Monday, March 13, 2017

होळीया दियां मबारकां


पेश है इक व्यंग

होळीया दी राती पंची दे  पंचां दी भीड़ भंग पी करी ने दिल्लिया घुमा दी थी। इन्हां सारयां अनुराग ठाकर जी दे बंगले पर होर ठोकी ने भंग पीती। इस ते बाद काफी खड़पंचिया ते बाद अनुराग ठाकर जी दिया अध्यक्षता च इक पंच मंडल नमो नमो जपदा मोदी होरां भाल पूजी गिया।

मोदी साहब ने इन्हां दी सारियां गल्लां पर अपणी मोहर लाई ती। ताहलु ही दिल्लिया ते शिमले जो हुक्मनामा जारी होई गिया कि 13 मार्च होलिया ते कांगड़ी हिमाचले दी सरकारी भासा होंगी। सारे सरकारी कम्म कांगड़िया च ही होणे। इसा घोषणा ते बाद कांगड़े चोंही पांसे होलिया दी जगह हैप्पी कांगड़ी ही चला दी।

इस ते बाद सारे प्रदेश ते लोकां दी लग‌-लग प्रतिक्रियां सामणे ओआ दियां। ठाकर अनुराग होरां गलाया। मोदी होरां दा हुक्म ता मनणा ही पोणा अपर मेरिया महीरपुरिया दा क्या होणा। मेरयां ब्लासपुरी कनै ऊने दे वोटरां भी नराज़ होई जाणा।

धूमल साहब ने गलाया शांताकुमार दी चाल है। सैह पार्टिया च भी मेरा कांगड़ा, मेरा कांगड़ा दी माला ही जपदे रेहन्दे।

शांताकुमार जी भी फैसले दे विरोध च हन। तिन्हां दा मनणा है कि एह मेरे खलाफ धूमल साहब दी साजिश है। मैं ता कांगड़ी बोलदा ही नीं। एह मेरे हिंदी साहित्य कनै हिंदिया जो खडा च पाणे दी कोसस है।

दुएं पासे मुखमन्त्री वीरभद्र सिंह जी इस फैसले दे समर्थन च खुली ने सामणे आये। वीरभद्र जी ने गलाया। पिछली वारी कांगड़े दे लोकां ही मेरी सरकार बणाई थी। उस ते बाद मिंजो कांगड़े ने प्यार होई गिया। मिंजो कांगड़ी कनै कांगड़ी लोकां दी समझ ता आई जांदे पर कांगड़ी बोलणा नीं औंदी। इस ताईं तिन्हां पीयूष गुलेरी जी ते कांगड़ी सिखणे तिकर शिमले छडी ने धर्मशाला निवास च ही रेहणे दा फैसला करी लिया।

प्रदेश दे सारयां मास्टर-मस्टरेणीयां दी टोली मोर्चा लई ने शिक्षा मंत्री सुधीर शर्मा भाल पूजी गिया। महारे को तो जी कांगड़ी ओती नीं है। तो पढ़ाई कैसे होये गी जी।

शिक्षा मंत्री होरां तिन्हां जो भरोसा दिता। तुसां जो डरणे की किछ जरुरत नीं है। आप लोक पहले साही नीं पढ़ाणे के कनै-कनै दकानदारी, प्रोतचारी, खेतर-वाड़ी, दुध-गुआळी, सुआटर बुणाई करी सकदे।


एह खबर बणे दिया अग्गी साही चोहीं पासे भड़की गईयो। जितणे मुहं उतणिया भाखां। कोई बोले मंडयाळी, कोई गल्लाता चंबायाळी, कोई ब्लासपुरी, कोई कुलवी, कोई बघ्याली, गिणी-गिणी गिणती भुली गई सारी। लोकां घुळी-घुळी चिक खलारी। सभ करादे म्हारी-तम्हारी।

उपरे ते चड़ी गिया राजनीती दा रंग भारी। कांग्रेसी बोला दे नाएँ च क्या रख्या। बोला हिमाचली, कांगड़ी या पहाड़ी। गल्ल कोई नीं होंदी माड़ी।

भाजपाई बोला दे। असां दा ता नां ही चला दा। यू पी च असां मोदी नाएँ ने ही लई बाजी मारी। इस ताईं जे भी है सब नाएँ च ही है  रख्या।

इस ते बाद हुड़दंग पई गिया। कोई बोले मोदी, कोई करे नमो नमो, कोई राहुल सोनिया माई। इतणे च झाड़ूये वाळा भी आई गिया। रोळा-रप्पा पई गिया बड़ा भारी। बाकी खबर अगलिया होळीया तिकर जारी...........।

कुशल कुमार

No comments:

Post a Comment