Wednesday, January 11, 2012

पहाड़ी बाईं दी इक लग देही मिठास


बंबे दी चिट्ठी

मित्रो नमस्कार। जै जया। बंबे च अहां जो रैंहद्या मते ही साल बीती गै। चौथी-पजीं पीढ़ी भी हाखीं खोलना लगी पई। म्हाचल मित्र मंडळे बी सठां दे होई जाणा। ए संजोगां दी गल थी अंग्लैंड ते काळी-पीळी टैक्सी आयी कने हिमाचले ते वाया कराची-लहौर पहाड़ी मुंडु भी आई गै। 1911 च चली थी टैक्सी शायद इस ते पिछें-पिछें असां दे बजुर्ग भी ओणा लगी पै थे। काळा-पीळा रंग देया रास आया कि सौ साल होई चलयो पर हाली भी नी छुटा दा। तिस जमाने च गडी चलाणे वाळे डरैबरां दा भी रुतबा होंदा था। ग्रां च सड़कां ही कुत्थु होंदईंया थियां। बसां-मोटरां दा ता सवाल ही पैदा नी होंदा था। कई-कई मील, कई कुआळां लोई-गोई,खडडां-नाळुआं टप्पी मिलदी थी बस। बस नी मोटर गलांदे थे। तिस जमाने च मोटर भी दिखणे आळी चीज होंए थी ता सोचा तिसा जो चलाणे वाळे लोग बड़ी दूरे-दूरे तक, पैदल चलदे थे। कई-कई दिन चलदी थी मुसाफरी। ये सोची ने दिन चढ़ने ते पैहलें निकलदे थे कि रात होणे ते पैह्लें पूजी जाणा पर रात रस्ते च पई जांदी थी। जात्रुआं तांए कुत्थी-कुत्थी सरायीं भी होंदियां थी कुत्थु नीं भी होंदियां थीं।कई बरि अणजाण लोकां दे घरां च रात कटणा पोंदी थी क्या जमाना था लोग पखलयां मतरफेंना दी भी परोणयां साई खातर करदे थे। मेरे पड़दादुअे भाल कोई न कोई टिकया ही रैंहदा था। जबरे दा क्या लगदा था। जबरे ता चुल्हे बखें बई  ने गप्पां ही मारनिया होंदियां थियां, जितणे माण्हु उतणियां गप्पां। भुगतणा ता घरे दिया जणासां जो पौंदा था सैह भुड़कदियां रैंहदियां थियां इक ताँ  गरीबी ऊपरे ते मुफ्तखोर परोहणे। खैर..... ! जमाना बदलोया। सड़कां पहाड़ छेकि ते। कुआळां दे पत्थर टिरना लगयो। मते सारे कुआळ रूड़ी गै। अज लोकां जो अद्धा किलोमीटरे दा कुआळ टालने ताएं पंजां किलोमीटरां दा फेरा मजूंर है। बसा ताएं घंटा भर खड़ोतयो पर चार गईं चलना-चड़ना जान निकळी चल दी। पैह्लें ग्रां च कोई मोटा माण्हु नी सुजदा था, हुण सब घोगड़ां वाळे कपालभाती करादे पर साह  पेटे तक पूजा दा ही नी। पखला परोहणा ता दूरे दी गल है, हुण ग्रायें दे जनेतड़ां जो भी कोई रात सुआयी राजी नी है। ठीक भी है पैह्लें लोक राती चुल्हे बखें बही ने गप्पां मारदे थे रात बीती जांदी थी, हुण लोग बोतलां बखें बही ने गप्पां मारदे रात कजात होई जांदी। हुण राती किलेयां रस्तंया च भूत नी भतोएयो माण्हु मिलदे। भूत ता डरांदे ही थे, पर  ए  खाई भी जांदे। हुण ये गलां ही गलां हन। तिस वक्त ग्रां च बंबे दे डरैबरे दा भी इक बडडा  भारी रुतबा होंदा था बुजणाँ कोई बड्डी तोफ ही होंदे होणे। लम्मी छुटी बंबे दे डरैबर कने फौजी ही ओंदे थे होर नौकर ता हाजरी लाई ने चले जांदे थे। फौजी बोतलां लई ओंदे थे बंबे दे डरैबर नोटां लई ओंदे थे। जेड़ा भी जांदा था अप्पु कने इक अध रंगरूट लई ओंदा था। सेह् ऐत्थु मरगार्ड कंपणियां च भरती होई जांदा था। मिंजो भी बड़ी बाद च समझा आया मरगार्ड नी मडगार्ड होंदा। गडियां जो चिक्कड़े-मिटिया ते बचाणे वाले गार्ड। मुंडु गडियां कने मरगार्डां मुंडु ओंदे गै अबादी बध दी गई। पेह्लें छड़े किले ही रेहदें थे। इकी खोळीया च पंज-पंज सत-सत। ग्रांये ते जेड़ा बिस्तरा अंदया होंदा था, तिसदा  सरहाणा कने इक चटाई। बंबे दा मौसम भी देहया था कि बिस्तरे खोलणे दी जरुरत ही नी पोंदी थी। छड़े बयाह करि ने लाड़ीयां इसते बाबजूद बंबे च बयाह घट ही होंदे थे किते मिजों माड़ी देही याद है इकनी क्रिसचन कुड़ीया ने बयाह कित्ता, गां तिस्साने दो कुड़ियां भी होईयां, भिरी सै मतयां सालां बाद ग्रांये जो गिया ता चला ही गिया। सुणदे तिनी ओथू होर ब्याह करी लिया कने सैह्य फिरी हटि ने बापस ही नी आया। एह भी क्रिसचन ग्रांये च गुआची गई। हुण सैह जमाना बीती गिया। इक पुराणे बुजुर्ग गलादें थे कि इक देह्या भी दिन ओणा है कि बंबे च ही ब्याह होणे, हन ता तिनादे गलाणे पर कोई बस्वास  नी करदा था। पर तिना दा गलाणा ठीक ही था, हुण ऐत्थु बंबई ई रिश्ते होआ दे बयाह होआ दे। बंबे दा ही रिश्ता चाही दा। म्हारी कुड़ी ग्रांएं च नी रही सकदी। कुत्थु-कुत्थु मुंडुआं ताएं नुंहां हाली भी ग्रां ते ओआ दियां। पर इत बण-बणदे यां मुलखां दे जवाई ता बण-बणदे मुलखां दियां नुंहां भी ओआ दियां। दे वापस जाणे दि हुण कोई मैद नी है। इसते बडी दुखे दी गल ता ऐह् है कि हुण कोई ओआ दा भी नी। या फिर कुछ नोएं मुंडु अफसर बणी ओआ दे। अफसर ता अफसर ही होंदे। कल की गल सोची ने दिल घटणा लगी पोंदा। मैं ता खैर मुंबई जम्मया पर मराठी बोली पढ़ी कने मराठी मितरां च रही पूरे दा पूरा बंबई दा होई ने भी म्हाचली प्हाड़िया ही रही गिया। मेरिया इसा जबान च तिसा मिट्टिया दा स्वाद है। जिसा च मैं बसी नी सकया पर मेरियें माऊं देही घोटी यो इसा ते अलावा में ओरथी कुत्थी रसी नी सकया। म्हाचले च इक जमीना दा छोटा देहा टुकड़ा है सैह् ना मैं खरीदी ना मेरयां दादुआं पड़दादुआं खरीदी। तिसा जमीना ने मेरा सेही रिश्ता है जेड़ा इकी दरख्ते दा जमीना ने होंदा। तिसा जमीना पर हिलणे ते बाद बणया इक छोटा देहया घर है तिस पर मुकदमा,  टैम मुकदमे दे फैसले ते बड्डा अग्गैं आई चुकया। हुण तिसदे ढेहणे दा इंतजार है। मैं भी धोई डरैबर बणदे गै। ग्रांये च ही छडी ओंदे थे फिरी कोई कोई लाड़िया सौगी अणना लगी पिया। इकना दूईं ऐत्थु मरठिणे ने भी बयाह ऐह मुसाफरी कुछ जादा ही लमी होई गई। असां समुदरे ते नेवी वाले ओआ दे सैह टबरे छडी फिरी समुदरे च चले जा भी चलया था पर कोई ईट नी लाई।खरा किता मेरियां सारियां चणाईयां ढेंहदियां ही आईयां शायद मैं ईट लांदा दा तिस पेह्लें ही ढही जाणा था। मित्रो क्या होंगा असां दा। तिसा जमीना कने मिट्टीया ते भी बडा दुख ता इसा गला दा है कि असां जेड़ा ग्रां ऐत्थु बसाया था सेह्य भी गुआचणा लगी पिया। दो चार भंडारे इक मंडले दा लेक्शन कने मरने पर लकड़ी पाणा असां कठे होई जांदे। जबान भी गुआचणा लगी पईयो। डर लगा दा कल ग्रायें दा नां भी नी रेहणा है। पता नी कितणे  दिन होर है मुंबई दे समुदरे च इसा पहाड़ी बाईं दी इक लग देही मिठास !


6 comments:

  1. Kushal Ji bahut bahut dhanyavaad je tusse hammon kai Mitramandal aur himachaliyan re himachalo ko bombai ri taraf movementa bare dassa. Ei bade hi faqra ri baat asso je tusse pahari jabana re rakhrakhava bare ei blog shuru kiyan.
    All the best
    Thakur

    ReplyDelete
  2. कुशल जी तुसां एह बंबई कनै महाचले दी तान खरी छेड़ी. लग्‍गा दा भई तुहाड़े झोळे च टैक्‍सियां आळयां दियां बडि़यां क्‍हाणियां होणियां हन. कुछ होर सुणा, इत्‍हास इर्ज करा भलेयो. मजा आई जाणा.

    ReplyDelete
  3. कुशल जी, तुसां बड़ी नोस्टालजिक गल्ल लिक्खी ए| समया दे अनुसार बड़ा कुछ बदली ग्या है| लोग हुन पैदल नी चलदे, ताईं बमारियां बी बड़ी गईयाँ| बोम्बे साईं कलकत्ते दे इक इलाके च हमीरपुर जिले दे कई ग्रां दे लगभग पच्ची परिवार कदी बसदे थे, पर सैह इक फैक्टरी दे कारण था ---- डनलप| डनलप फेल होई ग्या कने इक-इक करीने सारे वापस हिमाचल आई गए या फेरी होर कुति बसी गए|

    ReplyDelete
  4. रत्‍नेश जी एह तुसां नौई गल्‍ल दस्‍सी. जे मैं गल्‍त नी ऐ तां तुसां भी कलकत्‍तें रेह्यो. ताईं तां बंगालिया ते क्‍हाणियां दा अनुवाद करदे. तुहाड़े भ्‍ाल्‍ल जरूर कुछ नौइयां ग्‍ल्‍लां होणियां. मैं तुहाड़े अग्‍गैं अरजी पा नां. मंजूर करा कनै संगतां पर किरपा करा.

    ReplyDelete
  5. मतयां दिनां बाद पहाड़ी च पढ़या. मजा आई गया. कुशल जी... गल्लां ठीक हैन तुहाड़ियां, गुआचणा लगी पईयो ऐ जबान. हुण म्हाचले च भी नौई पीढ़ी घट्ट इ पहाड़ी बोलदी दुसदी. अपणी गल्ल करां तां याद नी औंदा काल्लु पहाड़ी च गल्ल कित्ती थी आखरी बरी. प्रैक्टिस ई छुट्टी गईयो. तुस्सां हुण नौए-नौए किस्से सुनाणे हन. अनूप जी सांई मेरी बी दर्खास्त है. कन्ने कोई गल्ती होए लिखणे च, सै भी दसणी.

    ऑल द बेस्ट टू पहाड़ी दयार!!!

    ReplyDelete
  6. हरीष ठाकुर जी रत्‍नेश जी माधवी गुलेरी जी कने इस ब्‍लाग दे कर्णधार अनूप जी तुहां सारयां जो बड़ा-बड़ा धन्‍यवाद। तुहां जो मेरी चीठी पसंद आई। अनूप जी गल्‍ल शुरू होई है ता गल्‍ला ते गल्‍ल बधदी रैहणी। रत्‍नेश होंरा कलकत्‍ते पजाई दिते। माधवी जी गल्‍तीयां पराई जुबानी च होंदी अपणिया जबान ता अपणी होंदी जियां मरजी बोला लीखा। कुछ नोंआ होई जांगा ता सूने पर सुहागा। बस गल्‍लादें रैहनयो भुलदें मत मितरो।

    ReplyDelete