Friday, April 27, 2012

माणो अन्दरे ते माह्णुयें दा



एह है मुदित सेठी होरां दा पेंसला नै कागजा पर बणाह्या बणमाह्णू. कनै लिखी इक कवता. तेज सेठी होरां इसा दा हिंदिया कनै प्‍हाडि़या च अनुवाद करी करी ता. तसवीरा दिक्‍खा कनै कवता भी पढ़ा. पैह्लें पहाडी, फिरी हिंदी कनै आखर च मूल अंगरेजी.  



उज्जड्ड डरौणा जान्गली अजाद
जनौर अन्दरा दा, फरार होणा चाह्न्दा 
धेड़ी नै, जान्नी पेड़ी नै साक्सात होणा चा:ह्न्दा
माणो अन्दरे ते मा:ह्णुयें दा!


असंस्कृत घिनौना जंगली आजाद
जानवर भीतर का फरार होना चाहता
उधेड़ कर, मन तोड़ कर, प्रत्यक्ष होना चाह्ता
कपि आदमी के भीतर का!

 
uncultured ugly wild free
the beast within wants to flee
to unwind, to unman, to reveal
the APE in man!

8 comments:

  1. मुदित जी,तेज सेठी जी अँगरेजिया च कविता , अनुबाद कने स्केच सभ किछ बोह्त बधिया जी...
    मूळ कविता ता मूळ ही हुन्दी,भौंएँ जिसा मर्जी भासा च उतरै, अपण हिन्दिया हिमाचलिया च अनुवाद भी कविता जो दमाक्के दे खान्ने च ठीक बह्ठियाळ्णे च मददकार साब्त होआ दा.

    भाई अनूप जी सेठी जी तुसाँ ता अप्पुँ जानी जाण हन्न . एह गल्ल ता इसा ही फोर्मा च पूरी है. छ्न्दे च गलाणे दिया कोससा च मता किछ फिल्टर भी होई सकदा.

    "खह्ल्ड़ुए बाह्र औणा चाह्ये
    माह्णुए दे अँदरे दा बान्दर''

    ReplyDelete
  2. भाइओ जानीजाण सब्दे जो जणीजाण पह्ड़्नेओ.

    ReplyDelete
  3. एक बहुत धन्यवाद :)

    ReplyDelete
  4. मुदित जी दी अँग्रेजी कवता बड़ी छैळ लग्गी. स्कैच भी. अनुवाद... सैह भी हिँदिया हिमाचलिया च ... बड़ी खरी कोसस है... बधाई...

    गालिब भी याद औआ दे :

    बस के: दुश्वार है हर काम का आसाँ होना
    आदमी को भी मयस्सर नहीं इन्साँ होना

    कवता जो पढ़ी नै मैं ता इह बसूल्लेया:

    " खह्ल्ड़ुए बाहर औणा चाह्यें
    माह्णुएँ दे अंदरे दा बान्दर "

    ReplyDelete
  5. मुदित जी,
    अँग्रेजिया च बड़ी ई छैळ कवता लिह्खिओ तुसाँ … स्केच ता होर भी बधिया .
    तेज सेठी जी, मूळ ता मूळ ई है… हिँदिया हिमाचलिया च अनुवाद भी कवता जो दमाक्के दे खान्ने च ठीक भठ्याळने च मददकार साब्त होआ दा…

    मिन्जो ता कवता पढ़ी गालिब भी याद औआ दे:

    “बस के दुश्वार है हर काम का आसाँ होना
    आदमी को भी मयस्सर नहीं इन्साँ होना”

    भाई अनूप जी ! मूळ कवता ई बड़ी छैळ है. तुसाँ ता अप्पुँ इ जणीजाण हन्न. छ्न्दे च लिखणे दिया कोससा च ता मता किछ फिल्टर भी होई सकदा.
    मिंजो ता इह कवता ईह्याँ समझोई:

    “खह्ल्ड़ुए बाहर औणाँ चाह्यैं
    माह्णुएँ दे अन्दरे दा बान्दर”

    ReplyDelete
  6. हिंदिया दे बड़े बड्डे कवि मुक्तिबोध होरां अपणी कवता ''दिमाग़ी गुहान्धकार का ओरांग उटांग''च इस बिंबे जो बड़े नाटकीय तरीके नै कनै विस्‍तार नै खोल्‍या है. एह कवता कवताकोश पर भी है

    ReplyDelete
  7. I see a man more heinous and wild
    who roams around the woods on earth
    and curses the beast noble and mild
    in maddened hunt of sadistic mirth...

    ReplyDelete