Tuesday, December 30, 2014

बोतला दा सतान अखिरी किश्त

रॉबर्ट लुई स्टीवनसन (Robert Louis Stevenson) 13 नवम्‍बर 1860 - 3 दिसम्‍बर 1894 दी क्हाणी ' बॉट्ल इम्प ”(The Bottle Imp'') दा   हिमाचली प्हाड़ी अनुवाद



(भाग तिन च तुसां पढ़या कोकुआ ता मिली पर कीवै जो कोड़ निकली आया। तिनी कोड़ ठीक करने कनै कोकुआ ताईं बड़ी दौड़-भज करी बोतल फिरी खरीदी लई। पर व्‍याह करी भी सैह बड़ा दुखी रैहणा लग्‍गा। कोकुआ कीवै जो खुश करने ताईं सैह बोतल इक्‍की जबरे जो बेची ने फिरी खरीदी लई।)   

पेश है इसा लम्‍मीया क्‍हाणीया दी अखिरी किश्‍त  

- द्विजेन्द्र द्विज

भ्यागा कीवें तिसा जो  खुसखबरी दित्ती इसते पैह्ल्लैं तिसिओ तिसा इतणाँ खुस कदी नीं दिक्ख्या था अपण तिन्नीं दिक्ख्या तक नीं जे लोकुआ बड़ी डोल-डोल थी सै ता तिसदियाँ गल्लाँ दा जुआब भी नीं देआ  दी थी इसनैं कोई फर्क बी नीं पोआ दा था ,कैंह  जे सै अप्पुँ गलाई जा दा था तिसा दत्याल्लू भी नीं खाह्दा सै तिसजो दिक्खा सुणाँ दी थी जीह्याँ सुपने कोई होर देह्यी चीज दिखा दी होंऐं सै अपणेआँ हत्थाँ अपणे सिरे पर रक्खी लेया दी थी, एह सोच्ची नैं जे तिसा अपणी आत्माँ गुआइत्तिओ थी , कनैं कीवे   हस्सा , खा पीय्या दा था घरे जो हटणे बारे सोच्चा दा कनैं तिसा धनबाद करा दा था, तिसजो बचाणें तियैं
सैह बुढ्ढा सच्चैं मूर्ख था जिन्नी बोतल खरीद्दी लई।सै बोल्लेया, “तिसते ता एह  तिन्नाँ सैंटाइमाँ भी नीं बिकणीं मिंज्जो बड़ी खुसी है जे सैह सतान कनैं बोतल मेरेयाँ हत्थाँ ते चली गै।"
" मेरेया लाड़ेया !" कोकुआ बोल्ली ,  “होरसी जो बर्बाद करी नैं अप्पुँ जो बचाणाँ बड़ा  भ्यानक है मैं हस्सी नीं सकी , नीं ताँ मैं उदास होई जाणाँ था   मैं ताँ तिस गरीब्बे तियैं प्रार्थना करह्गी जिन्नी बोतल खरीद्दी लेइओ कनैं हुण तिन्नी  कदी बी सतान्ने नीं छुड़की सकणाँ है

कीवे गुस्सैं होई गेया , “तू उदास होई सकदी जे तू चाह्यैं पर खरिया जणास्सा जो लाड़े दे खुस होणे ने खुस होणा चाह्यी दा जे तिज्जो मेरा रती भी ख्याल हुंदा ता तिज्जो अपणे उदास होणे पर सर्म ओणी  थी।" सैह बाह्र चली गेया कनैं  कोकुआ किह्ल्ली रेह्यी गई

बोतला जो दूँह सेंटाइमाँ बेचणे दा मोक्का ता तिसा जो हुण क्या मिलणाँ था , तिसा ते ता बोतल चौंह् सेन्टाँ भी नीं बिकियो थी कीवे तिसा जो हवाई वाले घरे जो ट्हाई नीणें दिया काह्ळिया था जित्थू फ्राँस देयाँ सेन्टाइमाँ दा कोई मुल्ल नीं था हुण ता सैह तिसा जो छड्डी नैं बाह्र चली गेह्या था , तिसा दा दोस एह था जे सैह तिस कनै खुस नीं थी

कीवे फिरी हटेया सैह तिसा जो कारा दी सैर कराणाँ चाह्न्दा था   मैं ठीक नीं ऐं ,” तिसा गलाया , “ मिंजो सैर  करने दा मजा नीं औणाँ

 कीवे होर भी नराज होई गेया सैह कोकुआ कनैं इस करी नैं  होर भी नराज था कैंह जे सैह् सोच्चा दा  था ,कोकुआ जबरे तियैं उदास थी सैह अप्पुँ ते इस करी नै नराज था जे तिसिओ  पता था कोकुआ ठीक  गला दी थी कनैं तिसजो अपणे इतणे खुस होणे पर भी सर्मां औणी चाहिदी थी

तिज्जो मेरी रती परवाह नीं ऐं,” तिन्नी गलाया, कनै  फिरी सैह घरे ते चली गेया। तिस जो किछ दोस्त मिली पै कनैं तिन्नी तिन्हाँ कनैं सराब पीत्ती फिरी तिन्हाँ इक बग्घी लई कनैं सैह कुसी गरायें जो  चली गै जित्थू तिन्हाँ होर पीत्ती कीवे जो इक मिंट भी मजा नीं आया कैंह् जे  तिद्दी लाड़ी उदास थी कनैं सैह् जाणदा था, सैह तिस ते जादा ठीक गला दी थी अपण सैह होर पीन्दा गेया

इक गुआर देह्या माह्णु भी तिस कनै सराब पीया दा था एह सैह माह्णु था जिन्नी ब्हे्ल झाज्जे पर कम्म कमाणे दा करार कित्तेया था कनै तित्थु ते न्ह्ठी या था इस जबरैं म्लाह्यें खान्नीं ते सून्नाँ भी खुणेयाँ  था कनैं मतियाँ जेल्लाँ भी टैम कट्टेआ था तिद्दा दमाग घटिया था कनै जबान बुरी थी पीणाँ- प्याणाँ  तिसदा सुगल था सैह कीवे जो होर पीणे जो पल्केरदा रेह्या कनै रात्ती तिकर तिन्हाँ सभ्नीं  दे पैसे मुकी गै

त्थु , तू! ”  मलाह्यें  गलाया   तू अमीर , तू गला दा ता इह्याँ था   तिज्जो बाह्ल इक अजीब बोतल भी है , मैं सुणेयाँ  हाँ,” कीवैं गलाया , “  अमीर ता मैं है   मैं घरैं जाई पेसे लई नैं औन्दा, अपणियाँ लाड़िया ते पैसे तिसा बला हुन्दे

एह बुरी गल्ल ,”  इक होर कळाया जणास्सा बला पैसे दा बसुआस कदी मत करा जणास्सा बाह्ल कैसी दा बसुआ नीं , म्हेसा तिसा पर नजर रखणी चाह्यी दी कीवैं मती घड़ोप्पी इयो थी

कनैं तिन्नी सोच्चेया ,“एह माह्णू ठीक   गला दा सैह् कुसी ऐसिया गल्ला जो उदास थी जेह्ड़ी तिसा मिंजो ते लकाइयो क्या पता तिसा मिंजो धोक्खा दित्तेया होए मैं चोरिया-चोरिया घरैं जान्नाँ कनै दिखनाँ , सैह क्या करा दी

 सैह् सारे दोस्त सैह्रे जो हटी गै कनैं तिस जबरे म्लाह्ये  जो इक्की कूणाँ  पर न्हियाळणे जो गलाई करी सैह् अपणे घरे दे दरुआज्जे पर जाई रेह्या घरैं लो ता थी अपण छेड़ कोई भी नीं सुम्मा दी थी सैह चक्कर कट्टी नैं पिछले दरुआज्जे पर गेया , होळैं नें  दरुआज्जा खोह्ड़या कनै अन्दर दिक्खेया

कोकुआ फर्से पर थी, तिसा बक्खैं इक लालटैन थी कनैं तिसा साह्म्णैं सैह दुद्धे साह्यीं चिटी लमगळी बोतल थी सैह बोतला जो दिक्खा दी थी कनैं तिसा अपणे छोट्टे-छोट्टे हत्थ
कस्सेयो थे

मती देर खड़ोई नैं कीवे तिसा जो दिखदा रेह्या तिसिओ किछ नीं समझोआ दा था सैह डरी गेया जे किछकी तिन्हाँ  कनै फिरी गळ्त  होई गेह्या था कनै सैह् बोतल फिरी तिन्हाँ बाह्ल हटी इयो थी , जीह्याँ एह सेन फ्राँसिस्को दिया खाड़िया पर तिस बला झाज्जे हटी इयो थी तिद्दे गोड्डे कम्बी गै कनै चाण चक्क तिसदा दमाग इह्याँ साफ होई गेया जीह्याँ गास साफ होई जान्दा जाह्ल्लू होआँ बदळाँ डुआई दी दिँदियाँ फिरी तिद्दो इक ख्याल आया कनैं तिदियाँ खाक्खाँ भखी पइयाँ

तिन्नी हौळैं कि दरुआज्जा ढुप्पेया कनैं  फिरी साह्मणे बाळे दरुआज्जे चियें अंदर आई गेया, जणता सैह हुणें हटेया होयें अपण ताह्ल्लू तियैं कमरे ते बोतल गायब थी कनैं कोकुआ कुर्सिया इह्याँ  बैठियो थी जणता सैह् सुतियो थी

 “ मैं अज सारा दिन सराब पीन्दा कनै मजे लैन्दा रेह्या ”  कीवैं गलाया  मिंजो बड़ी खरी सँगत मिली गेइयो थी कनैं मैं घरैं पैसेयाँ लेणाँ  आया तां जे मैं जाई नै अपणेयाँ  दोस्ताँ कनै होर सराब पी सकाँ

अपणेयाँ  डालराँ  खरे कम्में लायाँ तिसा गलाया कनैं तिसा दे लफ्ज कम्बी गै

 “ मैं हर कम खरा करदा ” “ तिन्नी जुआब दित्ता सैह्  सँदूक्ड़िया बला गेया , पैसे ड्डे, तिन्नी सैह् कूण भी दिक्खी जिह्त्थु सैह् पैह्ल्लैं बोतला रखदे थे, कने तिह्त्थु बोतल नीं थी ताह्ल्लू सैह सँदूक्ड़ी फर्से ते उपरा जो इह्याँ उठ्ठि जीह्याँ समुँदरे  ते लैह्र उठदी कनैं पूरा घर कम्बी पेया कीवे जो सब किछ मुकदा सुज्झा हुण बचणे दा कोई रस्ता नीं था

मिंजो इसा गल्ला दा डर था ,” तिन्नीं सोच्चेया एह बोतल कोकुआ खरीदिओ थी पसीन्ने दियाँ टरूरियाँ तिद्दे मूँह्यें  ते फुटी  पइयाँ, बरखा साह्यीं मोटियाँ कनैं बर्फा दे पाणियें साह्यीं ठंडियाँ 

कोकुआ !”, तिन्नी गलाया ,“अज्ज मैं तिज्जो ऐसियाँ गल्लाँ  गलाइयाँ जे  मिंजो हुण अप्पुँ पर  सर्म औआ दी सैह हस्सेया मिंजो सराब पीणे दा मजा ता औणाँ जे तू मिंजो गलाई दैं जे तैं मिंजो माफ करी त्ता

कोकुआ तिद्दे हत्थ पकड़े, तिन्हाँ पर तिसा दे अथरू टिरे ओह,” तिसा गलाया, “ बस तू मिंजो नैं प्यारे नैं गलाह् असाँ जो म्हेसा इक्की-दूए बारे खरा सोचणाँ चाह्यी दा ,”  तिन्नी गलाया कनै सैह् घरे ते चला गेया

 हुण , कीवैं सँदूकड़िया ते जेह्ड़े  पेसे कह्ड्यो थे, सैह किछ सैंटाइम थे जेह्ड़े तिन्हाँ फ्राँस आई नैं क्ख्यो थे कीवे हुण सराब पीणाँ भी नीं जाणाँ चाह्न्दा था सैह  बोतल तिसजो बचाणे तियैं तिसदिया लाड़िया खरीदियो थी  हुण सैह् तिसा जो बचाणेँ  छ्ड्डी होर किछ नीं सोच्चा दा था कनैं कूणँ सैह बुरा जबरा म्लाह न्हियाळा  दा था

 “ म्लाहिया , ”  कीवैं गलाया , “ बोतल मेरिया लड़िया बला  है कनैं जे तू तिसा ते इसा बोतला लैणें मेरी मदत नीं रगा ता ता   सैन्टाइम मिलणे कनैं नाँ अज रात्ती होर सराब मिलणी पीणें जो

तू एह् ता नीं गलाणाँ चाह्न्दा जे तू सच्चैं इसा बोतला जो बेचणा चाह्न्दा ? ” मलाह्यैं गलाया तिज्जो मैं मजाक करदा सुज्झा दा ?”  कीवैं पुच्छेया ईं  , सच्चैं ईं , तू ता मौत्ती साह्यीं उदास लग्गा दा मलाह्यें गलाया

 “ता ठीक ,”  कीवैं गलाया, एह लै  दो सैन्टाइम मेरिया लाड़िया बला जाह् कनैं बोतला तियैं तिसा जो दई देह्  तिसा पक्का एह् बोतल तिज्जो इकदम दई देणी ऐं बोतला मिंजो बला लई उरया, कनैं तिज्जो ते मैं इक्की सैंटाइमें खरीद्दी लैहंगा बोतला दा कननू एह् एह् घाट्टे बेचणाँ पौन्दी अपण तू किछ भी कर मेरिया लाड़िया नैं मत गलान्दा जे तिज्जो मैं ल्लेया

  “ तू मिंजो उल्लू  ता नीं बणादा ?” “ जे मैं बणा दा भी होआँ ता तिज्जो कोई नुकसान भी नीं ”  कीवैं गलाया गला दा ता तू ठीक म्लाहें गलाया तू इसा बोतला जो पर्खी   भी सकदा ”  कीवैं गलाया घरे ते बाह्र  ओन्द्याँ तू बोतला ते मंगेयाँ जे तेरियाँ जेब्बाँ  नोट्टाँ नैं भरोई जाह्न , जाँ कोई बधिया देइया सराब्बा दी बोतल, जाँजे किछ भी तू चाह्यैं, कनैं तू दिक्खेयाँ जे मैं सच्च गला दा ”  “ बड़ा खरा , ”  मलाह्यैं गलाया,  “पर्खी लैंह्गा अपण जे तू मेरा तमासा बणा दा ताँ एह् तमासा मैं अपणे सोह्ठे कनै तेरयाँ  हड्डाँ  चियैं डणाँ ऐं

म्लाह  तित्थू ते चला गेया कनैं कीवे खड़ोई नैं न्ह्यिाल़दा रेह्या तिस न्हेरे बक्खे ते गीत्ताँ गाणे दी उवाज सुणने ते पैह्ल्लैं कीवे जो लग्गा जबरैं मती देर लाई सैह समझी गेया गीत्ताँ गाणे  बाळा सैह म्लाह था, अपण कीवे जो लग्गा , म्लाह  बोतला लेणा गेया था ता घट्ट गराड़ी था अपण हुण तिन्नी होर घढ़ोप्पी इयो थी फिरी सैह् माह्णु अप्पुँ  भी सुझी गेया, खस्पड़ियाँ खान्दा,ढैन्दा-पोन्दा

तिन्नी सतान्ने दी बोतल अपणे कोट्टे दिया जेब्बा बंद करी इयो थी इक बोतल इक्की हत्थे थी कनैं  दूयैं हत्थैं दूई बोतल लबड़ाँ नैं लाई ने सैह् घढ़ोप्पा दा था

ता तिज्जो मिली गई बोतल ! ”  कीवैं गलाया एह ता दुह्स्सा दा हट प्चाँह ,” म्लाह्यें गलाया सैह अप्पुँ भी प्चाँह जो  हटा दा था तू इक गैं पुट्टी नैं मिंज्जो ला उरया कनैं मैं तेरा मुण्ड फाड़ी देणाँ तू सोच्चा दा था, तैं मिंज्जो अपणे फाइदे तियैं बर्त्ती लैणाँ ?”

तेरा मतलब क्या ?”   कीवैं पुच्छेया मतलब ? ”  म्लाह क्ळाया , “ एह् बड़ी छैळ, बड़ी खरी, बड़ी बधिया बोतल एह् मेरा मतलब मिंज्जो ता एह् समझा नीं औआ दा जे दूँह सैंटाइमाँ मिंज्जो एह् मिल्ली कीह्याँ? अपण तिज्जो एह् इक्की ने भी नीं मिलणीं ऐं

 “तेरा मतलब , तैं बोतल बेचणी  नीं ? ”  “ मैं... नीं... बेचणीं ” , म्लाहें गलाया अपण दूसरिया बोतला ते इक पैग्ग तिज्जो मैं लुआई दिंह्गा

 “मैं तिज्जो दस्सा दा, ” कीवैं गलाया जिस बला एह् बोतल हुन्दी सैह् माह्णू नर्के जान्दा ” “मिंजो बला एह् बोतल होए नीं होए, मैं ता जाणा तिह्त्थु जबरे म्लाहें गलाया , “ नीं  म्हाराज ! एह बोतल मेरी कनैं इसते बधिया चीज मिंजो हाल्ली तियैं ता होर कोई मिल्ली नीं तू जाई नैं होर तोप्पी लैह्

क्या एह सच ?” कीवे कळाया तेरे भले तियें , मैं तेरे छ्न्दे  करा दा, इसा बोतला मिंजो बेच्ची देह
तेरियाँ गल्लाँ नैं कोई फर्क नीं पौन्दा म्लाहें जुआब दित्ता

तैं  सह्म्झेया मैं मूर्ख हुण तिज्जो पता लग्गा मैं ऐड्डा भी मूर्ख नीं ऐं  जे मैं तिज्जो इसा बोतला बेच्ची देयाँ , कनैं हुण मैं कोई होर गल्ल नीं सुणनीं , तैं नीं पीणी ताँ मैं पी लैन्दा कनैं गुड नाइट तिज्जो

चला गेया सैह जबरा म्लाह सैह्रे जो कनै ओह् गइ क्हाणियाँ  ते बाह्र बोतल चला गेया कीवे होआ साह्यीं कोकुआ बला, कनैं बेअंत  थियाँ  तिन्हाँ दियाँ खुसियाँ कनै मती भारी  सान्ति बड्डे घरे , तिन्हाँ दिया जिंदगिया

                                        *********

अनुवाद:

द्विजेन्द्र द्विज , विभागाध्यक्ष अनुप्रयुक्त विज्ञान एवं मानविकी, राजकीय पॉलीटेक्निक,. सुन्दरनगर-175018 ज़िला मण्डी

No comments:

Post a Comment