Thursday, September 10, 2015

म्हारे ग्रांएं च आई जनेत

नवीन हल्दूनवीं होरां 1974च एह् कवता लीखी थी l

अज चाल़ी साल बाद भी इसा कवता जो लोग पसंद करदे।



म्हारे ग्रांएं आई जनेत
                
म्हारे   ग्रांएं    आई   जनेत l
होइगे   किट्ठे  सब्बो   घरेत ll

लाड़े दा ताऊ खऊं-खऊं खंग्घा दा,
निक्कुए ते घुट शराबा दा मंग्गा दा;
नच्चा दा दिक्खा ओह् कुड़िया दा जेठ l

कुड़मां-कुड़मां दी मिलणी जे होई,
नाई वचारा सैह् गेआ पथोई ;
परोह्त परतोया सैह् पग्गा समेत l

मामे नैं मामा भाउए नैं भाऊ ,
चाचे नैं चाचू ताउए नैं ताऊ ;
दादू बी देआ दा पग्गा पल़ेस l

जनेता दे मुंडू जौंगल़ ते भौंछी ,
सूट्टा लगाई गल्ल करै झौंफी ;
  भई चूंडे खलारी बणेयों परेत l

रात  जे  होई  भत्त   खुआया ,
लगनां ते पैह्लैं लाड़ा नुहाया ;
बौह्णे जो बछाया वेदी खेस l

भ्याग जे होई टौहरां बणांदे ,
चौल़ थे कच्चे सब्बो गलांदे ;
सैह् पकड़ी के ढिड दुआंदे सेक l

चाई नैं दित्ता मिठाइया रा डून्ना,
ते भंगू दे पकौड़े दा इक नमून्ना ;
पे  इक्की  झुटारैं  मंजे  दे     हेठ l

भोज सबेल्ला ते तल़ी ले भटूरू ,
मठड़ी कनैं मधरा बणांदा भूरू;
रसोइया बी मंग्गा दा खट्टे जो तेल l

मंग्गदा रुल़िया दुरबा दा नोट ,
नगारची नगारे मारा दा  चोट ;
लाड़े दा बब्ब अज्ज लग्गा दा सेठ l

नाई-परोह्त हत्थां जो रंग्गा दे ,
टिक्का लुआई जनेतां ते मंग्गा दे;
खाणे जो सैह्- करा दे पछेत l

भई  भोजे  परंत  धाम  खुआई ,
जनेत तां खट्टे नैं दित्ते नुहाई ;
लबड़ां जो लग्गा पिपल़ीं दा सेक l

अहा! छैल़ रसो$ बणी पेटू गलांदे,
पंज   परोसे   चौल़ां  दे   खांदे ;
सैह् खाई बरंजा पकड़ा दे पेट l

जणास्सां दा लैंह्गा कनैं झूंड तरीरा ,
कुड़िया जो दिक्खा पुआदियां कलीरा ;
सरगुंदिया जो होआ दी तांईं पछेत l

करी चज्जां-चारां जुआई सदाया,
सस्सू नैं टिक्का-तमोल़ लुआया ;
रोई बोल्लै मां धीए! जा अपणे देस l

प्यारे दित्ता कुड़िया जो दाज़ ,
जनेतां की दच्छणा लाड़े जो राज़;
समझ'नवीन' दुनियांदारी दा भेतl

म्हारे    ग्रांएं      आई   जनेत l
होइगे   किट्ठे   सब्बो    घरेत ll

 नवीन हलदूणवी

No comments:

Post a Comment