Sunday, April 1, 2012

पहाड़ी दोहे




मिलणा मिलणा करदेयां जाई आए पोआर
तैहड़ी ते ई मैहरमां नी गमदा संसार

साल्‍ले बिच इकध बरी आई प्रभू दी याद
थैले खोहते बांदरां क्‍या खाणा परसाद

नी गमणा नीं गम्‍मेया दुनिया दा एह खेल
अंदरैं मच्‍छ तरक्‍केयो बाहरैं इतर फलेल

हैहै हत हत कू तिकर, कितणी लाणी बाड़
माहणुए ते नीं डरा कदे, बांदर पाहन ज्‍वाड़

गायीं खुलियां छड्डा दे, सड़कां बणियों रेल
गड्रिडयां ठोरी देया कदे अपणे दीयां तेल

नीं सुणने नैं मुकी गए कितणे  अपणे साख
बापू बकबक लग करै, पुत्रे दी लग भाख

टिपड़ैं तिन्‍हां दैं लिखेया, लाणे जिन्‍हां रुआर
बस्‍सी गे तां हस्‍सी गे, नीं तां छोहंदी मार

नी गल करनी भीड़ा नैं बणै तिले दा ताड़
स्‍हाबे लांदा रेहई गेया, इतणी खाहद़ी घाड़

नां चाहई दा रक्‍खेया दारू बणी बपार
जिन्‍हां लघाइंया बोतलां सैह पुज्‍जे हरिद्वार

झुड़यां लुक्‍की भंगा दे जे सटराले लाहन
छड्डी पधरे गोहरे जो खड्डैं खड्डैं जाहन

बड़ी देर घुलकणे ते परंत जाह़लू मैं अप्‍पू इन्‍हां दोहेयां दयारे पर नीं टकाई सकेआ तां ई तुसां जो तकलीफ देणी पौआ दी। दोहेयां दा ताप किछ दिन देहया चढ़ेया भई खूब लिखी चकाए। कुतकी बांदर धूं देया दे कुतकी मिरग ई सैहरे जो चल्‍लेया। कुथी ब्‍याहां च सराबां घड़ोपी करी छोहरू बडोहरू सारे ई बिलटा दे, मार त्‍याड़ा मारा दे। जणेती जो जांदिया बरिया जेहड़े साफे दा तुरला लाड़े दे बापुए दे नक्‍के साहई चकोया था सैह पंज सत पैग सट्टी नैं राती जो गुच्‍छू बणी करी पट्टू बणी गेया। बसां जो हथ देया दे तां सराबड़ा समझी करी कोई डरैवर रिस्‍क नी लैंदा। तिन्‍हां जो बस्‍सा च बेहालणा कुनी माऊं दैं पुतरैं। बड़ा गौं कित्‍तेया भई तुसां इन्‍हां जो टकाई ई देहन दयारे पर।
नवनीत शर्मा 


9 comments:

  1. मिलणा मिलणा करदेयां जाई आए पोआर
    तैहड़ी ते ई मैहरमां नी गमदा संसार

    साल्‍ले बिच इकध बरी आई प्रभू दी याद
    थैले खोहते बांदरां क्‍या खाणा परसाद

    नी गमणा नीं गम्‍मेया दुनिया दा एह खेल
    अंदरैं मच्‍छ तरक्‍केयो बाहरैं इतर फलेल

    है -है हत- हत कू तिकर, कितणी लाणी बाड़
    माहणुए ते नीं डरा कदे, बांदर पाहन ज्‍वाड़

    गायीं खुलियां छड्डा दे, सड़कां बणियों रेल
    गड्रिडयां ठोरी देया कदे अपणे दीयां तेल

    majaa aaee geyaa!!!!

    ReplyDelete
  2. मजा आया। दोहेयां च मता कुछ गलाईता नवनीत होंरा पर बांदरा साही माण्‍हुआं दा भी कुछ नी होई सकदा। सब होआ कन्‍ने इतर फलेल ही है। पोआर नी गै पर मैहरमां नी गमदा संसार ।
    क्‍या करना अरा इना च रब सुझदा
    नी सुझदा ता इक नी बचणा था!

    ReplyDelete
  3. नवनीत होंराँ जे कड्डी लेया कागज़ कलम दवात।
    कवता , दोहेयाँ गीताँ दी आई गई बरात।
    आई गई बरात, लिक्खी ने कित्ता बड़ा कमाल
    दोहेयाँ पढ़ी खाडू भाई भी होया माला-माल।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बड़का साह्ब सरबसिरी द्विजेंद्र जी कनैं कुशल जी,सौग्‍गी मित्‍तर प्रकाश जी, तुसां दोहे पढ़े कनैं इन्‍हां पर गल्‍ल कित्‍ती। मिंजो बड़ा बधिया लग्‍गा। कोई लिखै कनैं तिसियो पढ़ने आल़ा नी होए तां गप्‍प टिकदी नीं। सारेयां दा सुकरिया।

      Delete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
    Replies
    1. अप्रैले दिया पै:ह्लिया तुआरे धिहाड़ी दे दियारे ढक्कैं चढ़ा:येयो दोहे ऊंगरना भी लगी पये कनैं मैं दिक्खदा ही रे:ह्या. पढ़ने दा मौज्जू लैंदे लैन्देयां भान्त-भान्त दे ख्याल पुंगरी पै. सभना ते खरी गल्ल तां एह लग्गी भई नसौन्च पहाड़ी, कनै गल्ल गाह्ड़ी. पहाड़ी भाषा तईंयें मत्ते मित्तर गल्ल छेड़दे कनै अपणीयां पहाड़ीया जो साहित्यिक स्थान देणें ताईं क्या-क्या नी करना चाह्न्दे. बड़ा जुंग्ग च:ह्ड़दा. कनैं कईयां भाऊआं तां एह भी बोल्ली छड्डेया भई एह तां अन्पढ़ां -गुआरां दी भाखा है, अपर नवनीत होरां देयां दोहेयां एह साबत करी ता भई नसौन्च(शुद्ध) पहाड़ीया च बड़ी ते बड़ी गहरीया सोच्चा जो अक्क्खर बोल्ली सकदे. मेरीया हिक्का अन्दरे ते भी इस्सा किस्मा दा उप्फाण उट्ठदा भई कैं:ह ना होयै पहाड़ीया जो मुहावरेयां कनै अख्वाणां नैं सजाया जायै. पहाड़ी तां गळीट्टी सिन्नी चिक्क है जिसा दा मूर्त रूप असां अपणिया रू:हा नै घड़ी सकदे क्नै अप्णीयां लोक संस्कृतिया दा गा:ह्ड़ा रंग चा:ह्ड़ी सकदे. नवनीत जी, तुसां दीया रु:हा च तिसा दीया खुश्बूआ दी झाळ उट्ठा दी. अस्सां जो तुहात्ते बड़ीयां उमीदां हन.

      Delete
    2. इस मोसमे च जित्‍थू अजकल रचना जो दिखी करी खरा जां बुरा गलाणे दीया जग्‍गा लखारियां जो दिक्‍खी करी गलोआ दा,बड्डे भाई तेज सेठी होरां जे बी लिखेया सैह मने ते लिखेया जिस ताईं मेरा लखारी मन छाल़ीं मारना लगी पेया। पता नीं.... किछ असर हुंदा ई हुंगा बड्डेयां ते तरीफ सुणने दा। असां दे पिता होरां भी रोटी खांदिया बरिया द्विज भाइयां दी ग़ज़ल या मेरिया कुसी अधपक कविता दे बोल सुणी करी माता होरां नैं गलांदे थे भई 'तेरेयां पुतरां मिंजो ते भी खरा लिखणा ए'

      अज लगदा जे तिन्‍हां साहई तां कुथू लिखणा अपर सैह हल्‍लासेरी मिलदी थी तां असां होर लिखणे जो पडरोंदे थे।

      हिमाचल ऐसा सांत स्‍टेट ए भई कोई भी किछ भी लिखी दै...कोई रद्देअमल नीं, कोई प्रतिक्रिया नीं। खभनीं मठां दा अपणा अनुसासन हुंदा हुंगा या फिरी अक्‍खरां दी महंगयाई बधी गेइयो जे कोई किछ बोली करी राजी नीं। अपणा लिखा, अपणा पढ़ा, अपणे काणे जो नैणसुख गला....।

      तेज भाई जी, मैं तुसां दे सब्‍दां जो सच करने की कोस्‍त जरूर करगा।

      Delete
  5. झोलू खोते बांदरा क्या खाना प्रसाद ... बड़ा बधिया नवनीत . जी

    ReplyDelete
  6. भाऊ प्रकाश जी, तुसां इस बलोगे पर आए, स्‍वागत। तुसां टिप्‍पणी बी दित्‍ती तिस ताईं होर सुकरिया। औंदे रैह्नेयां बड़का ई...

    ReplyDelete