Wednesday, May 6, 2015

पहाड़ां पर जाई ने लीखणे वाळा गरीब लीखारी नानक सिंह




आधुनिक पंजाबी नाबल दे जनम दाता नानक सिंह (1897-1971) दी माली हालत देही नीं थी क़ि सैह पहाडाँ पर जाई ने अपणे नॉवल लीखन। वैसे भी सैह लीखणे ते लावा कोई नौकरी  नीं करदे थे। फिरी भी तिन्हां अपणे कई नॉवल  धरमशाला, डलहौज़ी, मैकलोड गंज, कश्मीर देहियां जगहाँ पर जाई ने लीखे।

सुआल एह है कि भई घरे दे खर्चे तांईं धेला नी है ता लिखारी महाराज लिखणे तांईं पहाड़ां पर जाई ने  लिखणे दे बारे कियां सोची सकदा।पर नानक सिंह जी दी समस्या एह थी कि सैह पहाड़ां पर जाई ने ही लीखी सकदे थे। इस तांईं जे सैह पहाड़ां पर नी जान ता नॉवल नी लिखोंदे थे कनै नी लीखन ता घर नी चलदा था। होर कुछ करना ना ता तिन्‍हां जो ओंदा था  ना ही तिन्‍हां दे  बसे दा था।

नानक सिंह पहाड़ां पर लिखणे दी मजदूरी करना जांदे थे।  अपु ही गीठी या स्टोपे पर चाह बणाणी, रोटियां  पकाणियां कपड़े धोणे, सफाई करनी। तिथु ही लीखणा कनै सोई जाणा। काल्ही जे खाणा बनाणे दा मन नी करे ता पड़ेसे दे  ढाबे पर चले गै।

असां सोची भी नी सकदे कि  तिन्हां दे नोवलाँ दे अण गिणत किरदार तिन्हां दे घोर किह्ल्‍पणे ते जन्मयो। बस सैह होंदे कनै तिन्हां दे किरदार। ज़िन्हां जो सैह कागजां पर तुआरी-तुआरी मंज़िया हेठ सटदे जांदे थे। पीणे दे नायेँ पर सैह कहवा ही पीदें थे। शायद होर कुछ पीणे तांईं तिन्हां भाल पैसे ही नी होंदे  थे।

1961 साहित्य अकादमी पुरस्कार ने सम्मानित नानक सिंह बड़े ही विनम्र कनै साधु स्वभावे दे लिखारी थे। तिन्हां पंजाबी साहित्‍य  जो पवित्‍्तर पापी, आदमखोर कनै  एक म्यान दो तलवारें साही अमर कृतियां दितियां। इनहां दे  7 कहाणी-संग्रह, 2 नाटक, 11 कबता-संग्रह कनै 35 नॉवल हन।

प्रस्‍तुति : सूरज प्रकाश
पहाड़ी अनुवाद : कुशल कुमार


1 comment:

  1. कुशलजी, धन्‍नवाद। तुसां एह् खरी पोस्‍ट लाई। सूरज प्रकाश होरां दी एह् सीरीज ता बधिया है ही, अपणिया भासा च पढ़ी नै होर मजा औआ दा ऐ।

    ReplyDelete