Thursday, December 18, 2014

बोतला दा सतान भाग तिन

रॉबर्ट लुई स्टीवनसन (Robert Louis Stevenson) 13 नवम्‍बर 1860 - 3 दिसम्‍बर 1894 दी क्हाणी ' बॉट्ल इम्प ”(The Bottle Imp'') दा   हिमाचली प्हाड़ी अनुवाद


सतां सालां दे रॉबर्ट लुई स्टीवनसन



(दुअे भागे च तुसां पढ़या कि सतान खरे कनै बुरा भी करदा। कीवै दा घर बी बणी गिया सताने ते मुक्ति भी मिली गई। सैह कोकुआ ने मिली ने गीतां गाणे च मस्‍त है।)


पेश है इसा लम्‍मीया क्‍हाणीया दा अगला भाग 

- द्विजेन्द्र द्विज

सोणे ते पैह्ल्लैं सैह न्होत्ता तिद्दैं चीन्नी नौकरें सैह गांदा सुणेया चाणचक्क गाणाँ बंद होइ गेया नौकरैं सुणने दी बड़ी कोस्त कित्ती अपण गाणे दी कोई उवाज हुण नीं औआ दी थी; कनैं सारी रात ड्योढ़िया तिसजो अपणे मालके देयाँ पैराँ दी छेड़ सुमदी रेह्यी

सच ताँ एह था जे कीवे न्होणाँ गेया ताँ तिसियो अपणियाँ छातिया पर इक छोटा देह्या चिट्टा दाग सुज्झा था कनैं तिन्नी गाणाँ बंद करित्ता था   सैह जाणदा था एह क्या था एह तिन्नाँ दिनाँ ठीक नीं होणे आळा कोह्ड़ था

बड़ी डराणे वाळी गल्ल कुसी भी नोजुआन्ने जो एह पता लगणाँ जे तिसजो कोह्ड़ कनैं तिसजो अपणेयाँ सारेयाँ मितराँ , घराँ, बाराँ जो छड्डी नैं समुंदरे कनैं लगदियाँ टोह्ल्लाँ मोलोकोई’(कोह्ड़ियाँ दी कलोन्नी) दे पूर्बी पत्तणें पर जाणाँ पोणाँ ऐं अपण कीवे तियैं ता इह होर भी मुस्कल था अजैं कल्ल ता सै अपणियाँ प्यारिया नैं मिल्लेया था कनैं हुणे तिसदियाँ सारियाँ आसाँ सीह्स्से दे टुकड़े साह्यीं तिसजो टुटदियाँ सुझ्झा दियाँ थियाँ

अपणियाँ ड्योढ़िया चकराँ लांदा सै सोच्चा दा था , “ संझा समुंदरे ते ओंदिया सेळिया -ताजिया कोकुआ ने मैं कैंह मिल्ला हुंगा ? मेरियाँ हाक्खीं दिए लोई, कोकुआ ! हुण मैं कदी तिज्जो नैं ब्याह नीं करी सकदा   मैं ता तिज्जो हत्थ भी नीं लाई सकदा "

तिन्नी अपणियाँ हक्खीं ते अथरू पूँह्जी सट्टे अधिया रात्ती तिसियो बोतला दा ख्याल आया अपण सोच्ची ने तिद्दे खून्ने दी बर्फ जम्मी गेई। " सैह बोतल ताँ बड़ी बुरी चीज " तिन्नी सोच्चेया " अपण इस कोह्ड़े जो ठीक करने तियैं होर उमीद भी क्या ? कोकुआ बाह्ल हटी नें जाणें दी तियैं होर उमीद भी क्या ? मैं कल्ल होनोलुलुतियैं झाज्जे बेह्यी जांह्गा कनैं लोपाके जो तोप्पी नैं बोतला खरीद्दी लैंह्गा "

झाज्जे किह्ल्ला बैह्ठेया कीवे समुंदरे कनारे बणओं  कियानो दे घरे जो दिक्खा दा था रुक्खाँ हेठ काळियाँ टोह्ल्लाँ बिच सैह घर था कनैं दारुआज्जे पर तिन्नी सै कुड़ी दिक्खी तिसा चिट्टा ब्लाउज कनैं लाल स्कर्ट पाइयो थी कनैं गळे फुल्लाँ दा बड्डा हार देह्या पाह्या था

मेरे दिले दिए राणिएँ ! सैह क्ळाया," तिज्जो जितणे तियैं मैं अपणी आत्माँ भी बेच्ची देणीं "

रात भर कनैं अगला सारा दिन सैह झाज्जे पागलाँ साह्यीं ताँह-तुआँह फिरदा रेह्या। संझ्झा झाज्जे ते लोहंद्याँ तिन्नीं लोपाके दी तोप पाइत्ती तिसजो पता लग्गा जे लोपाकैं झाज लई लेह्या कनैं सैह पोला-पोलाजाँ  काहिकीजो चला गेह्या था लोपाके ते मदत मिलणाँ मुस्कल थी कीवैं सैह्रे तिसजो कनैं लोपाके जो जाणने आळे इक्की माह्णुएँ बारे सोच्चेया कनैं लोक्काँ ते अपणे मितरे दे घरे बारे पुच्छेया। लोक्काँ तिसजो दस्सेया जे सैह माह्णूँ ताँ मता ()मीर होई गेह्या कनैं तिस बला वाकीकीपत्तणें पर अपणाँ नौंआँ छैळ घर भी किछ सोच्ची नैं कीवैं टेक्सी लई कनैं तिस मैह्रमें दे घरें जाई रेह्या " मैं तिज्जो तियैं क्या करी सकदा? " तिस मितरैं पुच्छेया "मैं लोपाके जो इक बरी इक खास चीज बेच्ची थी मैं इह सोच्ची नैं तिज्जो बला आया जे तू लोपाके जो तोपणे मेरी किछ मदत कर्ह्गा " कीवैं जुआब दित्ता

तिस माह्णुएँ दा चेह्रा काळा पई गेया मेरा तिसा खास चीज्जा नें किछ लैंणाँ -देणाँ नीं ऐं कीवे ! हाँ इक्की होर माह्णुएँ बला जाह , सायद तिह्त्थु किछ पता लगी जाए " तिन्नीं इक्की माह्णुएँ दा नाँ कागजे पर लिखी नैं कीवे जो दइत्ता

कई दिन लाई नैं कीवे इक -इक करी मतेयाँ लोक्काँ बला गेया ,सै लोक अपणेयाँ नौंयाँ कपड़ेयाँ,गडियाँ,घराँ कनैं नौंइयाँ जिंदगिया ते मते खुस थे ।अपण तिसा खास चीज्जादे नायें पर तिन्हाँ  देयाँ चेह्रेयाँ पर बद्दळ छाई जा दे थे "कोई भ्लेक्खा नीं ऐं तिन्नीं  सोच्चेया "उदास हाक्खीं दिक्खीं नैं, कनैं सस्काराँ सुणीं नैं मिंजो पता लगदा रैह्णाँ जे मैं बोतला रेड्डैं पुज्जा दा "

आखर तिसजो बेरीटानिया स्ट्रीट रैह्णे आळे इक्की माह्णुएँ बला भेज्या गेया एह्त्थु भी सैह नौंआँ घर कनैं बाग था दरुआज्जे पर औणे बाळा सैह नोजुआन बिल्कुल  चिटा कनैं बमार सुज्झा दा था तिसदियाँ हाक्खीं हेठ काळे गत्त पैह्यो थे, बाळ पतले थे

पक्का एह्त्थु होणीं कीवें सोच्चेया कनैं घरे वाळे नोजुआन्ने जो गलाया," मैं बोतला खरीदणाँ आह्येया ”  सुणीं नैं सैह नोजुआन पोंदा पोंदा बचेआ " बोतला!"  सै कळाया, बोतला खरीदणाँ ? " तिस कीवे बाह्यीं ते पकड़ी अंदर लई नीत्ता कनैं दूँह गलास्साँ सराब पाई
हाँ, मैं बोतला लैणाँ या हुण कीम्त क्या ?”  तिस नोजुआन्ने दे हत्थाँ ते गलास पोंदा-पोंदा बचेया कीम्त तिज्जो पता नीं ऐं?" “मैं भी ता सैह पुच्छा दा कीम्ता कोई खराब्बी आई गेइयो?”

कीम्त ता हुण बड़ी लोह्यी इयो " नोजुआन्नैं गलाया   " मैं घट दई दिंगा तिज्जो कितणे दी पई थी ?” “ दूँह सैंटा दी

ताँ तू मिंजो इसा इसा बोतला इक्की सैंटे बेच्ची सकदा, कनैं मैं...’; लफ्ज कीवे दिया जीह्ब्भा पर सुकी गे जे सैह अप्पुँ इसा बोतला इक्की सैंटे खरीद्दी लैंदा ताँ सैह तिसा  सैंटे ते घट कुसी जो बेच्ची नीं सकदा था बोतल तिस कनैं सारिया उमरा तियैं रेह्यी जाणीं थी मरने परंत सतान्नें तिद्दी आत्मा(रूह) नर्के जो लई नींणीं थी सैह नोजुआन तिद्देयाँ पैराँ पई गेया खरीद्दी लैह,” इसा कनैं मेरी सारी धन-दोलत भी लई लैह मैं पागल था जाह्ल्लू मैं एह सस्ती खरीद्दी थी, अपण मैं पैसे चोरेयो थे मैं पैसे टाह्णे थे, नीं ताँ मिंजो जेह्ल्ला जाणाँ पोणाँ था

मिंजो दई देह बोतला कीवैं गलाया पंजाँ सैंटाँ दा एह सिक्का लैह कनैं खुह्ल्ले ताँ पक्का तिज्जोला होणे हन्न जीह्याँ कीवैं  सोच्चेया था , नोजुआन्ने फट चार सेंट डि ते    हत्थे बोतल ओन्देयाँ कीवैं अपणीं मुराद मंग्गी लई जे तिद्दा कोह्ड़ ठीक होई जायें घरैं आई नैं तिस कमरे कपड़े तुआरी नैं दिक्खेया, कोह्ड़
ठीक होई गेह्या था

हुण इक होर नोक्खी चीज होई जाह्ल्लू कीवैं दिक्खेया नसाण गाइब होई गेह्या था , सैह हुण  होर नीं सोच्चा दा था जे इह ()लाज कितणाँ  बड्डा चम्त्कार होया था,सच ताँ एह जे सैह कोकुआ बारे भी नीं सोच्चा दा था  सैह ता बस एह सोच्चा दा था जे तिसदा  हुण इसा बोतला  ते कदी छटकारा नीं होई   सकणाँ  है कनैं सतान तिसदे जींदेयाँ ता तिस कनैं रैह्णाँ था अपण मरी नैं भी तिसदिया रूह्यी पर सतान्ने दा कब्जा होणें बाळा था

थोड़िया देरा बाद तिस दिक्खेया रात होई गेहियो थी कनैं होटले बैण्ड्डे बाळॆ धुन्नाँ बज्जा दे थे बुह्न्न जाई नैं सैह भी लोक्काँ सामल होई गेया बैण्ड्डे बाळॆ हिक्की आओ आओ दी धुन बज्जा दे थे ,एह तिस गीत्ते दी धुन थी जिस सैह कोकुआ तियैं गांदा था कनैं सँगीत्ते सुणी नैं तिद्दा होंसला हटी आया

ठीक तिन्नीं सोच्चेया, “इक बरी फिरी मिंजो खरे सौग्गी बुरा भी लैणाँ पौणाँ ”  फटोफट सैह किनाओ दे घरैं पुजी गेया कनैं स्ताब्बी सैह कोकुआ जो ब्याह्यी नैं प्हाड़े पर अपणे बड्डे घरे लई आया

हुण , कीवे जाह्ल्लू कोकुआ कनैं हुंदा था ताँ खुस रैहंदा था, अपण किह्ल्ला सैह डरी जान्दा था सैह मळोह्यीं थी , छैळ थी, गान्दी रैंददी थी ,कनैं घरे दी सभ ते जादा चम्कणे आळी मणि सैह थी अपण तिसा जो खरीदणे तियैं दिह्तिया कीम्ता बारे सोच्ची नैं सैह सस्काराँ भरदा रैहंदा था सैह तिसा कनैं ड्योढ़िया बैहंदा था, गीत्ताँ गान्दा था ,कनैं मुस्क्ड़ाई नैं तिसा दिया हर गल्ला जुआब भी दिन्दा था अपण दिल तिसदा हर बेल्लैं बमार रैहणाँ  लग्गा

फिरी इक दिन ऐसा भी आया जाह्ल्लू कोकुआ बागाँ नचणाँ -टपणाँ बंद करी ता तिसा दे गीत मुकी गै कने कीवे जो सै अपणे कमरे रोंदी मिल्ली

कीवे !” सै बोल्ली, “जाह्ल्लू तू अपणे चम्कील्ले घरे किह्ल्ला था , ता तू इक मस्त माह्णू था तू हसदा -गांदा था,अपण जधैड़क्णी देह्यी मैं इयो तैं ता मुस्क्ड़ाई ने भी नीं दिक्खेया इह बद्दळ तिज्जो पर मैं कीह्याँ ल्यन्दा ?

"कोकुआ बचारिये !" कीवें गलाया सै तिसा बला बेह्यी गेया कनैं तिसा दा हत्थ पकड़ी लेया मैं नीं चाह्न्दा था तिज्जो पता लग्गै ,अपण हुण मैं तिज्जो दस्सी दिन्दा, ता तिज्जो पता लगणाँ  जे मैं तिज्जो कितणाँ प्यार करदा , तैं सम्झी जाणाँ , मैं हुण मुस्कड़ांदा कैंह नीं "
तिन्नी तिसा जो बोतला दी क्हाणीं  सुणाई  त्ती तैं एह मिंजो तियैं कित्ता?" तिसा गलाया। ता मिंजो क्या फिकर "
मेरिये छैल्लो !”,कीवें जुआब दित्ता,“जाह्ल्लू मैं सोचदा मेरी रूह भी चली जाणीं , मैं फिकरैं सुकणाँ लगी पोंदा
अपणतिसा गलाया,“तू बर्बाद नीं होई सकदा ,कैंह जे तैं कोकुआ नैं प्यार किह्त्या मैं बचाहंग्गी तिज्जो, नीं ता मैं मरी भी तिज्जो कनैं जाणाँ तू सोचदा जे तिज्जो बचाणे तियैं मैं नीं मरग्गी?"
पियारिए, तू  ह्जार बरी मरग्गी ता भी  फाइदा क्या " सै क्ळाया ,“ सुआएँ मेरिया सजा सोग्गी  मिंजो किह्ल्ला छडणे ते?"
तू दिक्ख्याँ तिसा गलाया,“मैं भी होनोलुलु तिकर सकूल्लैं पढ़ियो , मैं कोई आम कुड़ी नीं ऐं तू सेन्टे बारे क्या गला दा ? अमरीका दिया कनैं होरनीं मुल्खाँ दियाँ मुद्राँ (करन्सियाँ) फर्क हुंन्दा अँग्रेज्जाँ दा फ़ार्दिंग अद्धे सेंटे बरोब्बर हुंदा अपण हाईबो सै कळाई , “फार्दिंग कनैं बोतला खरीदणे बाळा तिसा बोतला जो गाँह कैस नैं बेचगा? कैंह जे इसते घट सै बेच्ची नीं सकदा हाँ फ्राँस है फ्राँसिसियाँ बाह्ल छोट्टा सिक्का है जिसजो सै सेंटाइम गलान्दे कनैं पन्जाँ  सेंटाइमाँ दा इक सेंट हुन्दा होर क्या चाह्यी दा ? चल कीवे , असाँ फ्राँस देयाँ टापुआँ जो चली पोन्दे जितणीं स्ताब्बी असाँ जो झाज पुजाई सकै चल ताहीत्ती जो चली पोन्दे तिह्त्थु असाँ बला चार, तिन्न, दो, इक सेंटाइम होणें एह बोतल ता चार बरी बिकणी ! "

कोकुआ अपणे दूँह्यी  दे  सभते मैंह्ग्गे कपड़े सफरे वाळिया पेटिया पाये कैंह जे तिसा गलाया ,“असाँ ()मीर सुझणे भी ता चाह्यी दे नीं ता बोतला दा बसुआस कुस करना?”

पेटिया दे इक्की कूणें तिसा बोतल रखी ती कीवे जो किछ उमीद नजर आई तिसदे सुआस कनैं चाल किछ होर हल्के होई गे फिरी बी डर ता तिस कन्नैं था कीवे कनै कोकुआ "ताहीती" चली गै घर लई लेया घोड़े कनै गडियाँ खरीद्दी लईयाँ कनैं मते पैसे खर्चे। असान था इह करना जाह्ल्लू  तिकर तिन्हाँ  बला सै बोतल थी कैंह जे बीह्याँ जाँ सैंक्ड़याँ डालराँ तियैं  तिन्हाँ सतान्ने जो ता हक्क पाणीं थी दूरा-दूरा तिकर लोक तिन्हाँ जो जाणीं गै कनैं तिन्हाँ ने मितरी पाणाँ चाह्णाँ लग्गे

किछ टैम्मे बाद तिन्हाँ जो लग्गा जे तिन्हा जो ऐसा मितर तोपणे दी कोसस करना सुर्हू करी देणी चाह्यी दी जेह्ड़ा तिन्हाँ दी बोतल खरीदी लै ।जे सैह कुसी नें गल्ल लाह्न भी, ता कुस बसुआस करना जे सै ऐसी चीज बेचणाँ चाह्न्दे जेह्ड़ी तिन्हाँ दी हर इच्छेया पूरी करी सकदी
उपरा ते बोतला अंदर सतान्ने बारे भी ता दसणाँ पौणाँ  कने एह भी दसणाँ पौणा जे इह बोतल बेचणी जरूरी  कीह्याँ तिस मितरें इसा गल्ल जो मनणे ते नाँह दई देणीं कनैं तिन्हाँ पर हसणाँ, जाँ, जे सै मित्तर सिर्फ़ खतरे बारे सोच्चे , ताँ तिनी न्हठी जाणाँ जे तिद्दा सताने नें कोई बास्ता नीं है सच्चैं तिन्नी ता कीवे कने कोकुआ नैं भी कोई बास्ता नीं रखणाँ

तिन्हाँ दे सारे मित्तर तिन्हाँ ते दूर जाणाँ  लग्गे गह्ळियाँ लोक तिन्हाँ जो हल्की  देह्यी गुड मोर्निंगबोल्ली नें तिन्हाँ दे बक्खे ते स्ताबिया   निक्कळनाँ लग्गे
मितराँ तिन्हाँ बला औणाँ बंद करित्ता अपणे मकान्ने सै किह्ल्ले सारा दिन बेह्यी रैहन्दे थे कनैं इक दो लफ्ज भी अप्पुँ नीं गलांदे-बोल्दे थे।  तिन्हाँ आस छडित्ती कदी कोकुआ रोंदी थी कदी सै दोह्यो किठ्ठे प्रार्थना करदे थे रात्ती सै तिसा बोतला फर्से पर रक्खी  बोतला अन्दर घुमदे परछौएँ जो दिखदे रैह्न्दे थे अराम करने ते तिन्हाँ जो डर लगदा था अप-अपणेयाँ बिस्तरेयाँ सै कई घैंटे जागदे रैह्न्दे थे

इक्की रात्ती कीवे बिस्तरे पर सोणाँ नीं आया कोकुआ जो नींदर नीं आई   तिसा जो कीवे  नाँ ता बाग्गे सुझ्झा, नाँ रुक्खाँ हेठ ,नाँ समुंदरे कनारैं चन्दर्में बेसक सैह सारी जगहा चमकाई दिह्तियो थी सैह मकान्ने बाह्र निकळी , तिसा कीवे जो कळ्प्देयाँ सुणेयाँ कनैं केळेयाँ  देयाँ रुक्खाँ  हेठ रेत्ते सिर दई नें लेट्टेया दिक्ख्या
मैं इह नीं सह्यी सकदी तिसा सोच्चेया मिंजों ता किछ जरूर करना पोणाँ
तिसा झट-फट कपड़े बदले सरकारी दफ़्तरे ते मिल्लेआँ पैसेयाँ ते तिसा चार सैंटाइम लै कनैं मकान्ने ते बाह्र निकळी गई बदळाँ अम्बर ढकी लेया कनैं चंदरमाँ   चली गेया सारा सैह्र सुत्तेया था, कुस बखैं मुड़ै ,तिसा जो पता नीं लग्गा दा था

फिरी रुक्खाँ हेठ्ठे ते इक माह्णू खँह्गेया। कोकुआ रुकी गई इसा ठँडिया रात्ती एह्त्थु बाह्र क्या करा दा ? "  तिसा पुच्छेया खहंग्गा मारैं सै माह्णू गलाई नीं सका दा था अपण तिसा ळिया दिया लाइट्टा दिक्खेया सै माह्णू  बुढ्ढा कनैं गरीब था

मिंजो पर मेह्र्बान्नी करगा हवाई दिया इक्की धीया दी मदत करगा ?” “क्या !” खँह्ग्दैं -खँह्ग्दैं जबरैं  जुआब दित्ता, “तू हवाई ते इओ  बुरी जणास है, कनैं तू बमार जबरे ते भी बोतल खर्दुआणे तियैं चलाक्की करने दी कोसस करा दी ! मैं सुह्णेया  तेरे बारे , पर मिंजो तेरा डर नीं मारेया "

मिज्जों अपणी क्हाणी ता सुणाणाँ देह," तिसा ग्लाया   तिस जबरे बला बेह्यी नैं तिसा  जबरे जो कीवे कनैं बोतला बारे सभ किछ दसी त्ता कनैं हुण मैं तिद्दी सैह घरेआळी है,” तिसा ग्लाया, “जिसा तियैं तिस अपणीं आत्मा गुआई दित्ती मैं क्या करी सकदी? जे मैं तिस जो बोतला मिंजो बेचणें तियैं गलाँ ता सैह नाँह दिंदा अपण तिन्नी  सैह बोतल तिज्जो जरूर बेच्ची देणीं मैं एह्त्थु न्ह्याळ्दी तिस ते तू चौंह सैंटाइमाँ बोतल खरीद्दी लैह , मैं तिज्जो ते त्रींह खरीद्दी लैंग्गी मैं अपणे सुहागे बचाई लैंद्दी मेरा क्या बह्णगा , मिंज्जो फिकर नीं है

तू मिंज्जों धोक्खा ता नीं दिंग्गी ?"
परमात्मा मिंजो मारी सट्टै, जे मैं तिज्जो धोक्खा देयाँ
मिंजो चार सैंटाइम देह कनैं मिंजो एह्त्थु न्हियाळ "
कोकुआ ळिया खड़ोत्ती ता तिसा जो लग्गा जे सै ता मरी इयो थी स्ताब्बी तिसा जबरे जो हटदेआँ दिक्खेया कनैं तिद्देयाँ हत्थाँ बोतल थी
जीह्याँ तैं ग्लाह्या था , मैं करित्ता जबरैं ग्लाया, “जाह्लू मैं तिह्त्थु ते आया ता सैह बच्चेयाँ साह्यीं रोआ दा था हुण तिस सारी रात सई रैह्णा कनैं जबरैं बोतल तिसा जो पकड़ाणाँ  लाई
मिंज्जो बोतल देणे ते पैह्ल्लैं बुरे नैं  खरा मंग्गी लैह   खँह्गा ते छुट्टी पाई लैह
न्नतिन्नी जुआब दित्ता मैं जबरा माह्णू कबरा दे  इतणाँ रेड्डैं पुज्ज्या जे मिंज्जो सतान्ने ते कोई मेह्र्बान्नी लैंणे दी जरूर्त नीं अपण तू बोतला कैंह नीं लेआ दी , तू कुजो निह्याळा दी? "
बोतला पक्क्ड़्दिया कोकुआ दे हत्थ कंबी पै नीं मैं... मैं  न्हियाळा दी नींतिसा गलाया, “ मैं बस कमजोर है, इसा बुरिया चीज्जा ते मेरा ह्त्थ दूर खँजोआ दा मिंज्जो इक पल देह बस इक पल !"
जबरा कोकुआ जो दिक्खा दा था बचारी बच्ची !" तिन्नीं गलाया, “तिज्जो डर लग्गा  दा खरा, मैं रक्खी लैंदा इसा बोतला मैं जबरा है इसा दुनिया मैं फिरी कदी बी सुखी नीं रैंहंग्गा जिह्त्थु तिकर अगले ---”
न्ना!" कोकुआ कळाई इसा बोतला मिंज्जो दई देह एह लैह अपणे त्रै सैंटाइम बोतला मिंज्जो दई देह।"
भगुआन तेरा भला करै !" जबरा बोल्लेआ कोकुआ सै बोतल अपणिया स्कर्टा दिया तह्यी लकाई, जबरे जो गुड बाई कित्ती कनैं तिस रस्ते ते हेठ लोह्यी गई घरे जो हटी ता दिन होई गेह्या था तित्थु ,जीह्याँ जबरैं गलाह्या था, कीवे बच्चे साह्यीं सुह्त्तेया था
हुण ,मेरे लाड़ेया”, तिसा खुसर-पुसर कित्ती, “ तू सई सकदा जाग्गी नैं तू हस्सी गाई सकदा अपण बचारिया कोकुआ तियैं सोणाँ ,हसणाँ,गाणाँ , धर्ती जाँ स्वर्गे  दी मोजमस्ती होर नीं है ”  सै अपणे बिस्तरे लेट्टी गई , इतणी कियो थी जे लेटदिया तिसा जो नींदर आई गई


3 comments:

  1. तुहांरा ये कम इतिआस च लिखा जाना ....भोत बधाई

    ReplyDelete
  2. अलोक जी तुसां दा गलाणा दुरुसत है। द्विज होरां दा एह बड़ा बडा कम है। बधाई।

    ReplyDelete
  3. मैं ता द्विज होरां दी प्‍हाड़ी पढ़ी नै माहित होई जांदा। इसा क्‍हाणिया च भी भाषा दा कमाल है। अनुवाद ता एह लगदी ई नी। इसा ते भाषा दी अमीरी भी साह्मणै औआ दी।

    ReplyDelete