Sunday, January 6, 2013

शरमिंदा है।


वैसे बड़ी ही मैली है असां दी चादर।
पर एह गुनाह! ऐह जख्‍म!
लोक सड़कां पर हन पर कोई रस्‍ता नी है। मोमबत्‍तीयां ते अन्‍हेरा बड़ा गैहरा है।
पहाड़ी दयार भी शरमिंदा है।   



तिजो ने क्‍या गलाणा
तैं खरा किता चली गई
असां सारे गुनाहगार हन
एह् धर्म, संस्‍कार, सभ्‍यतां
सब गुनाहगार हन
इना सदियां खर्च कितीयां
त इक जणास बणी
जेड़ी नीठीया मुंडिया चलदी
जिसा दा तन,मन, आत्‍मा
सारा वजूद इकी मुठी च कैद है
तू है कुण,
तू थी कुण,
द्रोंपतियां ताएं भगवाने जो ओणा पिया
सीता जो भगवाने दे बावजूद
अगी ते बचणे ते बाद
धरती च समाणा पिया
हल्‍या जो पत्‍थर बणना पिया
अज भी जमणे ते पैहलें मरना पोआ दा
जेड़ा गुनाह कोई जणास किली नी करी सकदी
तिस ताएं भी दुनिया ते पत्‍थरां खायी मरना पोआ दा
तैं शायद पढ़या होणा
कबीर गलाई गिया
साधु ऐह् मुरदों का गांव
मुड़दयां ते क्‍या मेद
इकी मरदे तांए जनाना होंदी क्‍या?
तैं भी अपणिया इसा छोटिया उमरा च ही
कई बरी घूरने वालीयां आखीं च दिखया होणा
जे बची जांदी ता
सुआलां पुच्‍छी-पुच्‍छी
तू असां ही मारी देणी थी
असां जेड़े मोमबतीयां लई फिरा दे
कन्‍ने फांसी मंगा दे
पर असां दे अंदरले डंगरे जो
कुण फांसी दिंगा 
जेड़ा बारां-तुहारां बंदे मातरम
तू चीज बड़ी है मस्‍त-मस्‍त दी माळा
रोज ही जपदा
जनानां अंदरलिया इसा जनाना जो भी
कुण समझाये
तू नदी है कोई खू नी
इनां गंदया मीनकां
दियां छाळीं ते बड़ी ऊप्‍पर है

कुशल कुमार

2 comments:

  1. कुतु डुब्बी मरिए! हिमाचली होणे दे नातें साचिए तां जेह्ड़ी थोड़ी बौह्त कसर बचियो थी सैह् चौधरिएं पूरी करी ती. कुड़िया दा खून कीता कनै विधान सभा जाई बैठा. तिहा जनता जो भी क्या गलाइए जिनै तिह्जो बोट दित्ते.

    ReplyDelete
  2. भाई कुशल कुमार जी,

    मोमबतियाँ दिलाँ दियाँ इ बुझी गेह्यिआँ ता न्हेरा एह देह्या इ रैह्णाँ.तुसाँ कविता च खरी पर्चोळ पाहियो.कानून ताँ असाँ दे लोक्तन्त्रैं खुण्डे ने बह्न्नी पाहेया. हुण मोमबतियाँ दिया अग्गी ने कनून्ने दे बह्न्नण कीह्याँ फकोणे?

    भाई अनूप होराँ सच गलाअ दे।

    असाँ जो डुब्बी मरने तियैं कोई कुफ्फर नीं ऐं.

    बाब्बा तन्तर होर बी पर्चण्ड होई गेह्या. इक्की(अप्पूँ जो हाथी सह्म्झणे बाब्बे जो) ता बाक्की सारे कुत्ते इ सुह्ज्झा दे.क्या करिये!!!!!!

    ReplyDelete