Monday, December 3, 2012

बाल ठाकरे होणे दे मायने।






बाल ठाकरे होरां दा निधन होई गिया। ऐत्‍थु मुंबई ही नी सारे देशे च बाल ठाकरे दिया वचारधारा जो गाली देणे वाले कन्‍ने बाल ठाकरे जो पूजणे वालयां दी कोई कमी नी है। मेरिया नजरांच बाल ठाकरे दा जाणा स्‍थानीयता दे सबते बडे तानाशाह  दा जाणा है। हालांकि अनूप सेठी होरां दा नॉम चॉमस्‍की दा अनुवाद बाद च पढ़या कन्‍ने कताब गुआची भी गई। पर मिंजो कदी भी स्‍थानीयता दा आग्रह बुरा नी लगा। शायद इसदी इक बजह ता ऐह है कि मिंजो पैहलें भी कन्‍ने अ‍ज भी अपणे हिमाचली होणे दा अपणिया बोलिया पर फकर है और इस ताएं मिंजो बाल ठाकरे ही नी कुसी दा भी अपणी भासा कन्‍ने स्‍थानीयता पर जोर देणा बुरा नी लगदा। इस दे बावजूद बाल ठाकरे देयां बचारां ने अमुमन सहमत होणे ते बावजूद तिना दे कम करने दे तरीके ने मैं कदी भी सहमत नी होई सकया। बाल ठाकरे दी शिवसेना मिंजो ते छे साल छोटी है। तिस जमाने च इक आसा थी कि ओणे वाला टैम हिंदिया दा है। मैं नगरपालका दे जिस हिंदी स्‍कूले च पढ़ा दा था। तिस च तेलगू कन्‍ने उडि़या परिवारां दे बच्‍चे भी पढ़ा दे थे कन्‍ने बंबई च इनां सारियां भासां दे स्‍कूल भी थे।
दूजी बजह ऐह है कि मुंबई दी जेड़ी स्‍थानीयता है सैह मेरी भी है। ऐह इस देशे दियां सारियां स्‍थानीयतां दे मिलने ने बणियो। वैसे असां दी ही नी दुनिया दियां सारियां बडीयां राष्‍ट्रीयतां स्‍थानियतां दा मेळ हन। असां दे सोच, बरताब कन्‍ने व्‍यवस्‍था च स्‍थानीयता कन्‍ने धर्म कुटी-कुटी भरोयो पर इस पर गल करना गुनाह है। स्‍थानीयता कन्‍ने हिंदु धर्म दा पक्ष लेणा ता घोर पापां च शामल है। बाल ठाकरें धर्मनिरपेक्ष कांग्रेस दे राजे च ऐह पाप किते कन्‍ने गजीबजी ने किते।      
बाल ठाकरे दी कर्मभूमी मुंबई तेड़ी भी देशे दी आर्थिक राजधानी थी कन्‍ने सारे देशे ते लोक रोजीरोटी ताएं मुंबई ओणा लगी पियो थे। जेड़े लोक बाहरे ते ओआ दे थे तिनां च घरे ते दूर होणे दे कारण इक स्‍वाभावगत एकता कन्‍ने कर्मठता थी। नौकरियां कन्‍ने कमधंधयां पर कुछ बाहरी लोकां दा कब्‍जा था। ऐत्‍थु तिक की सरकारी नौकरियां च भी था। स्‍थानीय लोक बिखरयो होणे दे कारण हासिये पर थे। इस कारण तिस जमाने च इक व्‍यंगकार कार्टून बणाणे बाले बाल ठाकरें दखन दे लोकां दे विरुध कन्‍ने नौकरियां च अस्‍सी प्रतिशत स्‍थानीय लोकां जो देणे ताएं मुंबई आमची दा नारा लाया। इस दे जबावे च मजाक उडाणे ताएं नारा बणया। भांडी घासू तुमची।
ऐह मजाक इक जख्‍म बणी मराठी मानसिकता जो अज भी कचोटदा। पर इस नारे जो लगांदे ही ठाकरे जो भीड़ा दी स्‍वारी मिली गई। ठाकरे जो इसा भीड़ा दिया सवारिया दा देहया चस्‍का पिया कि सैह मरने तक इसा ते नी उतरे। अंतिम यात्रा च भी लखां दी भीड़। इसा बारिया भी मुंबई डरे ने ही बंद होयी पर भीड़ डरे दी नी श्रद्धा दी थी। बाल ठाकरें जगह-जगह शांखा दा जाळ बुणी संगठन बणायी ने आम आदमी यो शिवसेना ने जोड़या। छोटे-मोटे कम करने वाले आम आदमियां जो चुनाव लड़ाई ने नगरसेवक कन्‍ने विधायक बणाई ता। तिनां ते कई बाद च होरनां पार्टीयां च भी चली गै कन्‍ने अज बडा नां हन। इसा भीड़ा च सैह भी शामल थे। इस दे कारण सैह मरने ते बाद भी भीड़ा पर सवार थे। कन्‍ने सब बंद था। ऐत्‍थु तिक की फेसबुक पर टिप्‍पणी करने ताएं दो कुडि़यां पुलसें ही जेला च बंद करितियां।   
ऐह सच है कि सैह भीड़ कठरने च माहिर थे पर इसा भीड़ा जो सैह महाराष्‍ट्र दी सत्‍ता च नी बदली सके। इसा जो कोई दिशा नी देई सके या दिती नी। भीड़ खड़ोतियो ही रही गयी। सवार झूटदा रिहया। वैसे भीड़ा दी सवारी कोई शोखा कम नी है। कोई कितणियां भी चारे गद्दी भी भेडां दा गुलाम ही होंदा। ऐत्‍‍थु गौर करने वाली गल ऐह कि इसा भीड़ा दा एजडां कोई इतणा खतरनाक नी था और महाराष्‍ट्र दियां नजरां ने दिखा ता बुरा भी नी था। जै चैन्‍नई तमिलां दी होई सकदी। कोलकाता बंगालीयां दा। ता मुंबई मराठीयां दी। इस च गलत क्‍या है। जिसा पार्टीया दा अजे तिक महाराष्‍ट्र च राज चलदा आया। होरनां प्रातां च तिसादा ऐह घोषित-अघोषित एजडां है ता ऐत्‍थु तिनें इस जो अपनायी ने इसदी हवा कैनी कडी।
शायद ऐत्‍थु मतियां सारियां ताकतां दे कारण दिल्लिया दा दवाब था या महाराष्‍ट्र दे कोकण कन्‍ने पश्चिम दी अंदरूनी राजनीति थी। होर पार्टीयां इस ते कतरादींया रही गईंया। बंबई कन्‍ने नेड़े-तेड़े रैहणे वालयां मराठी लोकां च बाल ठाकरे कन्‍ने शिवसेना मजबूत होंदी गई। जै भी था ठाकरे दी दहशत थी या क्‍या था।  सरकारी कन्‍ने नियोजित सैक्‍टर च नौकरियां मिलणे दे कारण इक ठाकरे भक्‍त मराठी शहरी निम्‍न-मध्‍य वर्ग पैदा होया। पर सबते बुरीयां दो गलां होईयां। इक बाल ठाकरे दे कम्‍म करने दे इस तरीके जो मानता मिलदी गई। दुई मुंबई दे कॉस्‍मोपोलिटन समाजे च इक घृणा कन्‍ने अविश्‍वास दा वातावरण बणदा गिया।
लोकसत्‍ता दे संपादक डॉ अरुण टिकेकर दा गलाणा ठीक है कि बाल ठाकरे महाराष्‍ट्र ताएं मता कुछ करी सकदे थे। शिक्षा पर ध्‍यान नी देणे दे कारण महाराष्‍ट्र दी ज्ञान कन्‍ने  संस्‍कृति दी उदार छबि जो धक्‍का लगा। इसते मराठी माणुष दी सोच भी संकुचित होई कन्‍ने तिना दे अंदर असुरक्षा कन्‍ने पीड़ीत होणे दी मानसिकता दे कारण हीन भावना भी पैदा होई। निराशा दे इस मनोविज्ञान दे कारण ही मराठी माणुष सामुदायिक रूप दे हिंसक बणया। मेरा ऐह निजी अनुभव है कि कि जितणी नफरत मराठीयां दे मने च है उतणी ही गैरमराठीयां दे मने च भी भरोई चुकियो।   
मीडिया ने बाल ठाकरे दी बरासत दा रोळा पाया। जित्‍थु तक बरासत दी गल है। सारे देशे च इसादे संभाळने वाले मौजूद हन कन्‍ने बधदे ही जादे। छोटिया देईया गलां ताएं बसां-ग‍डीयां फूकणा, अग लाणा ता मौलिक हक्‍कां च शामल होई चुक्‍या। इक-दो साल पैहले नौकरियां च अपणिया जाती ताएं आरक्षण दी मांग लई कुछ लोकां कई हफतयां तिक सारे देशे दे रोड़-रेल बंद करी ते। इतणा ता शायद बाल ठाकरे भी नी करी सकया। उस ते बाद तिना दियां मांगा पर गौर भी किती गई। लोकतंत्र है, मीडिया है, कोर्ट है। पर इसते लोक च ऐह संदेशा जांदा कि कन्‍नां हेठ बजाणे वाली ठाकरी भासा जादा कामयाब है।
असां दे इस देशे च कई धर्म, भासां, संस्‍कृतियां हन इस ताएं आजादीया ते बाद मसलयां जो अदर्शां दिया धूड़ा हेठ दबणे दी जेडी नेहरू कार्यप्रणाली कांग्रेसें अपनायी तिस दे कारण धूड़ी ते मयाळ निकलदे रैहदें। अग लगादें रैहदें। कश्‍मीर, पंजाब, असाम, दंगे, बम धमाके, नक्‍सलबाद नी मुकणे वाली लंघीर है। लखां निरपराध लोक अपणिया जानी गुआई चुके कन्‍ने अज भी गुआ दे। अज भी कोई संबाद नी है। अज धूड़ पाईती कल की कल दिखगे। अज भी इस देशे भाल धर्म, भासा, शिक्षा, प्राकृतिक संसाधन नदियां दा पाणी कैसी दी भी ना कोई नीति है ना समझ। जिसदा जितणा बडा मुंह सैह उतणा बडा मुच्‍च मारी जादा।  
मराठी माणुष दी गल होए या हिदुत्‍व दी। ठाकरे दी सोच इक आम मराठी कन्‍ने इक आम हिंदु दी भावनां दे करीब थी। भावनां अक्‍सर गलत होंदियां। ठाकरें अपणी राजनीति इना दे सवालां लई व्‍यंग्‍य कन्‍ने कार्टूनां दी भासा च कीती। तिनां दिया भासा च चुभन भी थी कन्‍ने अतिरेक भी। चुनाव लड़े, हारे-जिते समझोते भी किते। पर ठाकरें मराठी समाज कठा ही किता बंडया नी।
जितणा कि मैं बाल ठाकरे जो समझया सैह अपणी हिंदु कन्‍ने जातीय पछेणा पर जान देणे वाले थे। अभिभूत कन्‍ने वशीभूत भी थे। कोई भी पौधा बडा दरख्‍त ताहीं बणदा जै तिसजो बधाणे वाली जमीन, पाणी, ताप कन्‍ने वातावरण मिले। कदेया भी सही पर बाल ठाकरे दा हिदुंस्‍तान दी राजनीति च बहुत बडा योगदान है। तिनां जो मेरे ऐही श्रद्धांजली है कि अपणया लोकां ताएं कुसी जो बाल ठाकरे नी बणना पोए। तिनां दी स्‍मृती जो हार्दिक नमन। 
कुशल कुमार

2 comments:

  1. कुशल जी आंऊ तुहांरी गल्ला ते सहमत हा मिंजो लगता जे बाल ठाकरे अपणी ताकता दा साईं यूज करदे तां से मुम्बैया जो होर अग्गे बधाई सकते थे |
    भोत बदिया लगया तुहांरा ए लेख पढ़ी ने जो राष्ट्रीय महत्व रखदा हा=

    ReplyDelete
  2. भाई। अनं‍त आलोक जी। तुसां जो लेख पसंद आया। घन्‍यवाद। तुसां दा गलाणा ठीक है सैह अपणिया ताकता दा सही इस्‍तेमाल नी करी सके।

    ReplyDelete