Saturday, May 18, 2013

खरियां बुरियां मोहरां


कुछ साल पराणी गल है। रस्‍ते च रात होई गई अपण चान्‍नणी थी कनै घर थोड़ी दूर था। चलणे दा मजा ओआ दा था पर इक्‍की ठारी बड़े घणे दरख्‍त थे कनै तिनां हेठ डरोणा हनैरा था। मने च ख्‍याल आया दिनें धुप्‍पे च ता इनां दी छाऊं बड़ी खरी लगदी पर हुण बुरी लगा दी। तिस बुरे लगणे ने घरें पूजणे तक खरियां बुरियां मोहरां एह कवता लगभग पूरी होई गई। इस हफ्ते दे गिरीराज साप्‍ताहिक 15-21 मई अंक च छप्पियो एह कवता पहाड़ी दयार पर भी पेश है।






खरियां बुरियां मोहरां ईंया ही लगाई दिंदे लोग
खरे-बुरे दे चक्करां च घरां ही गुआई दिंदे लोग

चान्नणिया रुखां दी छाऊं बुरी लगदी
रोंदयां याण्यां दी ऊं-आऊं बुरी लगदी
मरने च ब्याहे दे गीत बुरे लगदे
ब्याहेच सयाळे दे शीत बुरे लगदे
सड़ी जाए ता डाठ बुरी लगदी
भुली जाए ता बाट बुरी लगदी
बुरा लगणे दी बमारी बुरी लोको
जियां बांदरे दे हत्थें छुरी लोको
इस रोगे च मितंरा गुआई दिंदे लोग
हसणे दे टैमे रोणेच मुकाई दिंदे लोग

बदलां ते धुप्प खरी लगदी
कबोलां ते चुप्प खरी लगदी
सौ झूठां ते इक सच खरा लगदा
सौ सोचां ते इक पथ खरा लगदा
कोड़िया जीभा ते छुरी खरी लगदी
सौ कपूतां ते क कुड़ी खरी लगदी

खरा-बुरा सब मने दा खेल
मन मने ता पास, नी मने ता फेल
दुख खरा दखाण बुरा लगदा
सुख खरा बखाण बुरा लगदा
नी होए निंद ता बछाण बुरा लगदा
नी होए जिंद ता जहान बुरा लगदा
तेरा है ना मेरा है चों रोजां दा मेळा है
मेळे च अपणे आपे ही भलाई दिंदे लोक
चचड़ां पिछें खिंदा जलाई दिंदे लोक

कुशल कुमार


http://himachalpr.gov.in/Giriraj/may20132.pdf

2 comments:

  1. कुशल जी, अज एह कवता दुबारा पढ़ी. दुबारा मजा आया. इसा दी लय ताल मजेदार है. तुसां एह लिखिओ, मतलब बणाइयो भी चलदेयां चलदेयां है, भई गैं पटदे जा कनै गल गांह बदधी जांदी. कुछ गूढि़यां गललां भी तुहां कीतियां हन.

    पर इसा लैणा पर फिरी वचार करा-
    ''सौ कपूतां ते इक कुड़ी खरी लगदी''

    जे सपूत हुंदे तो कुडि़या दा ख्‍याल नीं औणा था.
    मेरा ख्‍याल हे जमाना इस मुहावरे ते गांह बधी गेया.

    ReplyDelete
  2. अनूप जी सच जमाना इस मुहावरे ते गांह बधी गेया। पर मुंड़ंआ कुडि़यां दा आंकड़ा किछ होर ही गवाही दे दा। पर मैं तुसां दे सोचणे ने सहमत है कनै ऐह लेण लीखदिया बारिया भी मेरे मने च ऐही ख्या़ल था कि पूतां-सपूतां जो इतणी महत्ता देणा ठीक नी है। हाली भी मते सारे दरवाजे बंद होणे दे बावजूद कुडि़यां दी जगह कनै ख्याल पूतां पर निरभर नी है। कुडि़यां अपणियां बतां अप्पु़ ही बणा दियां। तिना ऐह सारे मुहाबरे कूड़े च पाई तियो। कवता पसंद करने ताएं धन्यवाद।

    ReplyDelete