Saturday, November 10, 2012

हिमाचल मित्र मंडल बंबई दी हीरक जयंती।





           हिमाचली प्‍हाड़ी कल्‍चर नाएं दी चिड़ी

बंबई दा हिमाचल मित्र मंडल सठां सालां दा होई गिया। अक्‍तूबरे दी 25 तरीक हीरक जंयती भी मनोई गई। प्रधान पं‍डत शंभुरतन शास्‍त्री होरां ता पूरी कोसस किती पर हिमाचले ते कोई नेता नी आया। सबनां दिया अपणीयां कुर्सीयां ही खतरे च हन। इस ताएं कॅमेडी सरकस वाले अम्‍बरसरी हिमाचली राजीव ठाकुर मुख अतिथि भूमिका च भी मता कुछ गलाई गै। कॅमेडी सरकस दे कलाकार बनबारीलाल झोल ने लोक खूब हसाये। पराणे प्रधानां कन्‍ने ओहदेदारां दा आदर-सम्‍मान कन्‍ने होनहार बच्‍चेयां जो पुरस्‍कार बंडे। फिल्‍मी गीत, हॉट-हॉट डॉंस कन्‍ने इक पंजाबी भंगड़ा। मंच पर इक मंडले दा बैनर था जिस पर हिमाचल लखोया था, राजीव ठाकुर होरां पंज-सत बरी हिमाचले दा नां लिया कन्‍ने बनबारीलाल झोल ने गलाया कि सैह् ऊना हिमाचल ते हन।
जे एह गल्‍लां नी होंदियां ता एह कुसी भी बंबईया संस्‍था दा प्रोग्राम होई सकदा था। ए‍ह गल मिंजो इतणी नी चुभणी थी, जै दो दिन पैहलें मैं दुर्गा पूजा च बंगाली कन्‍ने पूरे देशे दी संस्‍कृतिया च रंगोया प्रोग्राम नी दिखया होंदा। इक नौजवान लोकगायकें रवींद्र ठाकुर दी कवता पढ़ी ने गाणा शुरु कीता। सैह कवतां पढ़ै कन्‍ने गाई भी जाए। तिनी इक बरी भी नी गलाया भई तालीयां बजा। सारा पंडाल अप्‍पुं ही तालीयां बजी नचणा लगी पिया। गलाणे वाळे गलाई सकदे तिनां भाल मता जखीरा है।
जखीरा असां भाल भी है पर ना संभाल है ना मुल्‍ल। हिमाचल कन्‍ने पूरे देसे च सैंकड़ां हिमाचली संस्‍थां हन तिना ते मतियां सारियां दे ता नाएं च भी कल्‍चर है। पर इना दा कल्‍चर भी सरकारी ही है। असां जो आदत भी सरकारां दे मुंह दिखी गैं देणे दी है। हुण ता नाज भी सरकारी डीपूए दा ही खा दे। उपरे ते पापलर कन्‍ने फिल्‍मी संस्‍कृतिया दा दवाब। इस कारण एह हिमाचली प्‍हाड़ी कल्‍चर नाएं दी चिड़ी कुसी ते नी पकड़ोई। है सब कुछ पर असां दा मुहाबरा ही नी बणया। जबान ही नी उपड़ी। कैकी थथळोंदे दे गलादें। भासा जो ता मारा गोळी - कोई पुछै कि कहां से हो? ता बंदे दी नुहार उतरी जांदी पता नी मैं हिमाचल गलांगा ता  इस दिया समझा ओणा की नी ओणा। इस झंझटे ते बचणे ताएं असां झट अपणे आपे जो पंजाबियां च मेळी लैंदे। पंजाबी साम्हणे ता कुछ नी गलादें पर गाहे बगाहे प्‍हाडि़या है, ऐह टोंट मारी दिंदे। असां जो सैह भी नी चुभदा।
हुण ता अपणियां गळियां च भी जबान थथळोणां लगी पईयो। पैहलें कांगरेसी नेते मंडले च आई ने ठेठ प्‍हाड़ी गलादें थे मजा आई जांदा था। हुण राष्‍ट्रभासा वाळे संघियां दा जमाना है। ऐह खड़ोई ने प्‍हाड़ी गलाई ही नी सकदे। हिमाचल मित्र मंडल दे बाईलॉ च भी लिखया है भई पहाड़ी बोलने वाले ही मेंबर बणी सकदे। हाली तक मंडले दियां मीटिगां ठेठ मिलीजुली प्‍हाड़ीया च चलदियां थियां। हमीरपुरी, कांगड़ी, मंडयाळी, बिलासपुरी कन्‍ने ऊने दा तुड़का होंदा था। मंडळे दियां मीटिंगा च भी इस हौआ दा असर पोणा लगी पिया। क्‍या होंगा असां दा। मौजी राम। भात को संभाळो। दाल रुढ़-रुढ़ जाती है।
  
   

 


      
कुशल कुमार

1 comment: