Thursday, June 20, 2013

पले च चली जाणा

नोंईया मुंबई दी पॉमबीच सड़क रात दिन दौड़दी रैहंदी। खतरनाक सड़कां च इसा दी गिणती है। दसां मीलां दी इसा सड़का पर पता नी अजे तक कितणे लोंकां प्राण गुआये। कुछ दिन पैहलें इक कुत्ति अपणया बच्‍चयां समेत गडीया हेठ आई गयी पर तिसादा इक कुत्‍तु पता नी कियां बची गिया था। सैह बचारा ल्‍हासां तक पूजणे दी पूरा जोर लगाई ने कोसस करा दा था पर इसा नदिया च तरने दा हुनर तिस दिया माऊ च भी नी था एह ता इक छोटा देह्या कुत्‍तु था। बचारा बुरे हालें थकी गिया था कन्‍ने कमजोर भी लगा दा था। मैं बड़ीया मुश्‍कला ने अपणे स्‍कुटरे हेठ ओणे ते बचाया कन्‍ने सड़का ते दूर छडी आया। इस ते बाद मैं चली ता आया पर रात भर मिंजो एही लगदा रिह्या कि इस फिरी कोसस करनी है कन्‍ने अपणी जान गुआई देणी है। असां इन्‍सानां दी ऐह् भावना ही असां जो इन्‍सान बणा दी, कनै कुतयां जो!

अगले दिन मैं फिरी तिसा ठारी खड़ोता। मने च ऐह गल थी कि तिस कुत्‍तुए दा क्‍या होया होंगा। मैं दिखी ने हैरान होई गिया सैह् कुत्‍तु अज दौड़ा दा था। कल के हादसे दी कोई छाऊं कोई असर नी सुझा दा था। शायद इस ताएं ही गलादें। वक्‍त सारयां जख्‍मा भरी दिंदा। मरयां कन्‍ने कोई नी मरदा। ऐह जींदा था दोड़ा दा था पर किल्‍ला लगा दा था। गलादें ना माण्‍हू किल्‍ला ओंदा कनै किल्‍ला ही जांदा अपण  कुत्‍ते माऊ दे पेटे ते ता किल्‍ले नी ओंदे पर जांदे किल्‍ले। 

इस गला पर पेश है मराठी साहित्‍य कन्‍ने कवता दे आदि पुरुष विष्‍णु वामन शिरवाड़कर कुसुमाग्रज दी मराठी कवता दा मूल कनै पहाड़ी अनुवाद।

विष्‍णु वामन शिरवाड़कर कुसुमाग्रज


सुखां दे हंडोळेपर मन भरोणे तक झूटणा
प्‍यारे दिया बरखा च, नौह्ई ने चली पोणा
फिकर, द्वेष, सब कुछ सट्टी देणे,
कनै, चाणचक काह्ल की, पले च चली जाणा

अपणा वजूद इसा दुनिया च दिखणा
अपणा मह्ता कुत्‍थी है क्‍या, हमेशा ऐह टोळ रखणी
अपणयां प्‍यारयां दी हमेशा संभाल रखणी
कनै, चाणचक काह्ल की, पले च चली जाणा 


अपणा सब कुछ, पले च दुऐ जो देई देणा
इक बरी देई ने फिरी ढाई ने कदी नी मंगणा
मिठ्डियां यादां, अपणे मने च कठेरी रखणिया
कनै, चाणचक काह्ल की, पले च चली जाणा


पर? पर हाली तक मैं मता कुछ दिखणा है
इसा दुनिया ते, मता कुछ सिखणा है
ऐत्‍थु, मैं भी कुछ ता बणना है
इस ताएं हाली मैं, भरपूर जीणा है
भरपूर जीणा है भरपूर जीणा है

विष्‍णु वामन शिरवाड़कर कुसुमाग्रज


क्षणात निघुन जायचं

सुखाच्‍या हिंदोळयावर मनसोक्‍त झुलायचं
प्रेमाच्‍या वर्षवाने, न्‍हाऊन निघायचं,
काळजी,द्वेष, सारं फेकुऩ द्यायचं
आणि, अचानक कधीतरी, क्षणात निघुन जायचं


आपलं अस्तित्‍व या दुनियेत पहायचं
आपलं महत्‍व कुठे आहे का, हे सतत शोधायचं
आपल्‍या प्रियजनांना नेहमी जपायाचं
आणि, अचानक कधीतरी, क्षणात निघुन जायचं


आपलं सार कही, क्षणात दुसरयाला द्यायचं
एकदा दिल्‍यावर मात्र परत नाही मागायचं
गोड़ आठवणींन, मनात आपल्‍या साठवायचं
आणि, अचानक कधीतरी, क्षणात निघुन जायचं


पण? पण अजून मला बरंच काही पहायचयं
या दुनिये कड़ुन, खूप काही शिकायचयं,
इथे, मलाही काहीतरी बनायचयं
महणून मला अजून, भरपूर जगायचं
भरपूर जगायचं भरपूर जगायचं….


विष्‍णु वामन शिरवाड़कर कुसुमाग्रज


पहाड़ी अनुवाद : कुशल कुमार

No comments:

Post a Comment