Friday, February 17, 2017

असां कैंह् नीं बोलदे पहाड़ी

एह लेख पिछले साल 3 नवम्बर 2016 जो  दैनिक जागरण दे अभिनव संस्करण च छ्पया था।  

असां पहाड़ी कैंह् नीं बोलदे। इस सुआले दा कोई जवाब नीं है। असां सारे पहाड़िये इस सुआले ते नठदे। जे काह्ली कुथी टाकरा होई भी जाये ता गल्ला ड़ुआई दिंदे। कई भाने हन पहाड़ी नीं बोलने दे। बोलणे दियां बजहां भी कई हन अपर जरूरत कोई नीं है। सैह पीढ़ी जेड़ी पहाड़ी बोलदी थी मुक्‍की चल्लीयो या अगलीयां पीढ़ीयां ते हिंदी-ग्रेजी सिखा दी।  पहाड़िया बगैर भी कम्म चला दाक्या होई जाणा जे असां पहाड़ी नीं बोलगे। पहाड़ी बोली कुथी नोकरी नीं मिलणी। जे पहाड़ी बोली कोई फायदा नीं है ता पहाड़ी कजो बोलणी। सच है अज कले दिया दुनिया च जरूरता ते लावा कोई रिश्ता नीं टिकदा। अपर सोचणे दी गल्ल हैदेहा क्या होई गिया कि असां अपणी मां-बोली बोलणे ते भी रही चुकयो।   
शायद गल्ल जरूरता दी भी नीं है। सारयां ते बडी गल्ल हैअसां जो अपणे-आपे पर वश्वास ही नीं है। असां अपणे वजूद दे बारे च ही डरदे रैहंदे। नहीं ता कुसी दे पुच्छणे पर म्हाचल दे बजाये किछ होर कैंह्  निकलदा। इतणे बडे देसे च शायद ही कुसी होर लाके दे कनै भासा बोलणे वाळे ऐह देयी सोच रखदे होणे। बड़ा अफसोस होंदा। जाह्लु असांदे पढ़यो-लीखयो पुच्‍छदे। जे पहाड़ी भासा है ता ईसा दी लीपी कैंह् नीं है। इन्‍हां समझदारां जो समझाणा बड़ा मुश्‍कल है। भई, जे लीपी नीं है ता असां पहाड़ी छडी देणी। मतियां सारियां लग-लग भासां इक्की ही लीपीया च लखोंदियां। दूर कजो जाणा हिन्‍दी, डोगरी, गढ़वाली, कुमाऊंनी कनै मराठीया दी इक्‍क ही लीपी है। जे असां भी अपणिया पहाड़ीया देवनागरीया च लीखा दे क्‍या बुराई है?
 असां जो लगदा असां दिया भासा कनै प्रदेश जो कोई पछैणदा नींपर सैह टेम बीती गिया। अज असां इक बड़े छैळ कनै बडे नाएं वाळे प्रदेश दे नवासी हन। जिथु तिकर भासा दी गल्ल है।असां इक नूठिया भासा दे मालक हन। जेड़ी बड़ी ही मिठी कनै प्यारी है। जे असां इसा जो सांभी नें नीं रखया ता इसा असां कनै ही मुक्की जाणा। जे मुक्की जांगी ता क्या होणाहोणा एह भई असां बोलन चाही नीं बोलन अपर इसा दे मालक दे तौर पर जेड़ी असां दी पछैण है। तिसा भी मुक्की जाणा। असां सारे भारतवासी हन,पर भारतवासी होणे दा मतलब एह भी नीं है कि असां दी कोई लग्ग पछैण नीं है। दरअसल एह लग्ग पछैणी ही भारत देश कनै असां दी बुणाबट दा जरूरी हिस्सा हन। असां ता राष्ट्रगान जन गण मन च भी शामल हन। इसा बुणाबट ते इक तंदी दा भी टुटणा इस देसे दे वजूद पर इक जख्म है। इक तंद टुटी जाये ता सारी बुणतर भी उघड़ी सकदी। मिंजो लगदा इस देसे दे नागरिक होणे दे नाते भीएह असां दी जिम्मेवारी बणदी कि असां अपणियां-अपणियां भासां-संस्‍कृतियां दिया इसा वरासता जो सांभी रखण।
सारयां ते पेहलें असां जो एह गल्ल समझणा पोणी कि पहाड़ी भासा वाळी ऐह असां दी पछैण। इस देसे दे 125 करोड़ लोकां च शामल होणे कनै इक लग रुतबा देणे दा जरिया भी है। असां दा देस बहुभासी है। लगभग सारे ही लग-लग भासां बोलणे वाळे बड़े ही इज़्ज़त कनै सम्मान ने अपणिया भासां दा नाँ लेंदे कनै तिन्हां जो प्यार करदे। अंग्रेज़ीया दे इतणे बडे तफाने दे बावजूद सैह अप्पु च कनै अपणे घरां समाजां च अपणिया भासां जो जिया दे कनै गांह बधाणे दी कोससां च शामल हन। तुसां सारयां दिखया होणा। एह लोक अपणी भासा बोलणे दा कोई मौका नीं छडदे। इस देसे दे हर लाके दे लोग अपणी भासा बोलदे ता असां अपणी भासां कैंह् नीं बोलना चाहन्दे। क्या कम्मी है असां च कनै असां दिया भासा च। मिंजो ता अजे तिकर कोई नज़र नीं आई। हाँबोलणे वाळे घट हनया लिखित च साहित्य ता हैपर पढ़ने दी कोई परम्परा नीं है। पर असां भाल लोक गीतांफोलणियापखेनालोककथां  दा जखीरा है। टांकरी साही इक लीपी भी थी। होर भी मत कुछ है पर असां भाल इन्हां दा कोई मुल्ल नीं है। उपरे ता असां अपणे आपे जो बड़ा छौटा समझीडरदे रैहंदे।
व्हाट्स एप्प पर मैं इकी हिमाचली ग्रुपे च है। मैं दिखया लोक अक्सर अपणे आपे जो पंजाब कनै जोड़ने दी कोसस करदे रैहंदे। इक टिप्पणी थी कि असली पंजाबी सैह होन्दाजेड़ा सारियाँ भासां पंजाबीया च ही बोलदा। एह ता कोई बडी गल्ल नीं हैअसां दे मते सारे बुजुर्ग हिंदी कनै दुइयाँ भासां पहाड़िया च ही बोलदे थे। सैह पीढ़ी बीती चलियो हुण असां हिमाचली पहाड़िये अपणी पहाड़ी भी पहाड़िया च नीं बोलदे।
 असां कनै दिक्कत एह है कि असां अपणे घरे च ही अपणी भासा बोलणे ते डरदे। क्या पता सामणे वाळे जो मेरी गल्ल समझा ओंगी कि नीं। असां अखलयां-वखलयां जिलयां दिया मिलदियां-जुलदियं बोलीयां भी जिलयां दे नाएं बंडी तियां। मैं सोचदा पिछले टेमे च जाह्लु हिंदीउड़दू होर भासां नीं थियां। ता मंडिया वाळे कांगड़े वाळ्यां नेया कांगड़े वाळे बलासपुरे वाळ्यां नें कुसा भासा च गल्ल करदे थे। इक गल्‍ल ऐह भी है कि असां  पढ़यो-लीखयो अपणिया-अपणिया बोलियां दे लम्बरदार जिसा मानक भासा दी गल्ल करा दे। तिसा मानक भासा दा मसला जे अकादमिक तरीके ने हल होई सकदा होन्दा ता बड़ी पेहलेँ होई जाणा था। पर होंदा ऐह आया कि इक्‍की पासें असां अपणिया-अपणिया बोलीयां बोलणा छड दे जा दे। दुएं पासें इन्‍हां दी लग-लग डफलियां भी बजाई जा दे। असां दी ऐह कोसस की असां इक मानक भासा तयार करनी फिरी सैह गल्‍लाणी कनै तिसा च साहित्‍य लीखणा। या फिरी असां अपणिया-अपणिया भासां जो मन्‍नता ताईं कोसस करी जा दे। मिंजो लगदा असां दी कोसस अपणिया-अपणिया भासां जो इकी-दुए ते लग करने दे बजाए इकी-दुए ने मेळणे दी होणा चाही दी।  
ईंया भी बोलदे की भासां लखारी नी लोक कनै समाज बणांदे। पर लखारियां जो मसाल लई गांह चलना पोंदा। अपर अजादिया ते बाद ही सारे देसे च भासा दे नांए पर देही मरो-मरी पई। सारयां अपणा बेड़ा गरक करी लिया। सब हिंदीया ने घुळदे रैह। अज हालत ऐह शिक्षा कनै पढ़ाईया  ते हिन्‍दीया समेत सारियां ही भासां दा डब्‍बा गोळ होर्इ चलया। पहाड़ीया दा भी ऐही हाल है। पहाड़ीया दे इस मसले जो भी असां दा समाज कनै लोक ही हल करी सकदे थे। सैह होई नीं सकया पर हुण भी किछ नीं बिगड़या,अपणिया अपणिया बोलियां जो प्यार करने वाळे असां सारे ईकी-दुए ने हिंदी या होर कुसी भासा दे बजाए अपणिया बोलिया च गल्ल करन। ईकी दुए दी भासा समझणे कनै समझाणे दी कोसस करन ता असां दी इक भासा होई जाणी। जेड़ी सारयां जो समझा औणी कनै सैह सारयां दी होणी।



मिंजो नी पता तकनीकी तौर पर एह गल्‍ल कितणी की ठीक है। अपर जितणिया भी भासां हन शायद इयाँ ही बणीया। भौगोलिक अंतर जादा, जनसंख्या कनै आपसी सम्वाद घट होणे दे कारण असां दी पहाड़ीया कनै एह नीं होई सकया। इक्‍क ही नीर लग-लग खडां च वग्‍दा रिहृया गंगा नी बणी सकया। जे गलत होये ता माफ करी दिनयो अपर मिंजो लगदा मानक भासा वाळा मुदृा ही गलत है। एह सुआल ही तां पैदा होंदा, जाह्लु असां सारियां भासां जो इक्‍की दुए ते लग करी दिखदे। एह सच है किछ बोलियां इक्‍की दुए ते बिलकुल ही लग हन। पर इत ता जेड़ीयां इक हन सैह भी असां जिलयां दे नांए पर लग करी तियां।
जे असां अपणिया भासां बचाणिया हन ता शायद एह सही वग्त है। अज असां भाल तकनीक भी है, गलाणे कनै लीखणे वाळे भी हन, सारयां ते बडी गल्‍ल इक मजबूत मीडीया भी है। जियां असां पहाड़ी भासा जो अठमी अनुसूची  शामल करने ताईं सरकारा भाल जोर लाया। तियां हीअसां जोलोकां भाल भी जाणा चाही दा। खास करी ने नोईंया पीढ़िया जो कनै लई नें चलणे दी बड़ी जरूरत है। इस मामले  लोकां दी एह गलत फेहमी दूर करना पोणीकि पहाड़ी बोलणे ते कैरियर कनै भविष्य पर बुरा असर पई सकदा। भई, दुनिया दियां जितणिया भी भासां तुसां सिखगे फ़ायदा ही होणा। पहाड़ी ता असां दी मां बोलीहै। इंनैं बरखा  छतरी ता धुपा  छांऊँ बणी सारी उमर सौगी चलदी रेहणा है। देणा ही देणा है, लेणा किछ नीं।
इस ताईं स्कूलां कनै कालजां  पहाड़ीया  बोलणे कनै लीखणे दियां प्रतियोगतां होणा चाही दियाँ।
इक गल्ल होर पहाड़ीया जो लोकां बिच लोकप्रिय बणाणे ताईं पहड़िया  जेड़ा लखोआ दा, कम होआ दा कनै  उपलब्ध है। सैह लोकां तिकर पजाणे दी भीकोससां करना चाही दिया।
सारयां ते बडी गल्ल ग्रां, कसबयां कनै शेहरां  होणे वाळ्यां मेळ्यां कनै सभाँ  पहाड़ी बोली जाये।
कुल मलाई ने जे असां अपणी मां बोली पहाड़ी बचाणी है। ता अज असां जो अपणे पहाड़ी समाजे  इस ताईं इक  आंदोलन छेड़ने दी जरूरतं है कनै एह शुरुआत अप्पु ते हुणे ते ही करना पोणी है।
चला सारे मिली इक जोरे दी हक्क पा। अपणा पूरा जोर ला। इक होई, बस पहाड़ी होई जा। पहाड़ीया च गलांदे जोरे वाळयां दा पथर कुअलिया पूजदा। अठमी अनुसूची दी क्या गल्ल है, जे असां सारे पहाड़ीया जो अपणिया पेहलीया सूचीया च शामल करी लेन ता इसा पहाड़ां दा ताज बणी जाणी। शिमले कनै दिल्लिया हिली जाणा।

कुशल कुमार  
मो 09869244269

No comments:

Post a Comment