Wednesday, September 16, 2015

असां ता भई ऐह देहे हन। जॉर्ज बर्नार्ड शॉ (1856 – 1950)










58 नाटक लीखी ने नोबल पुरस्‍कार हासल करने वाळे जॉर्ज बर्नार्ड शॉ दा बचपन बड़ीया गरीबीया च बीतया। इन्‍हां जो जेबी खरचे ताई़  6 पेंस मिलदे थे जिन्‍हां ने एह बड़ीया मुश्‍कला ने दिन कडदे  थे। इक दिन फुटपाते  पर एक कताब दिखी- 6 पेंस च दिन कियां गुजारना। बड़ीया मुश्‍कला ने कई दिनां तिक इक-इक धेला बचाई इन्‍हां सैह कताब खरीदी। कताब पढ़दें  ही पटकी ती साळा एही ता मैं रोज करदा। मेरयां ही तजरबयां पर कताब लिखी कनै मिंजो ही .....


इकी संपादकें  इन्‍हां जो अपणया दस समकालीन  लिखारीयां दे नां दसणे ताईं गल्‍लाया ता इन्‍हां  अपणा  ही नां दसां तरीकयां ने लीखी करी देई ता।

कुसकी जो इन्‍हां  10 पाउंड देणे थे। बर्नार्ड   होरां इक-इक पाउंडे दे दस चेक कटी ने  देई ते। तिन्‍नी  भले माणसें  पुछया भई तुसां  इक चेक देर्इ  ने भी कम्‍म चलाई सकदे थे। जवाब मिला एह दस चेक तैं कैश कराई ले ता तिजो दस ही पाउंड मिलणे कनै  नीं कराये ता बादे मेरयां ऑटोग्राफां बेची सैकड़ों पाउंड कमाई सकदा।

प्रसिद्ध होई जाणे ते बाद सैह इंटरव्यू देणे दे  पैसे लैंदे थे।

सेंट जोंस नाटक साढे तिनां घंटयां दा था  तिस फैरे च लोकां दा या ता नाटक छुटी जांदा था या अखीरी ट्रेन।  जाहलु तिन्‍हां जो गलाया गिया कि सैह नाटके किछ छोटा करी देन ता ठीक होई जाणा तिन्‍हा  तुनकी ने जवाब दिता अखीरी ट्रेना देरिया ने चलाणे दे बारे च वचार करा।

नोबल पुरस्‍कार  देरा ने मिलणे पर जनाब बड़बड़ाये थे- जाह्लु तारु कनारे पर पुजी गिया ता तिसजो सेफ्टी बेल् दिती जा दी।

तिन्‍हां दा गल्‍लाणा था कि मरदां जो जितणा होई सके देरिया ने कनै जणासां जो जितणी जलदी होई सके ब्‍याह  करना चाही दा।

तंगी दे दिनां जॉर्ज बर्नार्ड शॉ होरां घोस् राइटिंग भी कितीयो।

तिन्‍हां दा पंज पेज रोज़ लिखणे दा नियम था। ना घट ना जादा।

महात्‍मा गांधी जी दी हत्‍या दी खबर सुणी जनाब ने फरमाया इट इज टू बैड टू बी टू गुड।  बड़़ा खरा  होणा भी खरा  नीं होंदा।

इक बरी इक अति सुंदर जनानां  इन्‍हां ने गल्‍लाया असां ब्‍याह करी लेन ता, असां दे बच्‍यां दा दमाग तुसां साही तेज  कनै तिन्‍हा मिंजो साही सुंदर होणा। भोळे भंडारी बर्नार्ड होरां पुछया जे  पुठा होई गिया ता।

दरअसल बर्नार्ड होरां चेचक दे दागां छपाणे ताईं दाढ़ी रखईयो थी। सैही इन्‍हां दी पछैण बणी गयी।

सैह लंदन स्‍कूल  ऑफ इकानामिक्  दे संस्‍थापकां च शामल थे।

एह अपणे प्रचार ताईं भी कुसी पर निर्भर नीं थे। घर ते निकलदे ही प्रेस जो फोन करी दसी दिंदे थे- मैं फलाणीया  जगह चलया। फोटोग्राफरे भेजी देया।

बर्नार्ड शॉ दी जितणे भी किस्‍से हन, सब  जादातर इन्‍हां अपुं ही उड़ायो।


प्रस्‍तुती: सूर प्रकाश
पहाड़ी अनुवाद : कुशल कुमार 

No comments:

Post a Comment