Saturday, April 14, 2012

हिमाचल कन्‍ने गोआ

जीतेंद्र सिंह होरां दे कैमरे च ते शिमला 


पिछलें हफ्तें विवे‍क मोहन होरां बोल्‍या मुंबई मिरर अखबारा च गोआ दे बारे च इक लेख पढ़ा. तिन्‍हां दा मतलब था गोआ दे ब्हानें हिमाचले दे बारे च विचार करा. असां फेस बुका पर इस बारे च इक नोट लगाया. तुसां भी इस जो एत्‍थी पढ़ी सकदे. दुए पासें कुशल कुमार होरां इस लेखे दे ब्‍हानें हिमाचले पर अपणी गल रखी है. हुण तुसां इसा गल्‍ला जो गांह् बधाह् 
 
गोआ इक समुदरे कन्‍नारें बसया इक छोटा देह्या प्रदेश है। हिमाचल कन्‍ने गोआ दा भुगोल भासा, संस्‍कृति, समाजिक जीवन लग होणे दे बावजूद दूईं बिच मतियां सारियां समानतां हन। खास कर होणे-जीणे दियां समस्‍यां दी तसीर इक है। दूहीं दा अपणा नूठा पर्यावरण, संस्‍कृति कन्‍ने कुदरती पूंजी खतरे च है। मुंबई मिरर अखबारा च छपयो अंग्रेजी लेखि‍का युनीस डिसोजा  (Eunice de Souza) दा लेख फाईटिंग दि गुड फाईट असां दिया भी आखीं खोला दा हालांकि गल गोआ दी है।

गोआ दे डम्‍बलिन एयरपोर्टे ते इक बड़ी छेळ सड़क नदिया कन्‍ने चल दी-चल दी चाणचक मुड़ी जांदी। नजारा दहेया भई साह् रुकी जाएं कन्‍ने सामणे ताड़ बणे च चमचम करदा इक पराणा सफेद चर्च। हिमाचले च ता सड़कां कन्‍ने चलदियां, मुड़दिया-घुमदियां नदियां साथ छडदियां ही नी। गोआ-कोंकणी अकादमी दे पुरस्‍कार वितरण समारोह च डिसोजा ने एह महसूस कीता कि गोआ दे संस्‍कृतिक महौले दे बारे च लोकां च समझ कन्‍ने उत्‍साह उमड़ा दा। जित्‍थु तक हिमाचले दी गल है अपणी इक रजीयो-पुजीयो कला, संस्‍कृति कन्‍ने भासा होणे दे बावजूद लोकां जो इस बारे च उत्‍साह ता छडा भास तक नी है।   

गोआ च रैहणे वाले कवि मनोहर शेट्टी होरां दा गलाणा था इक छोटा देह्या प्रदेश होणे दे बावजूद गोआ कला कन्‍ने संगीत दे कई चमकदे सितारे पैदा कित्‍तेयो। एफ एन सूजा, वीएस गायतोंडे, मारियो मिरांडा, किशोरी अमोणकर, जितेंद्र अभिषेकी, केसरबाई केरकर, लता मंगेशकर, आशा भोसले। गोआ दे संगीतकारां, कलाकारां, लोकसंगीत, शास्‍त्रीय संगीत, पुर्तगाली फेडो कन्‍ने अमरिकन जाज दी मुंबईया फिल्‍मी संगीत च हिस्‍सेदारी पर नरेश फर्नाडिंस ने इक कताब भी लीखियो। एह संस्‍कृति अजे दे बडयां-बडयां नां वालयां ही नी बणायी। छोटे-छोटे हल्‍कयां दियां छोटीयां-छोटीयां मंडलियां दियां कई कहाणियां हन। जिन्‍हां गाणे, बजाणे वाले कलांकारां जो गांह् बधाया। 

असां दी मजबूरी ऐह है कि मुंबई दे बॉलीबुड च जिनां जो असां हिमाचली गलादें सैह् अपणे आपे जो पंजाबी दसदे। फिल्‍मां पर हिमाचले दे प्‍हाड़, बंसरी, छंझोटियां, नाटियां कन्‍ने कूंजुऐ दे गीतां दा असर ता पराणा है पर पछेणदा कोई नी। पराणे साज, बाज, राग, ढोल-टमक सब गुआच दे जादे। जगराता मंडळियां हन सैह भजनां-भेटां दे नाएं पर हिन्‍दी फिल्‍मी गीतां दियां फूड़ कन्‍नफोड़ू परोडि़यां पता नी कुसा भासा च गाई जा दियां। 

जित्‍थु तिक कोंकणी दी गल है सन 1987 च कोंकणी गोआ दी राजभाषा बणी थी पर ऐह इतणा सोखा नी था। इसा पर प्रतिबंध लगे। मराठी दी उपबोली गलाई ने मरठिया च जब्‍त करने दी कोशिश कीती गई। नौकरां दी भाषा गलाया। पर अनगिणत गोआनियां कोंकणी लग भाषा तांए लड़ाई लड़ी कन्‍ने जिती। हिमाचले च ता असां अप्‍पुं च लड़ी जा दे। मील-दो मील पर ही बोलीयां भासां च थोड़ा-बोत फर्क पई जांदा। ऐह गल अंग्रेजिया समेत दुनिया दियां सारियां भासां पर लागू होंदी कन्‍ने ऐह फर्क लिखत भासां च भी मिलदा। इस मामले च हिमाचले च ता गदर है असां इक्‍की भासा दी बारा भासां बणाई बैठेयो। ऐह गल भी सच है कि हिमाचले लग-लग परिवारां दियां भासां भी हन। ता क्‍या होया इकी प्रदेशे दी इकी ते जादा भासां भी ता होई सकदियां। क्‍या हिमाचले दे लोग अपणियां भासां ताएं कठी लड़ाई नी लड़ी सकदे। जै असां बिहारी मजदूरे ते बिहारी कन्‍ने पंजाबियां ते पंजाबी सिखी सकदे ता कांगड़े वाले शिमले दी कन्‍ने भोटी-कन्‍नोरी नी सिखी सकदे। भासां लग होंगीयां प्रदेश ता इक है जेड़ा असां जो भासा ताएं ही मिलया नहीं ता अधे ते जादा हिमाचल ता पंजाबे च होणा था।  

कोंकणी जो बणाणे च सबते बडा नां वामन वर्दे वालावलीकर दा है। कोंकणी जो पुर्नजीवित करने दी इनां दी चाह नी होंदी ता कोंकणी गोआ जो ना ऐह महत्‍व मिलणा था ना ही इसा अज इसा जगहा होणा था। इना कोंकणी च अनगिणत जीवनियां, उपन्‍यास, कथां, इति‍हास, व्‍याकरणे दियां कताबां लीखियां। कोंकणी दे बारे च गल करने पर इना दा गलाणा था। असांजो भाषाई तौर पर ऊंचयां दी भासा, छोटियां जातिं दी भासा, विद्वाना दी भासा, किसानां दी भासा च नी ख्रिंडणा चाही दा। असां किसानां जो भी विद्वान बणाणा है। असां सारयां विद्वान बणना है कन्‍ने कोंकणी भासा दी पूरिया आजादीया दा मजा लेणा है।
 
अगें लेखिका लीखया कि एह देह्यां लेखां ते ऐह् साफ होई जांदा कि गोआ इक देही जगह नी है जित्‍थु पुराणियां धूसर हवेलियां कन्‍ने ली‍पेयो-पौतयो सफेद चर्चां दे साये च सुहावनयां कनारंयां पर रामदायक शराबखानयां च कमजोर बोहिमियाई रूढि़या ते अजाद जिंदगी  जीणे वाले लोग रैंहदे।

जित्‍थु तिक हिमाचले दी गल है असां दी गिणती मेहनती-मानदार लोकां च होंदी पर असां डरदे बड़े भारी। असां अपणीया दरेळी पर भी अपणिया भासा डरदे-डरदे बोलदे कन्‍ने पंजाबी असां दे घरां च पंजबिया च जलेबीयां-पकोड़े कन्‍ने बिहारी बिहारीया च गोळ-गप्‍पयां बेची जांदे। असां दियां कोशशां च कुत्‍थु कमी रही गई। पहाड़ी गांधी बाबा, लालचंद प्रार्थी साही होर भी मत्‍तयां सारयां लोकां बडा कम कित्‍तया अज भी करा दे पर असां हल्‍कयां च खिंडी गियो। कोंकणी साही असां दिया भासा जो भी पंजाबी च मलाणे कोशशां होईंयां कन्‍ने अज भी जारी हन। दुखे दी गल ता ऐह है कि अपणे ही सिक्‍के खोटे हन। काश गोआ साही हिमाचले दियां बडियां प्रतिभां हिमाचले दियां भासा कन्‍ने संस्‍कृति तांए भी कुछ वक्‍त दिंदयां ता असां भाल घटे ते घट दो चार पद्मा सवदेव, वेदराही ता होणे ही थे। काश! गोआ साही हिमाचले च भी देह्या कुछ होई जाए सांस्‍कृतिक परिदृश्‍य दे बारे च असां दे लोकां च भी समझ कन्‍ने उत्‍साह उमड़ी जाए।


2 comments:

  1. asasn pahariya bhasha di gall karde par innean salaan ch asaan eh hi ni nishchit kari pae bhai pahari bhasha hai kun jahi kane seh manyata kinyan jugadgi. jehdi main uhn eh iss posta ch likha da kya eh pahari hai ? je hai tan himachale de kinne lok is jo samanjhade.koknkani di gal ihyan bhai seh saare goa ch boli jaandi. Guleri bandhuan de prayaas bhi is maamle ch ghat ni rahe par nateeja kya hoya eh dikhne aali gall hai.kadi mili ne baitha kane nauen sire te is galla par charcha kara tan shayad kusi arthvaan nateeje par asaan pujji jaiye.
    ahlen tan eh badi uljhiyo hai. haan saskritik smriddhi jo asaan ni sanjoi sake eh jyada sharmnaak gall hai kainh bhai eh kam inna mushkil tha hi ni.

    ReplyDelete
  2. एह गलबात फेसबुका पर भी चलियो है. ओह्थी बी एह सुआल साह्म्‍णै आई खड़ोता भई कुण कदएई डाइलैक्‍ट. विवेक मोहन होरां बोल्‍या 'डाइलैक्‍ट छड्डा डायलॉग करा'. मैं गलाया, इस ब्‍हानैं असां जड़ां नै जुड़ने दी कोसस हन करा दे. तां कुलदीप जी अरदास एह है भई भासा दे चकरे च कजो पौणा. जेह्ड़ी सांजो औंदी, तिहा च गलाणा कनै सैहई लिखी पाणी.

    दूई गल जेह्ड़ी उपरले लेखे च है सैह् मेरे ख्‍याले च जादा जरूरी है. साह्ड़े अंदर कितणा क हिमाचल है. कनै गांह् बधणे दी तांह्ग कितणी है. अपर अग्‍गैं दौड़ पिच्‍छैं चौड़ नीं, पिछला बुजका पिट्ठी ना होऐ, अपर ख्‍यानड़ू जरूर होऐ. तिह्दे बगैर गल नी बणणी

    ReplyDelete