Friday, February 1, 2013

कहावतां अंदर कथा बी





मौलिक ता नीं हा पर सदियां ते लोक प्रचलित हा। कुछ कहावतां जे ओ जे कथा बी ही। कुछ सच्‍ची गलां। कहावता दी तर्जा अंदर कथा देखा चार दोस्‍तां री गल्‍ल बातां सुण तीतर क्‍या बोलेया करांहां..
मौलवी ए‍ह् बोला दा  'सुभान तेरी कुदरत....।'
पंडत ए‍ह् बोला दा सीता,राम,दसरथ....।'
बाणिया ए‍ह् बोला दा नून,तेल,अदरक....।'
पहलवान ए‍ह् बोला दा – 'खा घी,कर कसरत....।'
ए‍ह् कहाणी सोलन जिले दे नालागढ़ अंदर आम सुणाई जाहीं।
हुण कुल्‍लू री कहावत कथा कुछ इंहां हीं -
पाणी औ पाथर लाऊ कामा....
घराटी मामा पौऊ लामा...।
दो दोस्‍त थे.. मित्‍तर बोला या दोस्‍त। इकी रा नांओं था भगवान... दुजे दा मानस...। दोनों भेड़-बकरियां चारां थे। भगवान आपणी भेड़-बकरियां मानसा बले छाड़ी के दुनिया री सैर करदा निकली गैया। पता नी कितनी साला बाद हटेआ। हटी कने से क्‍या देखांहां जे मानसे पाणी होर पाथर कामा लाईरे मतलब आटा पिसणे रा घराट चलाइरा होर आप मजे कने बाहर पाथरा सुत्‍ती रा।
भगवाने देखेया देखेया होर सोचदा रैहेया.. फेरी आपु है मना मंझ गल्‍ल किती भई एह मानस ता बहोत बदली गया.. एस ता मुंजो भी पाणी होर पाथरा साही कामा च लाई देणा। बस फेरी क्‍या भगवान तेथी ते खिट मारी के न्‍हसी गया। मानस हाका हे पांदा रही गैया। बस से ध्‍याड़ा से बार.. भगवान केसी बी मानसा जो कधी बी केते बी नी मिलेया।
एथे एक एहड़ा सच जे जे आज आसां रे समाजा रा कलंक ता हा है..- बेटिया जो जमणे ते पैहले ह मारी के आबादी अंदर जनाना री कमी खतरनाक सीमा तक ल्‍याई चुकी रा.. कांगड़े, मंडी, चम्‍बे, सकेता सारे राजबंसी बेटिया जोमेधे हे मारी दें हें थे। बोलाहें जे बचिया रा गला घुटी के तेसारे मुंहां गुड़ पाई देहें थे.. हाथा पूणी पकड़ाई देहें थे। ता फेरी कहावत चली गुड़ खाईं पूणी कतीं... आप न आईं.. वीर नों भेजीं। राजबंसी क्‍या होर बी एहड़ा करांहां थे। ऐथे इधीरा बरोध ता खूब हा. पर धर्मभीरू, भगत, अहिंसा रा पुजारी समाज एह पाप भी करां हां...

केशव चन्‍द्र 


2 comments:

  1. वाह भई ! भाई केशव चन्द्र जी,
    बड़ी मीट्ठड़ी बोल्ली,
    जिञां ’मिट्टड़िया’ बाहरैं चासणी,
    अन्दरैं लपेटी नै दवाई दी गोळी.
    प:ढ़देयां खोपड़ीया खून दौड़ै
    गौंयें गौयें पोल खो:ह्ल्ली.
    कनैं कहवतां मंझ कथा,
    कनैं कथां मंझ मानस व्यथा.
    होर लिक्खा, इसा बोल्लिया च
    होर मता, लिखणा मत्था.

    ReplyDelete
  2. केशव चन्द्र जी होरां एह लेख हिमाचल मित्र च अनूप सेठी जी दा लेख ‘गल सुणा’ पढ़ी करी 2006 च भेजया था। सच! केशव चन्द्र जी बड़ी मीट्ठड़ी बोल्ली लीखदे। तेज जी असां भी चाहंदे कि हिमाचल मित्र नी छपा दा तां भी केशव जी इसा बोलीया दे हिमाचली मितरां तांए लीखन।

    ReplyDelete