तिया च आत्‍मविश्‍वास कनै अपणे सहज ज्ञान दा पालन जरूरी है। दो साल मैं इह्नाँ दूह्यी उस्‍ताद्दाँ देयाँ पैराँ देयाँ नसाणाँ पर चलया, तिसते बाद मिंजो एहसास होया जे मैं इह्नाँ दे असरे ते निकळना है, इस फैसले जो इक्की  निबंधे च किछ ईह्याँ  पेश कित्ता :

सैह दोह्यो(विलियम फॉकनर कनै गैब्रियल गार्सिया मारक्‍वेज) जळदियाँ भठियाँ थे, कनै मैं बरफे दा इक टुकड़ा, जे मैं तिह्नाँ  दे बड़ी नैड़ें गिया ता मैं भापे दा इक बदळ बणी जाणा। मेरिया समझा ते, इक लिखारी दुए लिखारिये जो ताह्ल्लू ही प्रभावित करदा जे दुईं दे बिच आह्ला दरजे दी इक आत्मिक नजदीकी होए। आमतौर पर जिसा जो कठेब्बे च धड़कदे दिल गलाया जान्दा । इसते एह पता लगदा जे  तिह्नाँ दियां थोड़ियाँ ही रचनां पढ़ने ते बावजूद किछ ही बर्के मेरे इह समझणे ताएं काफी थे जे सैह क्‍या करा दे कनै कीह्याँ करा दे, जिस ते मेरी एह समझ बणी जे मिंजो क्‍या करना चाह्यी  दा कनै कीह्याँ करना चाही दा। 

मिंजो सादगी ही बरतणा चाह्यी दी : अपणिया कहाणियां मैं अपणे ही तरीक्के च लिखाँ, मेरा तरीक्का तिस क्हाणियाँ सुणाणे वाले साह्यीं  था जिसयो मैं खरा कि जाणदा था, क्हाणियाँ सुणाणे दा देह्या तरीका जदेह्या मेरे दादू या दादीया या ग्रांए दे बडयां बुजुर्गां भाल था। साफ गल्‍लायें अपणियां क्हाणियाँ सुणाणे दिया बारिया  मैं सुणने वाळयां दे बारे च जरा भी नी सोचया। शायद मेरी ऑडियंस मेरिया माऊ साही लोकां ने बणिओ थी, कनै शायद मैं अप्‍पुं ही सैह सरोता  था । शुरुआती कहाणियां मेरे अपणे तजर्बेयाँ दे झेह्ड़े थे  - ड्राइ रिवर च कोड़यां खाणे वाळा सैह जागत, या द ट्रांसपैरन्‍ट कैरेट, दा सैह जागत जेड़ा कदी किछ नी बोलदा। स्‍वाभाविक है कि मेरे अपणे अनुभव हूबहू फिक्‍शन दा हिस्‍सा नीं बणी सकदे, भोंए सैह तजर्बे कितणे इ नोक्खे कैंह नीं होन, फिक्‍शन जो काल्‍पनिक ही रैह्णा पोणा, तिस च कल्‍पनाशीलता चाह्यीं दी। मेरे कई दोस्‍त मनदे जे द ट्रांसपैरन्‍ट कैरेट मेरी बे‍हतरीन कहाणी है। मेरी इस बारे च इह देह्यी जाँ ओह देह्यी कोई राय नी है। इह ई गलाई सकदा जे द ट्रांसपैरन्‍ट कैरेट मेरिया लीखिया होर कुसी भी क्हाणियाँ ते बनिस्‍पत जादा प्रतीकात्‍मक कनै अर्थपूरण है। सैह्न करने दे अतिमानवीय माद्दे कनै संवेदनशीलता दिया अतिमानवीय स्मर्था वाळा काळिया  चमड़िया वाळा जागत मेरिया  कलपनाँ  ते उगिया सारिया फसला दिया आत्मा दा प्रतिनिधित्‍व करदा, तिसते बाद रचयो मेरे सारयाँ काल्‍पनिक किरदारां च मेरिया आत्‍मा दे इतणे न‍जदीक कोई होर नी है, जितणा जे सैह जागत । दुए ढंगे ने गलाँ, सैह सारे किरदार जेड़ा इक लिखारी घड़दा, तिह्नाँ च इक देह्या जरुर होंदा, जेड़ा सभनां ते ऊपर होंदा। मिंजो तियैं सैह छोटा जागत  तदेह्या ही है। सैह बेसक्क  किछ नी गल्‍लांदा, अपण बाक्की सभनां ताएं रस्‍ता बणांदा। सैह अपणिया खूबियां कनै रूपां च पूर्वोतर गाओमी कस्‍बे दे मंच पर उन्‍मुक्‍त होई अपणेयाँ रोल्लाँ निभांदे जांदे।

इक इन्‍सान इतणा ही मसूस करी सकदा, कनै जाल्‍हू इक बरी तुसां दियां अपणियां क्हाणियाँ पूरियां होई जांदियां, ताल्‍हू तुसाँ जो दुयां दिया फौजियाँ साह्यीं, टबरे दे लोका दियां, ग्रांए वाळयाँ दियां, बुढयां जबरयां ते सुणियां कदकणे मरयां पूरवजां दियां क्हाणियाँ प्रगट होणा लगी पोन्दियाँ । सैह जीह्याँ मेरे जरीह्ये क्हाणी सुणाणे दा इंतजार करा दे थे। मेरे दादू कनै दादी, मेरे मॉ – बब , मेरे भाऊ भैण, मेरियां बुआं कनै मामे, मेरी लाड़ी कनै धी । सभनाँ दे सभ मेरियां क्हाणियाँ च आई चुक्‍कयो। पूर्वोतर गाओमी कस्‍बे दे पखले निवासी भी अपणी जगहा बणाई चुक्‍कयो। जाहिर है साहित दे रूपांतरण च सैह जिंदगिया ते भी बडयां किरदारां च बदळोई चुक्‍कयो।

मेरे ताजा नावल फ्रॉग्‍स दी मुख किरदार मेरी इक बुआ है, नोबल पुरस्‍कार मिलने दे एलान ते बाद तिह्नाँ दे घरें इंटरव्यू लेणे ताएं पत्रकारां दी भीड़ लगी गई। पैहलें ता सैह धीरजे ने जवाब दिंदी रही पर बाद च तिह्नाँ दिया गैहमागैहमिया ते तिसा जो बची करी निकळना पिया। सैह सूबाई राजधानी च  अपणे पुतरे भाल चली गई। मैं इस गल्‍ला ते इन्‍कार नी करदा जे  फ्रॉग्‍स लीखणे दे टैम्में सै ही मेरी मॉडल थी, पर तिह्नाँ  दे कनै मेरी काल्‍पनिक बुआ दे बिच काफी असमानताँ हन, क्हाणिया दी बुआ अहंकारी कनै दबंग है, कई मौकयां पर बिल्‍कुल ठग नजर ओंदी, जदकी मेरी असली बुआ दयालु कनै सिद्धी- सादी है, खियाल रखणे वाली लाड़ी कनै प्‍यारी माँ है, मे‍री असली बुंएं अपणे सुनैहरे साल खुशियां कनै समरिधिया च गुजारयो जदकि क्हाणिया दी बुआ जो अपणेयाँ अखिरी बह्रेयाँ च आत्‍मा दी यातना ने निंदर नी ओणे दी बमारी घेरी लेंदी है कनै सैह काळा लबादा ओह्डी रातीं जो परछोयाँ साह्यी भटकदी रैंहदी। मैं अपणिया असली बुआ दा शुकरगुजार है जे नावले च अपणा सैह रूप दिखी करी भी सैह मिंजो पर नराज नी होई। मैं तिह्नाँ दिया समझदारिया दा भी कायल है तिनां असल लोक्काँ कनै काल्‍पनिक किरदारां दे बिचला जटिल संबंध सहजता ने समझया।
      
माऊ दे मरने ते बाद, सुन्‍न करने वाळे दुखे च, मैं तिसा तियैँ एक नाबल लिखणे दा फैसला कित्ता । बिग ब्रेस्ट्स एंड वाइड हिप्‍स सैह इ नावल है । इक बरि सुर्हु कर्देआँ इ, मैं इक देह्यिआ भावना दे  सेक्के च तपणाँ लग्गा जे सिर्फ तिरयासियाँ दिनां च ही पंञाँ लखाँ लफ्जां दा ड्राफ्ट लिखी मारया। बिग ब्रेस्ट्स एंड वाइड हिप्‍स च मैं वेहिचक अपणिया माऊ दे असली तजर्बेयाँ दी स्मगरी इ बर्तियो, अपण काल्प्निक माऊ दी भावनात्‍मक हाल्त  जाँ ता कुल मिलाई ने बणाई गईयो है या सैह पूर्वोतर गाउमी कस्‍बे दिया कई माऊं दा रळ्या-मिळेया रूप है।


पहाड़ी अनुवाद : कुशल कुमार
पहाड़ी अनुवाद च सहयोग कनै सुधार  : द्विजेन्द्र द्विज
होवार्ड गोल्‍डब्‍लाट दे मूल चीनी ते अंगरेजी अनुवाद दे हिन्‍दी अनुवाद : शिवप्रसाद जोशी
ते साभार : कथादेश


No comments:

Post a Comment