Tuesday, May 17, 2016

बॉब ईटन: इक्क अमेरिकी पहाड़िया







  कुछ साल पहलें इक्की अख़बारे विच पढ़ेया था कि पालमपुर विच 5-6 साल तिकर रेह्यी के इक्क अमेरिकन कांगड़ी व्याकरण कने उच्चारण उप्पर शोध करना आया है ।  तिस कन्ने कोई अंग्रेज़ी या हिंदी विच ग्लांदा तां सैह पुच्छदा , कि तुसां पहाड़ी नी ग्लांदे? जाह्लू एह गल्ल मैं पढ़ी तां दिल कित्ता कि इस महानुभाव कन्ने मिली के अपणिया बोलिया जो अग्गें बधाणे दी प्रेरणा मिली सकदी। पर कुछ निजी कारणां करी के एह कम्म सिरे नी चढ़ी पाया। वक़्त गुजरदा रेह्या। केई बरी हालात ही एह्ड़े होई जांदे । सैह गल्ल आई-गेई होई गेई। हौळें-हौळें अमेरिका वाळे सज्जणे दा नां भी भुली गेया। बड़ी कोशस कित्ती कि नां याद औएं तां तिस महान् आदमिए कन्ने मिलिए या कोई सलाह मशवरा करिए, पर जाह्लू नां ही याद नी तां क्या करना! गूगल चाचुए वाह्ल भी मतळाक्के मारे पर कोई गल्ल बणी नी । खैर, अपणिया बोलिया ताईं धीड़ लगाई छड्डी । केई लोक मिलदे-जुलदेयां वचारां वाळे मिलणा लग्गे तां फिरी हौसला बद्धदा रेह्या। 

सोशल मीडिया दा ज़माना है; द्विजेन्द्र द्विज होरां इक्क व्हाट्सएप्प ग्रुप 'पहाड़ी पंची' विच जुड़वाया , जिसदे संचालक कुशल कुमार होरां पहाड़ी भाषा जो उप्पर चुक्कणे ताईं मतेयां बुद्धिजीवियां जो जोड़ी के रक्खेया है । इसी ग्रुप विच बिलासपुर दे लोकगवैये बलदेव सांख्यायन होरां भी हैन । बलदेव होरां इक्क ध्याड़ा अख़बारा दी सैह ही कटिंग ग्रुप विच पोस्ट करी दित्ती। बस! होई गेया कम्म ! जिस बन्दे दा नां ही भुली चुक्केया था, पर मिलणे दी काहळी मने ही मने विच मचिओ थी, तिसदा पता लगाणे दी बत्त लग्गी दुसणा ! बलदेव होरां दिया इक्की पोस्टा सारा कम्म आसान करी दित्ता । तिस ध्याड़े पूरा दिन इंटरनेट दा सहारा लेई के संझा तिकर न सिर्फ बॉब ईटन होरां दे बारे विच काफ़ी जानकारी हत्थें लग्गी , बल्कि तिह्नां दी थीसिस  भी मिली गेई । दूए दिन भ्यागा तिकर बॉब ईटन होरां कने  सोशल मीडिया पर ही गल्लबात भी शुरू होई गेई। अपणिया ही बोलिया विच तिह्नां दे जवाब पढ़ी के इतणी ख़ुशी होई कि पुच्छा मत। एह गल्ल जाह्लू मैं राजीव त्रिगर्ती होरां कन्ने बाकी पहाड़ी साथियां कन्ने दस्सी तां सैह भी बड़े खुश होए। 
        
बॉब ईटन यानिकि डॉ. रॉबर्ट डी. ईटन होरां जो अपणियां कुछ गल्लां दस्सियां , कुछ तिह्नां दियां सुणियां । हौळें-हौळें केइयां गल्लां पर वचार साँझा होए। राजीव त्रिगर्ती होरां दे कम्मे दे बारे विच कन्ने अपणे इकअद्धे लेख दे बारे विच मैं तिह्नां जो दस्सेया। राजीव त्रिगर्ती होरां दा पहाड़ी भाषा उप्पर लिखेया बड़ा लम्मा लेख है, जेहड़ा अपणे आपे विच कुसी शोधपत्र ते घट्ट नी है।
         
    इस वक़्त तिकर मिंजो एह पता नी था कि डॉ. ईटन हिंदुस्तान विच आयो हैन अज्जकल। पर तधेयाड़ी गप्पां-गप्पां विच पता लग्गा कि सैह जम्मू-कश्मीर दे ऊधमपुर विच डोगरी भाषा पर कम्म लगेओ अज्जकल करना। बस! फिरी त्रिगर्ती होरां कन्ने सलाह करी के असां मिलणे दी अड़ी पाई दित्ती। तिह्नां दे सहयोगी पवन होरां कने गल्लबात करने परन्त एह फ़ैसला होया कि वापस अमेरिका जाणे ते पहलें मिलणे दा कुछ सोचेया जाई सकदा। 
       
       12 अप्रैल 2016 जो पवन होरां दा फ़ोन आया कि बॉब अज्जकी रात कांगड़ा औआ करदे। अपणी उलझियो स्थिति विच भी मैं एह मौक़ा गवांणा नी चाहन्दा था, झट त्रिगर्ती होरां जो ग्लाया कने असां तिह्नां दे होटल विच जाई पुज्जे। बड़े ही शांत स्भाबे दे लम्मे-झम्मे बॉब आए कने असां दी गल्लबात शुरू होई। पवन कौंडल कने कर्ण डोगरा होरां तिह्नां सौग्गी थे। वाकफियत ते बाद गल्लबात होई जिसादे कुछ हिस्से एह हैन :

मैं : डॉ. ईटन, सबते पहलें तां एह दस्सा कि दुनिया दियां इतनियां भाषां छड्डी के तुसां शोध ताईं कांगड़ी ही कजो चुणी ?

बॉब :  मेरे इक्की साथिएं सलाह दित्ती जे कुसी विदेशी भाषा जो सिक्खी करी तिसा भाषा पर रिसर्च कर ।मैं हिंदुस्तान विच आई के भाषां दे बारे विच लगा पढ़ना। मसूरी आई के हिंदी सिक्खी कने 'लग्ग-'लग्ग भाषां पर छपियां सर्वे-रिपोर्ट्स पढ़ियां । पढ़दे-पढ़दे जाह्लू मैं कांगड़ी दे बारे विच पढ़ेया तां इसा भाषा विच मिंजो क़ाफ़ी कुछ ऐसा मिल्ला , जेह्ड़ा मिंजो चाहिदा था। इतणे लोक इसा भाषा जो ग्लाणे-समझणे वाळे हैन  पर फिरी भी भाषा पर जादा कम्म नी होया था । बस, एही सोची के मैं कांगड़ी पर कम्म करने दी सोची कने आई गेआ इत्थू । दूआ इसा भाषा जो न सिर्फ लगभग  पूरे हिमाचल विच बल्कि अक्खे-बक्खे देयां प्रदेशां विच भी समझेया-ग्लाया जाँदा है ।

मैं : पहली बरी कदेह्या लग्गा इत्थू आई के?
बॉब: राती दस बजे पालमपुर पुज्जा। बस अड्डे बक्खे इक्की होटल विच रुकेया। जाह्लू भ्यागा सूरज निक्ळेआ कने बाहरे दा नज़ारा दिक्खेया , तां मज़ा ही आई गेया। सामणे धौलाधार इतणी प्यारी लग्गा करदी थी कि पुच्छा ही मत। मैं सोची लेया बस इस ही ख़ूबसूरत 'लाक्के दी भाषा सिक्खणा चाहिदी। पवन कने गल्ल कित्ती एह हर हफ़्ते आई के स्खाणा लग्गे। हौळें-हौळें इत्थू देयां मित्रां दे सम्पर्क विच आई के कांगड़ी सखोई गेई।

राजीव : क्या ख़ास लग्गा इसा भाषा विच तुसां जो?
बॉब : कांगड़ी इक्क ऐसी भाषा है , जेह्ड़ी पहाड़े दे बड़े बड्डे हिस्से विच ग्लाई जांदी, पर इक्क गल्ल एह ख़ास है जे इसा भाषा जो नूरपुर दे 'लाक्के विच होरसी तरीक़े कने टोन लगाई के बोल्लेया जाँदा तां हमीरपुर दे 'लाक्के विच होरसी तरीक़े 'ने। ख़ैर पहाड़ां विच वैसे भी खड्ड टप्पदे कने भाषा दा रूप बदलोई जाँदा।

राजीव : ऐसी गल्ल नी है कि कांगड़ी कने बाकी पहाड़ी भाषां या बोलियाँ पर कम्म नी होया। मते विद्वान कम्म करदे आए पर हल्ली भी कांगड़ी भाषा जो आधिकारिक दर्जा नी मिल्ली पाया । क्या कारण लगदा इसदा तुसां जो?
बॉब: दिक्खा , भाषा दी तरक़्क़ी सिर्फ विद्वानां देयां कम्माँ कने ही नी हुन्दी। तिह्नां कम्माँ जो आम लोक्कां तिकर पुजाणा बड़ा ज़रूरी हुँदा। असां दे लोक जागरूक नी हैन , तां कम्म बड़ा मुश्कल है । या फिरी सरकारी तन्त्र कने राजनैतिक लोक अगर चाह्न , तां कुछ होई सकदा । केई बरी तां ऐसियां भी भाषां जो 'लग्ग-'लग्ग दर्जा मिल्लेया , जिह्नां विच कोई फ़र्क़ ही नी हुँदा।

मैं : जी , जिहियां उर्दू कने हिंदी भाषा हैन।
बॉब : हाँ जी , भाषा सेना कने बणदी । जिसा बोलिया वल्ल  सेना थी , सैह भाषा बणी गेई । अपणी अपणी सेना होए तां अपणी अपणी भाषा बणी जांदी। हा हा हा !

मैं : हाँ जी, सच ग्लाया । काश  ! असां दे भी सपाही जागी पौह्न , सोचन अपणिया भाषा दे बारे विच कने ..... । त्रिगर्ती होरां काफ़ी विस्तार विच पहाड़ी भाषा कने इत्थू दियां बोलियाँ उप्पर लिखेया है । होर भी मते लोक हैन जेहड़े कम्में लग्गेयो पर इक्क दिशा दी ज़रूरत है ।
राजीव : जी कांगड़ी पर जेह्ड़ी तुसां रिसर्च कित्तियो तिसादे मुताबक तुसां भटेआळी जो 'लग्ग मन्नेया , पर भटेआळी तां पूरी तरह कांगड़ी ही है। चुवाड़ी ते गांह दी बोली ज़रूर 'लग्ग है । इक्क गल्ल होर पुच्छणी थी , तुसां जो क्या लग्गदा , क्या पूरे हिमाचल ताईं कोई इक्क भाषा ठीक रेह्यी सकदी ?
बॉब : पूरे हिमाचल विच इक्क भाषा दी कल्पना करना मेरे ह्साबे 'ने थोड़ा औक्खा है । मैं मण्डी गेआ तां तित्थू दे कुछ शब्द कांगड़ी ते बिल्कुल 'लग्ग लग्गे । कुथी-कुथी तां वाक्य दा रूप भी लाह्दा है । मंडयाळी , चम्बेआळी तां मिलदियां-जुलदियां भी  हैन पर सिरमौरी , महासुवी वगैरह दा तां  बड़ा ही ज़्यादा फ़र्क़ है । 

राजीव : दिक्खा , अज्जकल लोक अपणेयां बच्चेयाँ कने अपणी भाषा नी बोलदे । हिंदी भी नी बल्कि अंग्रेजी मीडियम विच बच्चे पढ़ा 'दे । किहियाँ सेना बणनी , काहलू सिखगे बच्चे अपणिया मातृभाषा जो?
बॉब : बच्चे दा सिद्धा सम्पर्क माऊ  कने हुँदा माऊं जो चाहिदा सैह अपणी बोलीअपणी भाषा सखाह्न बच्चे जो ।

मैं : हाँ जी । जे असां बच्चे जो फ़िफ्टी फ़ाइव दस्सा 'दे तां पचपन भी दसणा ज़रूरी है कने पचूँजा भी !  
राजीव : अंग्रेज़ी मेरिया समझा विच इक्क ऐसी भाषा है जेहड़ी होरना भाषां जो मारी दिन्दी । अंग्रेज़िया पिच्छेँ नह्स्सणा कितणा कि फायदेमंद है ?
बॉब : असां जो समझणा चाहिदा जे अंग्रेज़ी असां जो दो पीढिआं ते बाद कुछ नी देई सकदी । अज्ज अंग्रेज़िया दिया वजह ने जे असां अपणिया भाषां छड्डा 'दे पर कल जाह्लू अंग्रेजिया भी रोटी देणे लायक नी रैह्णा  कने अपणी भाषा भी नी औणी ता फिरी कुथू जो जाणा?

मैं : सोळा आन्ने सच है । बगानिया चमका दिक्खी अपणे टप्परू कजो फूकी देणे । अच्छा , तुसां क्या सुनेहा दैणा चाहन्दे इत्थू देयां लोक्कां जो?
बॉब : सबते ज़्यादा ज़रूरी है अपणिया भाषा विच गल्ल करना , अपणिया भाषा विच लिखणा , अपणिया भाषा दा साहित्य पढ़ना । मेरा मन्नणा एह है कि भगवान सिर्फ़ मातृभाषा विच कित्तिया गल्ला जो ही समझदा । असां प्रार्थना सिर्फ़ अपणिया ही भाषा विच करदे न ?.....अगर हल्ली तिकर कांगड़ी या पहाड़ी जो स्कूलां विच नी पढ़ाया जान्दा , तां असां घरे तां ग्लाई सकदे । सांजो चाहिदा कि असां बाज़ारे विच, अपणेयां मितरां, रिश्तेदारां कने ज़रूर अपणिया भाषा विच खुली के गल्ल करिए , तां जे पहलें लोक्कां विच समझ पैदा होएं कने इसा भाषा जो आधिकारिक दर्जा तौळा मिल्ले !
     
एह दिहियां कुछ प्रेरणा दैणे वाळियां गल्लां सुणी के मिंजो कने त्रिगर्ती होरां जो बड़ी तसल्ली मिल्ली ।मने विच आस भी जगी जे देर सवेर सैह ध्याड़ा ज़रूर औणा है जाह्लू कांगड़ी इक्क आधिकारिक भाषा हुणी हैअसां देयां स्कूलां , कॉलेजां विच बच्चेयाँ एह भाषा कतांबां विच पढ़नी है । औणे वाळे वक़्त विच क्या क्या कित्ता जाई सकदा , वर्तनी कने उच्चारण जो किहियाँ मानक बणाइए ... एह देह्या सोचदे-सोचदे असां वापस आई गे ।
---------
भूपेन्द्र जम्वाल 'भूपी'

10 comments:

  1. धन्यवाद प्रधान जी छापणे ताईं । मैं चाहन्दा कि होर बुद्धिजीवी भी इस विषय पर अपणे वचार रखन !
    भूपी

    ReplyDelete
  2. बड़ा छैल़ इंट्रव्यू बधाई

    ReplyDelete
  3. एह होई न गल्ल| राजीव जी कने भूप्पी जी,
    पैहलें ता तुसां दूह्यीं जो बड्डा सलूट!

    मां बोलिया तियें तुसां दा प्यार तुसां दियां गल्लां च इ नीं तुसां देयां कम्मां च भी चमका दा| बॉब होरां दे बचार पढ़ी ने सहमत होने ते अलावा होर कोई रास्ता इ नीं ऐ\ कैम्ह जे माँ बोलिया दी बद्दळ (बदलू) किछ होर होई इ नीं सकदा|

    बड़ा जरूरी सनेह्या |
    तुसां जो मती बधाई|

    ReplyDelete
  4. एह होई न गल्ल| राजीव जी कने भूप्पी जी,
    पैहलें ता तुसां दूह्यीं जो बड्डा सलूट!

    मां बोलिया तियें तुसां दा प्यार तुसां दियां गल्लां च इ नीं तुसां देयां कम्मां च भी चमका दा| बॉब होरां दे बचार पढ़ी ने सहमत होने ते अलावा होर कोई रास्ता इ नीं ऐ|

    कैंह ? जे माँ बोलिया दा बद्दळ (बदलू) किछ होर होई इ नीं सकदा|

    बड़ा जरूरी सनेह्या |
    तुसां जो मती बधाई|

    ReplyDelete
  5. भुपी जी, त्रिगर्ति जी बधार्इयां। भुपी जी तुसां जो बडा वाळा धन्यवाद बॉब इटन ने मलाणे ताईं कनै बाबा ईटन जो बडा वाळा सलूट। असां पहाड़ीयां दियां आखीं खोड़ने दी कोसस करने ताईं।
    साहब जी, तुसां खरीयां-खरीयां सुणाईयां। दूंई पीढि़यां ते बाद अंगरेजीया रोटियां देणे लायक नीं रैहणा ता कुथु जाणा। बाब साहब इनी देसें मथी लिया। असां कुथु नीं जाणा साहब, लोकां ओणा कनै असां पर राज करना। राजनीतिक नीं भासाई कनै सांस्कृतिक ही सही।

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  7. आईडीबीआई बैंक दे मेरे पराणे साथी प्रदीप अग्रवाल होरां एह पोस्‍ट दिखी नै मिंजो मेल भेजियो। तुसां तिन्‍हां दी मेल कनै मेरा जुआब दोआ ई पढ़ा -

    प्रिय अनूप जी,
    ‘पहाड़ी दयार’ आपका एक अनुपम प्रयास है. प्रसन्नता इस बात की है कि
    आप इसे लंबे समय से संपूर्ण निष्ठा और समर्पण के साथ निकाल रहे हैं जो कि
    निज भाषा के विकास के प्रति एक अत्यंत स्तुत्य और अनुकरणीय उदाहरण है.
    इस बार के अंक में भी आपने काफी रोचक और पठनीय जानकारी दी है.
    मैं अब दिल्ली में हूँ और 30 सितंबर, 2016 को सेवानिवृत्ति है.

    प्रदीप जी,
    याद करने के लिए धन्‍यवाद
    और दयार देखने और हमारी हौसलाअफजाई के लिए भी शुक्रिया। यह एक सामूहिक प्रयास है। मेरा योगदान तो नाममात्र है। आपको याद होगा कुछ वर्ष तक हमने हिमाचल मित्र पत्रिका निकाली जो हिमाचल प्रदेश पर केंद्रित थी। दयार भी उसी की एक कड़ी है।

    आप अगले महीने से नई पारी की शुरुआत कर रहे हैं। उम्‍मीद है आप अपने मन का काम करने में खुद को लगाएंगे। कामना है कि आप स्‍वस्‍थ सक्रिय संतुष्‍ट और सफल रहें। संपर्क में रहेंगे।
    साभार

    ReplyDelete
  8. भूपी जी कनै त्रिगर्ती जी,
    तुसां दूंई दा बड़ा धन्‍नवाद। बड़ी कम्‍मे दी गलबात है। बॉब ईटन दे थीसिज दा अनुवाद होई जाए ता मजा आई जाऐ।

    ReplyDelete
  9. भुप्पी जी राजीव जी बोहत बधाई

    ReplyDelete
  10. भुप्पी जी राजीव जी बोहत बधाई

    ReplyDelete