Tuesday, December 25, 2012

हिमाचले दी सत्‍ता पर नौंई सरकार होई गई सवार।



पिछलयां कुछ सालां ते विकास नायें दिया अन्हिया दौड़ा च हिमाचल भी शामल है।
इस ताएं पहाड़ी दयारां दा पहाड़ां पर जीणा मुश्‍कल होंदा जादा।
बदलां ने मिली ने अम्‍बरे छूणे वाले धरती पर लम्‍मे पेयो मिला दे।
झुंडां च बसणे वाले किल्ले पोंदे जा दे।  
ऐह ता सच है कि कुछ पाणे ताएं कुछ गुआणा भी पोंदा।
                  इस ताएं
पहाड़ी दयार भी चाहदां कि प्रगती दा बुलडोजर चल्लै
 
  • कन्‍ने असादें प्‍हाड़ां भी चढ़े-
  • पर खडां-नदियां कन्‍ने रुखां दरख्‍तां बिचे ते बाट बणाई नै चल्लै
  • प्‍हाड़ा पर रुख कन्‍ने बर्फ जमी रैहन्
  • खड्डां च पाणी कन्‍ने पत्‍थर बणी रैहन्
  • कस्‍बयां ते बडे नगर बणन पर इक योजना दे तेहत
  • मुंबई-दिल्‍लीया साही झुगियां नी बणन
  • कुल्‍हां कन्‍ने नाळू गटरां च तब्‍दील नी होन
  • शामलांता, सरकारी कन्‍ने बणां दी जमीना पर दबंग कन्‍ने रसूखे वाले कब्‍जा नी करन
  • सड़कां कन्‍ने चिपकीयां बेतरतीब दुकानां नी बणन
  • सै‍ह जमाना गिया जालू कारखानें हत्‍थां जो कम दिंदे थे
  • इस ताएं सोच्या जाए कि हिमाचले जो इनां दी कितणी की जरूरत है
  • पर्यटन दा केंद्र होणे दे कारण इक होटल-रिसार्ट कारखाने दे जादा हत्‍थां जो रोजगार देई सकदा
  • भूमंडलीय अपसंस्‍कृति दे जोरे अगें असां सारे लाचार हन पर
 फिरी भी सरकारां ते असां मेद रखी ही सकदे!
 
  • जिलयां, तसीलां, कस्‍बयां च लाइब्ररेरियां बणन
  • हिमाचली संस्‍कृति, भासा कन्‍ने बोलीयां जो बढ़ावा देई ने हिमाचली पछेण पुख्‍ता किती जाए
  • हर जिले च गेयटी थियेटर साही ऑडीटोरिम कन्‍ने कला गैलरईयां बणन
असां पहाड़ी लोक बडीयां मेंदा रखदे ही नी

भला मियां वीरभद्रा शिमलें बंगलु तेरा
इना निक्कियां-निक्कियां मेंदा जीणा दे।

कुशल कुमार

1 comment:

  1. आदरजोग कुशल जी , अच्छा लगया तुसे किछ उमीदां नवी बनी सरकरा ते लाई री इक गल्ल होर बडी जरुरी हाउ समजा दा हिमाचले री अपनी भाषा बाणन |

    ReplyDelete