Saturday, February 20, 2016

मिट्टी-सूना सब छडी चला गिया शायर-निदा फ़ाज़ली






'हर महाणुए होंदे हन दस-बीह महाणु, 
जिसयो भी दिखा  बार-बार दिखा।' 

8  फरवरी सोमवार  भ्यागा  अख़िरी साह लेणे वाळे शायर निदा फ़ाज़ली दी ताकत एही थी- सिधिया-सादिया  ज़ुआना तिन्हां दियां नज़्माँ कनै ग़ज़लाँ बार-बार पढ़ने दी  न्युन्दर दिन्दीयाँ थियां। तिन्हां दे अरथां ते अरथ  निकलदे जान्दे थे। उर्दूये   सादीया  ज़बानी वाळयां शायरां दी  कमी नीं है। डुघियाँ गल्लां गलाणे वाळे शायर भी भतेरे हन। अपर एह देही  शायरीया दी मसाल घट ही मिलदी। जेड़ी सिधी  हर कुसी दे  दिले उतरी  जाए कनै इतणी डु्घी  कि दमागे   देरा तिक  गूंजदी रैह। तिन्हां साही शायर ही लीखी  सकदा। 
'दुनिया जिसे कहते हैं, जादू का खिलौना है, मिल जाए तो मिट्टी है, खो जाए तो सोना है।'

अज जाह्लु सैह  दुनिया दा मिट्टी-सूना सब पिछें  छडी जाई  चुक्यो ता समकालीन अदब दी दुनिया किछ फिकी, किछ दुआस होई गईयो। बशक, गुलज़ार कनै कैफ़ी आज़मी साही निदा फ़ाज़ली जो  भी असली पछैण फ़िल्माँ ते ही मिली अपर  गुलज़ार साही निदा फ़ाज़ली दा क़द भी इसा पछेणा ते बडा था। सैह उर्दू दी तिसा तरक़्क़ी पसंद रवायत दा हिस्सा थे, जिन्नें अज़ादीया ते बाद बणदे हिंदुस्तान जो  तिसदा नोआं  मज़ाज दिता।  जिसा जो असां अक्सर गंगा-जमनी तहज़ीब गलाई  निपटाई दिंदे। तिसा तहजीब जो तोपणे वाळे, साधणे वाळे,  अपणे लीखणे तुआरने  वाळ्यां निदा फ़ाज़ली भी थे। इन्हां भाल कबीर वाळी  साधुक्कड़ी,  मीर साही सादग़ी, ग़ालिब दी  गहराई,  तुलसीदास दे अध्यात्म दे कनै-कनै फ़िराक़ दी कैफ़ियतां भी  मिली जान्दियाँ ता सरदार अली ज़ाफ़री दा चिंतन-विचारशीलता भी। ताईं ता इस विचारशीलता दे द्वंद्व तिन्हां लीखया-
'हर घड़ी ख़ुद से उलझना है मुक़द्दर मेरा,
मैं ही कश्ती हूं मुझी में है समंदर मेरा।'

हर घड़ी अप्पु नें ही उलझना है मुक़द्दर मेरा,
मैं ही किश्ती है मिंजो है समुदर मेरा।'

(हर घड़ी  रोणा बेला रोणा है...निदा फ़ाज़ली जो याद करी ने एह पढ़ा।)

दुनिया दे  जोड़-जमा दे ख़लाफ़ तिन्हां लीखया- 

'दो   दो जोड़ी हमेशा चार कुथु होंदे,
पढ़यां-लीखयां लोकां जो थोड़ी नदानी दे मौला।'

अपर  देहा भी नीं है कि निदा कोई असमानी ख्यालां डुब्बयो दुनिया ते लग्ग शायर नीं  थे। कि तिन्हां जो ज़माने दिया धूड़ी-मिट्टीया ने कोई लेणा-देणा ही नीं होअे। दरअसल निदा फ़ाज़ली दी शायरी देसे दी रूह कनै तिसा दे जिस्मे पर  पियो दाग़ बड़िया पीड़ा कनै  बोलदे। देसे होणे वाळे हिंदू-मुस्लिम फ़साद तिन्हां दियां  रचनां कई बरी ओन्दे हन। मगर हैरानी वाळी गल्ल एह  कि सैह टुटदे नीं। निदा अपणे अंदरलिया कुसी रूहानी कैफ़ियता ते अक्सर गाहं निकली ओन्दे। 1993 दे मुंबई दंगयां ते बाद तिन्हां जे नज़्म लीखी, तिसा लीखणे ताईं ईक बड़ा कलेजा चाही दा था। तिन्हां लीखया,
'उठ कपड़यां बदल,
घरे ते बाहर निकळ, 
जे होया सैह होया, 
राती ते  बाद दिन
अजे ते  बाद कल,
जे होया सैह होया 
जाह्लु तिक  साह् है,
भुख कनै त्रयाह है,
एही इतिहास है,
रखी ने  मूंह्डे पर हळ,
खेतरां जो  चल,
जे होया सैह होया...
जेड़ा मरया केहं मराया,
जे  जळया केहं जळया,
जेड़ा लुटोया केहं लुटोया,
मुद्दतां ते ग़ुम हन
इन्हां सुआलां दे  हल,
जे होया सैह होया।'

दरअसल एही चीज़ निदा जो बड़ा बणादीं। अपण्या दुखाँ ते ऊपर उठणे दा हुन्नर,  ज़माने दिया तकलीफा जो समझणे दा हुन्‍नर, इसा  सच्चाईया दी  पुख्ता पछेण कि भुख कनै प्यास दा सुआल ही असल है जिसदा हल मुंह्डे पर रखोये हळे ने जुड़या है। एह देहियां नज़्मां होर हन जिन्हां ते पता लगदा कि निदा दी शायरी दुखे  पर मनुष्यता दा कनै  प्रतिशोध दे विरुद्ध करुणा दा प्रतिपक्ष घड़दियां।
'
नहीं वह भी नहीं' ईक बड़ी मार्मिक नज़्म है जिसा   ईक मा दंगाइयां दी शनाख्त एह गल्ला ने करदी-

'नीं एह भी नीं 
'नीं एह भी नीं  
'नीं एह भी नीं,
सैह ता नां जाणे कुण थे
एह सारयां दे सारे ता मिंजो साही हन
सबनाँ दियां धड़कनां
निक्के निक्के चन्द्रमें रोशन हन
सब मिंजो साही वग्ते दिया 
भट्टीया दे लकड़ु हन
जिन्हाँ न्हेरिया राती
मेरी कुटिया बड़ी 
मेरीयां आंखीं सामणे    
मेरे बच्चे फूके थे    
सैह ता कोई होर थे 
सैह चेहरा ता कताहं हुण
ज़ेहन महफूज़ जज साहब 
अपर हां नेड़ें होये ता सींघि ने पछेणी  सकदी 
सैह तिस बणे ते आयो  थे          
जिथु दियां जनानां दियां गोदां च 
बच्चे नीं हसदे।'

दुर्भाग्य ने निदा देहे टेमें  गे जाह्लु असां दे वग्ते   नफ़रतां दा एह बण  बडा होन्दा जा दा, कठमुल्लेपणे दियां वहशी आंखीं  दुनिया जी  ईक लग ही चश्मे ने दिखणे दी ज़िद करा दियां। एह अग् किछ निदा दे हिस्सें भी आई। इबादत ताईं रोंदे याणे जो हसाणे वाळी तिन्हां दी सोच-तज़बीज़ कठमुल्ला ताक़तां जो रास नीं आई थी। अपर इसदे बावजूद तिन्हां दी शायरी इंसानियत दिया अग्गी पर पकीयो शायरी थी जिसा ने आखीं मेळने  फ़िरकापरस्त ताक़तां जो दिक़्क़त ओंदी थी। तिन्हां दे ढेर सारे अशआर हन जिनहां जो  बार-बार गलाणे दा मन करदा। अपर जाह्लु भी देह्या शायर ओंदा सै- आखर अपणे आपे किल्हा ही रही जांदा। कुसी मायूस घड़ीया तिन्हां लीखया-

'इस शहरे सैह मिंजो साही किल्हा होणा /
तिसदे दुश्मन हन मते सैह माह्णू खरा होणा।'

सैह बशक, खरे माह्णू थे, बोहत बड़ीया कलमा दे मालक थे कनै तिन्हां दी शायरीया दा अंगण इतण बड़ा था कि तिस दुश्मन भी आई जांदे थे, मितरां बदोलोर्इ जांदे थे।

प्रियदर्शन/एनडीटीवी 


तुसां दिया क़ब्रा पर मैं फ़ातिहा पढ़ना नीं  आया,
मिंजो पता था तुसां  मरी नी सकदे
तुसां दे दे मरने दी  सच्ची खबर जिन्नी डुआइयो थी, 
सैह झूठा था, सैह झूठा था.
सैह तुसां काहलु थे, कोई सुक्या पत्तर
होआ च पई ने टुट्या था.
तुसां दिया क़ब्रा पर जिन्नी तुसांदा दा नां लीखया,
सैह झूठा है , सैह झूठा है
तुसां दिया क़ब्रा च
मैं दफ़्न है
तुसां मिंजो च जिया दे हन।
काहल्की फ़ुरसत मिले, 
ता फ़ातिहा पढ़ना आई जानयो।
निदा फ़ाज़ली होरां एह नज़्म अपणे पिता होरां दे नीं रेहणे पर गल्ला थी।

पहाड़ी दयार दी विनम्र श्रधांजली

पहाड़ी अनुवाद - कुशल कुमार


1 comment: