Thursday, February 21, 2013

जाह्लू बरखा बह्रदी धर्मसाळा

  
तिब्‍बती युवा विद्रोही कवि तेनजिन त्‍सुंदे दी कवता When it Rains in Dharamsala दे दो प्‍हाड़ी कनै इक हिंदी अनुवाद पेश हन। इक सिधा अंगरेजिया ते अनूप सेठी होरां कित्‍तया कनै दुआ तेज सेठी होरां। अंगरेजिया ते हिंदिया च अनुवाद अशोक पांडे होरां कीतेया है। एह तिन्‍हां दे ब्‍लॉग कबाड़खाना ते लेया है। 2001 दा पैहला आउटलुक-पिकाडोर नॉन-फिक्शन अवार्ड हासल करने वाळे तेनजिन त्‍सुंदे चैन्‍नई ते ग्रेजूएशन दी डीग्री लैणे ते बाद तमाम खतरयां चक्‍की पैदल ही हिमालय दे दर्रयां लंघी ने अपणी मातरभूमी दा हाल अपणिया हांखीं दिखया। चीन दी सीमा पुलसें पकड़ी नै इन्‍हां जो तिन मीह्ने ल्‍हासा दिया जेला च रखणे ते बाद हटी ने बापस भारत दे पासें धक्‍का मारी भेजीता।     




जाह्लू बरखा बह्रदी धर्मसाळा

बूंदां पैह्नदियां बाक्सिंग ग्‍लब
बूंदां सैह् हजारां
तड़तड़ करदियां पौंदियां
कुट दिंदियां मेरे कमरे जो
टीना दे छपरे हेठ
अंदरो अंदर रोंदा मेरा कमरा
सिजि तांदा मेरा बिस्‍तरा मेरे कागज पत्‍तर.
कदी कदी ए चलाक बरखा औंदी ऐ
मेरे कमरे दे पुछुआड़े ते
धोखेबाज दुआलां खरेड़ी दिंदियां
अपणियां अडियां कनैं
बड़नां दिंदियां कमरे च बरखा दे हाड़े जो
मैं बैठी नै अपणे टापू-देसे दे बिस्‍तरे पर
दि‍खदा अपणे मुल्‍के जो बाढ़ा बिच
अजादिया पर लेख
जेला दे दिनां दियां यादां
कालजे दे दोस्‍तां दियां चिठियां
डबलरोटिया दा चूरा
कनै मैगी नूडल
चाणचक्‍क तरी पौंदे
जिञा आई जांदी कोई
भुल्लियो याद चाणचक्‍क
तकलीफा दे तिन्‍न म्‍हीने
सूइया साह्ई पत्‍तेयां आळियां चीह्लां बिच मानसून
धोतेया पूंजेया साफ हिमालय
चमकदा संझके सूरजे नै
जाह्लू तक बरखा चुकी न जाऐ
कनै कुटणा बंद करै मेरे कमरे जो
मैं दलासा देणा है अपणे टीना दे छपरे जो
सैः लगेया ड्यूटिया
अंग्रेजी राजां दे बक्‍तां ते
इस कमरे हेठ रैह्
कई बेघर लोक
हुण करी लेया कब्‍जा नौळां
कनैं चूह्यां, कंधाकडि़यां कनैं कणेह्यां
थोड़ा जेह्या मैं भी लैह्आ है कराए पर
घरे ताईं कमरा कराए पर
एह है नम्रता नै होंद अपणी
जिञा मेरी कश्‍मीरन मकान मालकण
असियां सालां दी मुड़ी नी जाई सकदी घरैं
असां अक्‍सर लांदे खूबसूरतिया दी होड़
कश्‍मीर कि तिब्‍बत
रोज संझा
मैं हटी औंदा कराए दे कमरे च
मैं मरना नीं है इस ढंगें
कोई न कोई तरीका होणा ई है
निकल्णे दा
मैं रोई नी सकदा कमरे साःई
बथेरा रोई लेया
जेला बिच कनैं
निरासा देयां निक्‍केयां पला बिच
कोई न कोई रस्‍ता
होणा ई है निकल्‍णे दा
मैं रोई नीं सकदा
मेरा कमरा बड़ा बिल्‍हा है

अनुवाद
अनूप सेठी




जाह्लू बरखा बह्रदी धर्मसाळा
बरखा दीयां बून्दां पैहनी नै 'घुसुन्न-ख:लड़',
हजारां दीया हजारां,
फेरदियां कुट्टै:ह्न्जा दब्बलड़
मेरे ओह्बुये जो.
बज्जै टीन-तल्लड़
कळाऎ मेरा कमरा अन्दरो-अन्दर
सेड़ी ता मेरा बछाण कनै कागद-पत्तर.
क:दकी चुस्त-चलाक बरखा जे औन्दी
पिछले चन्ने ते स:ह्र्नौन्दी
तां चकी दिन्दीयां अड्डियां
धोखेबाज दुआलां
कनै बड़ना दिन्दियां ओह्बुये च जो
होछ-मोछियां, हाड़ां.
मैं ढैट्ठी नै अपणे टापू-देसे दे मन्जें,
दिखदा अप्णे मुल्के जो बाह्ड़ा दे 'म:ह्न्जें'
अजादिया दे लेखे
जेह्लां दे दिनां दीयां यादां
कालजे दे मित्तरां दीयां चिट्ठियां
ब्रैड्डा दे टुक्कड़-टेरे
न्यूडळां कनै मैगीयां
चाण्चक्क तरी पौन्दीयां
जिञां हटी औन्दी इक्क फळाक्कें
भुल्लीयो याद कोई
तिन्न म्हीने जै:ह्मता दे
सूई-नुमा पत्ते आळियां
चीह्लां च मौनसून
छ:ल्लेया छल्ल्हेरेया छैळ हिमाल्या
चिळकिया संझके सूरजे कनै.
जाह्लू तिक बरखा ठम्कोई न जाऐ
कनै ढल्लाकणा बन्द करै मेरे कमरे जो
मुन्ज्जो दलासा देणा पौन्दा मेरे टीना दे छप्परे जो
सै: जे तणो:ह्या ड्यूटिया
अन्ग्रेज्जां दे राज्जे ते.
इस ओह्बुयें दित्तियो छत्त
मतेयां बेघर लोक्कां ढक्क
हुण करी लेया कब्जा नौळां
कनैं चूहेयां कंधाक्ड़ियां कनै क:ण्हेयां
मिन्द क मैं भी चक्के:या करायें
कराये पर रै:ह्णे जो घर
हौळेयां होणे दा बजूद.
मेरी कश्मीरन मकान-मालक्णी
अस्सीयां ढुकियो ठप्पर मुड़ी नी जाई सकणी घर
असां लान्दे अक्सर होड़ छैळ्पणे दी
भणैं कश्मीर भणैं तिब्बत.
रोज संझकिया
मुड़ी औन्दा कराए दे कमरुयें
पर मैं नी लग्गा मुक्कणा इस हाल्लैं
कड्ढी तां लैणी है कोई काढ
बाहरा जो फिस्कणे दी बाट
मैं तां नी क्ळाई सकदा अपणे ओह्बुये सा:ई
बथेरा भर्ड़ाई चुक्का
जेह्ला च कनैं
चूं चूं नमोस पलां च.
कोई न कोई रस्ता
होणा ई है निकळ्णे दा
मैं रोई नीं सकदा
मेरा कमरू बड़ा बिल्हा है.
अनुवाद
तेज सेठी





जब धर्मशाला में बारिश होती है
मुक्केबाजी के दस्ताने पहने बारिश की बूँदें
हज़ारों हज़ार
टूट कर गिरती हैं
और उनके थपेड़े मेरे कमरे पर.
टिन की छत के नीचे
भीतर मेरा कमरा रोया करता है
बिस्तर और कागजों को गीला करता हुआ.
कभी कभी एक चालक बारिश
मेरे कमरे के पिछवाड़े से होकर भीतर आ जाती है
धोखेबाज़ दीवारें
उठा देती हैं अपनी एड़ियाँ
और एक नन्ही बाढ़ को मेरे कमरे में आने देती हैं.
मैं बैठा होता हूँ अपने द्वीप-देश बिस्तर पर
और देखा करता हूँ अपने मुल्क को बाढ़ में,
आज़ादी पर लिखे नोट्स,
जेल के मेरे दिनों की यादें,
कॉलेज के दोस्तों के ख़त,
डबलरोटी के टुकड़े
और मैगी नूडल
भरपूर ताक़त से उभर आते हैं सतह पर
जैसे कोई भूली याद
अचानक फिर से मिल जाए.
तीन महीनों की यंत्रणा
सुई-पत्तों वाले चीड़ों में मानसून,
साफ़ धुला हुआ हिमालय
शाम के सूरज में दिपदिपाता.
जब तक बारिश शांत नहीं होती
और पीटना बंद नहीं करती मेरे कमरे को
ज़रूरी है कि मैं
ब्रिटिश राज के ज़माने से
ड्यूटी कर रही अपनी टिन की छत को सांत्वना देता रहूँ.
इस कमरे ने
कई बेघर लोगों को पनाह दी है,
फिलहाल इस पर कब्ज़ा है नेवलों,
चूहों, छिपकलियों और मकड़ियों का,
एक हिस्सा अलबत्ता मैंने किराये पर ले रखा है.
घर के नाम पर किराए का कमरा -
दीनहीन अस्तित्व भर.
अस्सी की हो चुकी
मेरी कश्मीरी मकानमालकिन अब नहीं लौट सकती घर.
हमारे दरम्यान अक्सर ख़ूबसूरती के लिए प्रतिस्पर्धा होती है -
कश्मीर या तिब्बत.
हर शाम
लौटता हूँ मैं किराए के अपने कमरे में
लेकिन मैं ऐसे ही मरने नहीं जा रहा.
यहाँ से बाहर निकलने का
कोई रास्ता ज़रूर होना चाहिए.
मैं अपने कमरे की तरह नहीं रो सकता.
बहुत रो चूका मैं
कैदखानों में
और अवसाद के नन्हे पलों में.
यहाँ से बाहर निकलने का
कोई रास्ता ज़रूर होना चाहिए.
मैं नहीं रो सकता -
पहले से ही इस कदर गीला यह कमरा.
अनुवाद
अशोक पांडे





When it Rains in Dharamsala
Raindrops wear boxing gloves,
thousands of them
come crashing down
and beat my room.
Under its tin roof
my room cries from inside
and wets my bed, my papers.
Sometimes the clever rain comes
from behind my room,
the treacherous walls lift
their heels and allow
a small flood into my room.
I sit on my island-nation bed
and watch my country in flood,
notes on freedom,
memoirs of my prison days,
letters from college friends,
crumbs of bread
and Maggi noodles
rise sprightly to the surface
like a sudden recovery
of a forgotten memory.
Three months of torture,
monsoon in the needle-leafed pines,
Himalaya rinsed clean
glistening in the evening sun.
Until the rain calms down
and stops beating my room,
I need to console my tin roof
who has been on duty
from the British Raj.
This room has sheltered
many homeless people,
now captured by mongooses
and mice, lizards and spiders,
and partly rented by me.
A rented room for home
is a humbling existence.
My Kashmiri landlady
at eighty cannot return home.
We often compete for beauty:
Kashmir or Tibet.
Every evening,
I return to my rented room;
but I am not going to die this way.
There has got to be
some way out of here.
I cannot cry like my room.
I have cried enough
in prisons and
in small moments of despair.
There has got to be
some way out of here.
I cannot cry;
my room is wet enough.
Tenzin Tsundue 

11 comments:

  1. Dear Kushal Kumar ji,

    I enjoy your creativity in pahari dayar and am all praise for it.Please keep it up.

    With best wishes,
    Sushil Kumar Phull

    ReplyDelete
    Replies
    1. Dr. Phull, Thanks for encouragement.

      Delete
    2. तिबती कवि तेनजिन त्‍सुंदे दी कवता ’पहाड़ी द्यारे’ च पहाड़ीया च कनै हिन्दीया च म:ढ़ीयो, हुणै हुणै पढ़ी, ब:धीया लग्गी. अशोक पांडे होरां दी हिन्दीया च अनुवादीयो कवता झमाझम ब:ह्रदे सुण्णाट्टे सा:हईंयें गान्दी बुझ:ओआ दी-बड़ी सुआदळी.

      Delete
  2. तिब्‍बती कवि ! बहुत अच्‍छी कविता, भाई अनूप जी बहुत अच्‍छा अनुवाद, भाई तेज सेठी जी, कुछ और अच्‍छा पहाड़ी अनुवाद, अशोक पांडे जी हिंदी में बहुत अच्‍छा अनुवाद।

    ReplyDelete
  3. भाइयो,
    तुसाँ त्रींह मितराँ बड़ा पुन्न खट्टेआ.
    कविता दा सारा सन्देस बड़े कामयाब
    तरीके नें, असाँ तिकर पुजाई दित्ता.
    सारियाँ मुस्कलाँ परन्त भी कविये दिया हिम्ता
    जो सलाम. दुआल्लाँ कनैं माहणुए च
    क्या फर्क है, कवियें बड़ा छैळ पुजाया पाठके तिकर.


    ” उसका है अज़्मे-सफ़र और निखरने वाला
    सख़्त मौसम से मुसाफ़िर नहीं डरने वाला”


    ReplyDelete
  4. भाइयो, तुसां सारेयां दा बड़ा सुकरिया. मते साल पैह्लें एह कविता मुंबई दिया इक्‍की संझकिया अखबारा च छपी थी. मैं मजाके मजाके च ई इक्‍की कागजे पर प्‍हाडि़या च लिखी छड्डी. फिरी अंगरेजिया दा मूल गुआची गया कनै प्‍हाड़िया दा सूद खूंजेया खांजेयां च लुकी रेह्या. इक दिन कबाड़खाने आळे अशोक पांडे होरां अनुवाद चपकाई ता. में तिनहां ते मूल मंगेया. फिरी सूद पळयाया. अपर जेह्ड़ी जबान तीह साल पचाहं छुट्टियो होऐ, तिहा किन्‍ना क साथ देणा. इहा कवता च दो लफ्ज हाली भी चुभा दे - 14वियां लैणा च 'बाढ़ा'कनै 384वियां लैणा व नम्रता. कवता तेज भाई होरां गें भेजी. तिन्‍हां इसा च जबरदस्‍त एनर्जी भरी ती. हुण मितरो दस्‍सा भई बाढ़ा जो तेज होरां साःई 'हाड़ा' लिखिए कि कुछ होर. कनै नम्रता तो 'हौळयां' कि किछ होर.

    ReplyDelete
  5. भाई अनूप जी, लफ्जां ताएं जबान नी रुकणा चाही दी। नी मिलगे ता धुआर लई लेंगे। धर्मशाळा दी बरखा च भी तेनजिन त्‍सुंदे दे सुर ऐही गादें लगे। सच दस नी माए धर्मशाळा दिया राहें तिब्‍बत कितणी की दूर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. कुशल जी ए तां तुसां बड़े पते दी गल कीती ऐ.

      Delete
  6. The poem is classic. The translation of Tej Sethiji is more closer to English Version.
    Dr. Dutt

    Sent from my iPad

    ReplyDelete
  7. Tenjin hora de angrejiya ch likheyo bhavan jo pahadi bhasha ch pesh kita aadraniy Tej Sethi ji, Anup Sethi ji dono anuvad bade banke. padhi ne honsla mila himmat milli. aabhar

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुमित जी, तुसां दयारे पर आए कनै दो साल पराणी पोस्‍ट पढ़ी, बड़ा धन्‍नवाद। ब्‍लौगे दा एह् फायदा है, चीजां सम्‍ह्ळोई रैह्न्‍दियां। व्‍ट्स ऐप च गल्‍लां मुस्‍का स्‍हाई फैलदियां पर कपूरे साह्ई उड़ी जांदियां। खुसिया दी गल है हुण तुसां भी दयारे नै जुड़ी गै हन। हुण इह्दी छौं होर भी ठंढी हुंदी जाणी है।

      तुसां दिया टिप्‍पणिया दे ब्हानैं एह् ''त्रिमुखी'' कवता मैं दुबारा पढ़ी, बड़ा मजा आया। हौसला भी बधया।

      Delete