Saturday, May 16, 2015

पुराणा विंध्यवासिनी मन्दिर


 अजकला वट्स ऐप पर पहाड़ी पंची जोरदार चलियो है। भांत भांत दियां रचनां पढ़ने जो मिल्‍लां दियां। पंचिया दे इक्‍क पंच भूपी जमवाल पालमपुरे व्‍हाल विंध्‍यवासनी माता दे मंदर गेयो थे। मंदरे दे बारे च तिन्‍हां एह् जानकारी भेजियो है।   

उत्तर भारत, खासकरी के हिमाचल प्रदेश दे कांगड़ा 'लाक्के विच केई धार्मिक जगहाँ हैन। एहड़ी ही इक जगह पालमपुर ते   न्यूगल नदिया दे मुहाने दे पासे जो लगभग 14 किलोमीटर दूर माता विंध्यवासिनी दा मन्दर है।  लोक इस जो पुराणी विंध्यवासिनी भी ग्लांदे। इस मन्दर तिकर न्यूगल हाइड्रो प्रोजेक्ट दी सड़क हुणे दिया वजह ते लोक्कां दा इत्थू पुज्जणा 'सान होई गेया है । मन्दर बड़िया खतरनाक ढाँका पर बणेया है। मन्दरे दे कन्ने ही बाबे दी कुटिया भी है। बक्खे ही ठंडे मिट्ठे पाणिए वाला विंध्य नाळा बगदा है। मन्दरे विच पुज्जी के बड़ी ही सांत औंदी है। 

इक लोक कथा दे मुताबक़ इक्की गद्दिए जो माता साक्षात् दर्शन दित्तेयो थे। गद्दी रोज़ मन्दर पूजा करदा था । इक दिन गद्दिएं माता जो अपणी इच्छा दस्सी कि सैह माता जो अप्पू कन्ने ग्रां विच लेई जाणा चाहन्दा । माता मन्नी लेया पर शर्त रखी दित्ती कि जित्थू तू बसोणा बैठा मैं तित्थू ही स्थापत होई जाणा है। गद्दी जाहलू माता जो लेई के बन्दला ग्रां विच पुज्जा तां थकी गेया कने जिहियां ही माता दिया पिंडिया जो भुइयां रखेया माता ओत्थू ही डेरा लाई लेया। ताहलू ते माता दी पूजा करना लोक इसी ग्रांए च औणा लग्गी पे। 


अज्ज हाइड्रो प्रॉजेक्ट दिया सड़का दा फ़ायदा लेई के कोई भी मन्दरे दे फाटके तिकर गड्डी लेई के पुज्जी सकदा। रस्ते विच इतने मनमोहक नज़ारे दुसदे कि दिल करदा इत्थू ही बसी जाइए। उच्ची पहाड़ी , टेढी मेढी सड़क , पाणिए दे नाळ , ब्रांह दे रुक्ख इस 'लाक्के दे छैळपणे च चार चन्दरमे लगाई दिंदे। सिद्धी थल्लें बगदी न्यूगल खड्ड डरान्दी भी पर माता दे भगत मन्दर पुज्जी के ही दम लैंदे। मन्दरे दे फाटके बाहर प्रॉजेक्ट दी सुरंग है, जिस विच आम माह्णुआं दा जाणा मना है। असल विच सड़क सिद्धी सुरंगा विच बड़ी जांदी कने असां जो सड़क इत्थू ही छड्डी करी मन्दरे दे पासे जो जाणा हुँदा है।

मन्दर परिसर दे अंदर पैड़ियां चढ़ी के पहलें बाबे दी कुटिया कने फिरी मुख् मन्दर औंदा। मन्दर इतनिया पहाड़िया पर हुणे दे बावजूद भी छैळ बणेया। हॉल विच शीशे लग्गेयो। देवी देवतेयां दियां मूर्तियां कने सुंदर घैण्टियां मने जो मोही लैंदियां। मन्दरे दे परले बक्खे अपणिया ही मस्तिया विच विंध् नाळा बगेया। नाळे दा पाणी बहुत ही मिट्ठा कने सुआदला है। नाळे दे इक्की कनारे मन्दरे ते हेठ छोटी देही चौंतड़ानुमा जगह है जित्थू खड़ोई के पहाड़ां कने नदिया दा नज़ारा लेई सकदे, पर थल्ले पासे दिक्खणे दी हिम्मत नी पौंदी। जातरुआं दे ब्चा ताईं रेलिंग लग्गिओ पर कनारे पर खड़ोणा खतरें भरोया है। 

नाळे पार इक्की पींघा विच माता दी छैळ मूर्ति रखोइयो । अक्खें बक्खें घणा बण कने पाणिए दी छेड़ इक नोक्खा ही नज़ारा बणाई दिंदे। इक लग्ग देही सांत मने जो मिलदी। नाळे दे पाणिए ने हत्थां मुँहाँ धोई के कने दो घुट्ट पाणी पी के चतनगी आई जांदी। नाळे दा एह पाणी इत्थू ते सिद्धा छाळी मारी के ल्हाए लोह्ई जाँदा कने न्यूगल नदिया विच जाई मिलदा। एह इक लग्ग ही भाव मने विच औंदा । मन करदा कि दुनिया दिया न्हठ-भज्जा छड्डी के इक टपरू इत्थू पाइए कने 'राम्मे कने रेहिए। न डग्ग-पिट्ट न कोई हल्ला-रौळा;बस सांत,सांत कने सांत!
          

No comments:

Post a Comment