Monday, December 19, 2016

नोट-बन्दी


नोट-बन्दी, नोट-बन्दी सुणी ने ता कन्न पकी गेय।
जिसदे पल्ले धेला भी नी था, सैह भीनोटां दियां गल्लां करदा थक्का दा नी यै।कोई गला दा खरा कीता, कोई गला दा-कीता ता खरा, परकरने दा तरीका नी आया।सब अपणे-अपणे तर्क दिया दे हन।
अज भियागा-भियागा मैं सुंदरु नाईये दिया दकाना कटिंग कराणा गिया। बाल़ कटदेयां तिनि भी लाईता इयो टापिक--बाबू जी,तुसां बदलाई लै नोट? मैं गलाया--सुंदरु भाई, नोटां दा कम्म ता नोटां बाल़ेयां जो, साडे पल्ले अठ तरीका तिकर बचदे कुथु हन नोट ? पैलीया जो औंदे कन्ने दो-तिन तरीका तक बंडोई जांदे। कोई दुधे आल़ा, करियाना, खबार , बच्चेयां दियां फीसां.....कने खीसा खाली। तू सणा अपणी, तैं हुणे रखेयो .....तैह लाई लाई ने ,हजारे-हजारे दे नोट .....घरे।क्या बणेया तिना दा? इसते पैले सुंदरु किछ बोलदा,भगतु बोली पिया--बाबू जी, सुंदरुये जो क्या मुसकल.......एह ता राजा यै राजा।बैंके दा मनेजर भी तुआडे साई हर मीने इदे अग्गै सिर झुकांदा। एह ता सांझो पुच्छा--लैणा च लग्गी-लग्गी हालत खराब होई जा दी। अपर बाबू जी, मोदीये कम्म बडा़ बदीया कीता ।काल़े धन्ने बाल़ेयां दी ता बैंड बज्जी गेई।
 आ...जेड़े लैणी चलग्गी करी मरी जा दे ?उना दे परोआरे दा क्या कसूर ? मैं भगतूये जो टोहणें दीकोसत कीती। बाबू जी......सब बकबास । मंदरां च लोक किन्ने-किन्ने घण्टे लैणी च लगी रैंदे। ता नी मरदा कोई । कन्ने जे से बमार थे.....ता अज्ज जी परोआर बढ़ा रोआदा,तिना जो लैणी चखड़ा कजो कीता था ?आपू लग्गी जांदे लैणी च।काफी देरा ते चुप बैठेया दीनू  भी बोलेया--भाई बशक ठीक हुंगा, पर तरीका गलत यै। एह गल ता मनणी पौणी तुसांजो। बड्डे-बड्डे ता मनेजरां कन्ने मिली चोर दरोआजे ते नोट लेई जा दे ,कन्ने आम आदमी बचारा लैणी बिच लगेया। दीनुये दी गल सुणी दौलत रामे दे चेहरे उपर भी रौणक आई ,तिन्नी गल्ला जो आग्गे खिचेया--क्या खरा कीता मोदीये........?बेले बठियाल़ीते सारे.......ना बजारां च कम्म रेया,न मजूरा-मिस्त्रीयां जो कम्म मिला दा .........लोकां मकाना दे कम्म बन्द करी दिते। व्याये बाले भी परेसान.......पंजा-पंजा हजारां ने कोई व्याह करी सकदा भला। मेरी मन्ना ता बड़ी बड्डी बेबकूफी कीती इन्नी। या अन्दर खाते कोई घोटाल़ा ही ही न हुयै
 मजमा गर्म था,मेरा धयान ता तालू हटेया,जालू नाईये गलाया--लेया ता बाबू जी,होई गेई तुसां दी कटिंग । मैं उठी ने औणा लग्गा.......तां भगतू, दौलत कन्ने होर सारे मिंजो घेरी ने खड़ोई गे, बाबू जी ,बैहस शुरु करी ने हुण कुथु चली पै। पिच्छे ते डैंजू बोलेया--हां दौलतरामे दा गुबार भी झल्ली लिया । इदे बचारे दे हजारे-हजारे दे सारे मिट्टी होई गे।ना (नाम) लोकां दा लै दे ,अपर अग्ग ता इनादे अपणे काल़जुये भड़कीयो। मैं हौल़ी-हौल़ी खिसकेया.........नाईये जो पैसे भी देणे दी याद नी रेई।हुण कालकी जांगा तां पैसे देईने औंगा।

           गोपाल शर्मा,
           जय मार्कीट,काँगड़ा

           हि.प्र. ।

2 comments:

  1. मेरा व्यंग लेख दयार पर पाणे ताईं आभार

    ReplyDelete
  2. मेरा व्यंग लेख दयार पर पाणे ताईं आभार

    ReplyDelete