Thursday, September 5, 2019

पंजाबी कविता



पंजाबी कवि दर्शन बुट्टर होरां दी कविता। 

घर वापसी


हटी आया मैं
पता नीं कुन्‍हां कुन्‍हां  
नछत्‍तरां गाह्यी नै  
मेरेया ग्रां!

मैं हुण
अजकणे रथे दा
लगामा बगैर
पल पल घसोंदा पहिया है

मैं हिमालय हथ्याळिया पर मीथ्‍या
ग्लोबे जो किक मारी
इलाके खीसे च पाए
पर सांत नी करी सकेया
अपणिया रूहा दे कलपदे मोरे जो

मेरेया ग्रां!
तेरियां चरांदां च
टोळा दा है मैं  
कुतकी गुआची गेह्यो
तिस गोल मटोल मुंडुए जो

तिस शरारती छोह्रुए जो
जेह्ड़ा म्‍हैसी दिया पूछा पकड़ी
टोह्बे दे हिंद महासागरे
पार करी लैंदा हा

तिस जुआने जो जिह्दियां मसां फुटणा लगियां थियां
जेह्ड़ा सूरजे जो
साफे दे लड़े नै बह्न्‍नी नै  
चंद्रमे दिया डाह्टिया नै  
फसलां बढदा हा  

मैं टोळा दा
बापुए दे
तिस पढ़ाकूए पुतरे जो  
जिह्दियां कताबां
आढ़तिए दिया बहिया जो  
गलत सिद्ध नी करी सकियां

तिस हारेयो जोद्धे जो
जेह्ड़ा सड़ेयो- गळयो नजामे दिया छातिया च
बरूद बणी फटी नी सकेया

मेरेया ग्रां!
दूर नछत्‍तरां ते वापस आयो
इस ओपरे जेह् आदमिए जो
जरा दस्‍स ता सही
कुतू है सैह्
'गोल मटोल जेह्या मुंडू' 
अनुवाद : अनूप सेठी, सलाह : तेज सेठी

No comments:

Post a Comment