Monday, October 21, 2019

पंजाबी कविता


दर्शन बुट्टर 

                                            पंजाबी कवि दर्शन बुट्टर होरां दी इक होर कविता। 



                     इतणी क गल 

गल ता सिर्फ इतणी थी
भई काणे घासिए दी घसयारनें
मळ्ही ते चक्‍की  
लिपस्टिक लाई नै छपड़े च मुंह दिखेया

इतणी क गल थी न!

छपड़े पर मीनकां दी  
ट्रैं ट्रैं हाली भी कजो चलियो

गल ता सिर्फ इतणी थी
भई डाक गडिया च आया सुरमा
पंज रतियां ते जरा क घट था
चंद्रमे साही चंदकोर  
बह्रले नै रस्‍सा लपेटी नै कैंह् लमकी गई  
गल ता सिर्फ इतणी थी  
भई अज भ्‍यागा भ्‍यागा
ग्रां दिया हद्दा पर आई नै
सूरजे दिया साइकला दी
चेन उतरी गई
एह् ग्रां आळे  
बुझियां लालटैनां पकड़ी कुती जो दौड़दे जा दे  
गल ता सिर्फ इतणी थी  
भई बाज दे पंजे ते छुट्टियां  
चिड़ियां दा फंग
लम्‍मे रस्‍ते च आई पेया
ग्राएं दा सखणा अंबर
संझा तिक  
फंह्गां दियां डारां नै किञा भरोई गेया  
गल ता सिर्फ इतणी क थी  
पर गल सिर्फ इतणी क ही कैंह् थी ... ? … ? 
अनुवाद: अनूप सेठी

                        देवनागरी लिपिया च मूल पंजाबी कवता 


                        ऐनी कु गल्ल
                        गल्ल तां सिर्फ ऐनी सी
                        कि घीचर काणे दी घीचो ने
                        रूढ़ियां तों थियाई
                        लिप्स्टिक ला के छप्पड़ च मुंह वेखिया

                        ऐनी कु गल्ल सी ना!

                        छप्पड़ दे डड्डूआं दी
                        टरैं टरैं अजे वी क्यूं जारी है

                        गल्ल तां सिर्फ ऐनी सी
                        कि डाक गड्डी विच आया सुरमा
                        पंज रतियां तों जरा कु घट्ट सी
                        चन्न वरगी चंदकुर
                        लटैण नाल रस्सा लपेट के कियूं लमक गई

                        गल्ल तां सिर्फ ऐनी सी
                        कि अज सवेरे सवेरे
                        पिंड दी फिरनी ते आ के
                        सूरज दे साइकिल दी
                        चैन उतर गई
                        इह पिंड वाले
                        बुझियां लालटैनां फड़ी किधर भज्जी जांदे ने
                        गल्ल तां सिर्फ ऐनी कु सी
                        कि बाज दे पंजे चौं छुट्टी
                        चिड़ी दा खंभ
                        लम्मी पही च आ डिगिया
                        पिंड दा सखणा असमान
                        आथण तीक
                        खंभा दियां डारां नाल किवें भर गिया

                        गल्ल तां सिर्फ ऐनी कु सी
                        पर गल्ल तां सिर्फ ऐनी कु ही क्यूं सी ...?...?...?

2 comments:

  1. बहुत छैळ जी.... वाह...!

    मूल कवता भी सौगी हुन्दी तां होर खरा था

    ReplyDelete
  2. कोसस करा दे हन जी . छोड़ ही लांदे हन जी .

    ReplyDelete