Saturday, December 31, 2011

मुबारक तुसाँ जो नौंआँ साल मितरो !

                                          द्विजेन्द्र 'द्विज'

एह सुभकामनाँ दे लेया थाळ मितरो !
भरी बगतैं-हिरनैं नौंईं छाळ मितरो !
झलारे होआँ दे नौएँ डाळ मितरो !
खरे सुपनेयाँ दी करा पाळ मितरो !
करा नौंईं परचोळ -पड़ताल मितरो ! 
पुटी सट्टा सारे ई जिंड-जाल मितरो !
जण सारे ई नौंएँ सुरताल मितरो!
मुबारक तुसाँ जो नौंआँ साल मितरो !

तुसाँ जो हर इक बक्खैं पुँगरास मिल्लै
हर इक पास्सैं फुल्लाँ दी ही बास मिल्लै
तुसाँ देयाँ फ्हंग्गाँ जो भी गास मिल्लै
तुसाँ जो ठकाणाँ जगा खास मिल्लै
पियारे-परेम्में जो बसुआस मिल्लै
दुखाँ-रोग्गाँ जळबाँ जो बणबास मिल्लै
न बगते दी बिचळै कदी चाल मितरो
मुबारक तुसाँ जो नौंआँ साल मितरो !

एह फुल्ल सुपनेयाँ दे सदा रैह्न सजरे
तुसाँ ई लह्ग्न जहाराँ लक्खाँ च बखरे
कदी पोह्न झळणाँ न बगते दे नखरे
चला ताँ मि’लण सारे रस्ते भी पधरे
मि’ल्ण भत्ते कनैं सदा मिठ्ठे-मधरे
दिलाँ ते तुसाँ नीं कदी होन जबरे
उमीद्दाँ ते जादा मिल्लै माल मितरो
मुबारक तुसाँ जो नौंआँ साल मितरो !

सदा होन सुपने तुसाँ दे भी सच्चे
हमेसा ई राजी-खुसी रैह्न  बच्चे
उमीद्दाँ दे मितरो लुणाँ धान सारे
हमेसा ई पास होन इम्ताह्न सारे
तुसाँ दा रुकै नीं कदी कम्म कोई
गमाँ दा नीं घूरै कदी जम्म कोई
भरोयो तुसाँ दे सदा रैह्न गल्ले
जमान्ने च होए सदा बले-बल्ले
चली रैह गरीब्बाँ दा भी दाळ-फुलका
तिन्हाँ जो भी मिल्लै खरा तेल-तुड़का
होए कोई बेबस न बेहाल मितरो
मुबारक तुसाँ जो नौंआँ साल मितरो !


तुसाँ दी अधूरी नीं  रैह कोई हसरत
नीं मुक्कै कदी भी कमाइयाँ च बरकत
सलामत सदा रैह तुसाँ दी एह इज्जत
नीं टुटै कदी जिँदगिया दी एह हरकत
करै तँग तुसाँ जो कदी भी न दैह्सत
तुसाँ पीन्दे ई रैह्न खुसियाँ  दे सरबत
हमेसा तुसाँ  रैह्न खुसहाल मितरो
मुबारक तुसाँ जो नौंआँ साल मितरो !


हमेसा ई चमकै न्यांएँ दा सूरज
जीह्याँ कोह्रे बाह्ज्जी गराएँ दा सूरज
घरोए कदी भी न खुसियाँ दा सूरज
चढ़ैं नी कदी कोई गमिया दा सूरज
भलाखाँ दे, आस्साँ दे लाल्ले दा सूरज
मुबारक चढ़ै नौंएँ साल्ले दा सूरज
लखाँ खुसियाँ दे भी मिलण थाळ मितरो
मुबारक तुसाँ जो नौंआँ साल मितरो !

5 comments:

  1. TUSAN SAREYAN JO NOUYE SAALE DIYAN MUBARKAN

    ReplyDelete
  2. Noye saale Diyan bahut bahut badhaiyaN.

    ReplyDelete
  3. तुसां जो नवे साले दी बधाई कने पहाड़ी ब्लोगे दी दिलो बधाई | लगे रेन ||शुभकामनाएँ||

    ReplyDelete
  4. नोआं साल तुसां सारेयां जो मौज मस्‍ती कने बडडी बडडी तरक्‍की दे होर तुसां जो सह सब मिली जाए जेहडा तुसां चाहंदे थे
    द्विज भाई होरां दी कवता बडी ही छैल है तिना जो लख लख बधाई

    ReplyDelete
  5. badi badiyaa nazm likhio badkaa ji

    ReplyDelete