Monday, November 20, 2017

चाचू-भतीजू (अठमी अनुसूची)

चाचू-भतीजू (अठमी अनुसूची)


भतीजू : चाचू। एह अठमीं अनुसूची क्या बला है।
चाचू : भतीजू। जितणिया भी गल्लां होइयाँ। सब अणसोचियां ही होइयाँ कनै सब बलाईं थियाँ। हण इन्हां च अठमीं कुण कदेही थी क्या पता।
भतीजू : चाचू। तू भी ना गल्ला दी जड़ पुट्टी ने रखींदा।
चाचू : भतीजू। मोआ, तेरे बापूऐं। कदी सोचया था। तिजो साही लाल तिसदे घरें जमणा है।
भतीजू: सोचया ता चाचीयें भी नीं था कि तुसां साही मारू मिलणा है।
चाचू : सैही ता अहूँ गलाता है। क्या अठमीं क्या दसमीं सब अणसोची ही होंदी है।
भतीजू: चाचू। अहूँ भासा दी गल्ल करा दा।
चाचू : भतीजू। तू डपोक ही रही गिया। भासा क्या गलाते हैं। जी, बझीयों की होंदी हैं। रंगेज़ बझीये थे। तिन्हां दी थी क्या भासा थी ग्रेज़ी। अज सतरां सालां बाद भी तिसा च दम है। मेरे मुल्खें अज भी पूरा जोर लाई रा। ग्रेज़ी पढ़ी जा दा।
भतीजू: अहूँ, अपणीया पहाड़ी भासा दी गल्ल करी करा दा।
चाचू:  ढाई टोटरु मियां बागें। बझियां दी रीस करना लगयो।
भतीजू: चाचू हुण असां ही अपणे बझिये हन।
चाचू: एह मूहँ कनै मसरां दी दाळ। अज भी बझियां दी चिलमा मांजी जा दे कनै बोला दे असां अपणे बझिये हन। असां दा ता एह हाल है। जियां दलीप कमार इकी फिल्मा च गांदा। एह सूट मेरा देखो, एह बूट मेरा देखो। गोरा कोई लंडन का। साला मैं तो साब बण गिया।
भतीजू: चाचू तू भी न कुथु दी कनै कुस वग्‍ते दी गल करा दा।
चाचू:  मुआ तू मिंजो सब पता है। एथु सब बगाने झगुए पेहनी लाड़ा बणी फिरा दे। अपणा झगु इकी भाल ही था। तिन्नी गलाई ता था अजे ते गांधी ग्रेज़ी भुली गिया। असां तिस जो गोळी मारी ती थी।
भतीजू: चाचू गोळी मारने दी बजह थी।
चाचू: बजह थी ना असां सारयां बगाने झगु पेह्नयो थे कनै सैह अपणा झगु पेहनदा था।
भतीजू: एह झगु-झगु क्या करी जा दा।
चाचू: एह झगु तेरिया समझा ते बार है। मोआ भासा पालना सोखा कम नीं है। बडे लोक ही करी सकदे। मंगतयां दी इक ही भासा होंदी रोटी।
भतीजू: चाचू, तू सारे देसे दी बेज़ती खराब करा दा।
चाचू: बेज़ती ही खराब करा दा ना। इज्जत ता ठीक है।
भतीजू: चाचू, तुसां समझा दे नीं। मैं अठमीं अनुसूची दी गल्ल करा दा।
चाचू: ता इयाँ बोल ना। जेड़े अठमीं च फेल होणे ते बाद सिधे दसमीं दे पेपर दिंदे। तिन्हां दी सूची लिस्‍ट बणदी तिसा जो अठमीं अनुसूची गलांदे। मैं भी तिन बरी दिता पर नकल नीं मिली। तिनों बरी फेल होई गिया।
भतीजू: चाचू तुसां ने कोई समझा वाळी गल्ल करना बड़ा मुस्कल है।
चाचू: क्या करें भतीजू। तेरियां गल्लां किछ जादा ही समझा वालियां होन्दियां।
भतीजू: अहूँ,  तेरा ही भतीजू है। हुण ता किछ लो पा।
चाचू: अरा। मिंजो पता है। पर डर लगदा अठमीं अनुसूची च शामल होई ने असां दिया इसा पहाड़ी भासा जो सरकारी मनता मिली जाणी।
भतीजू: चाचू एह ता खरी गल्ल है। इस च डरने वाळी क्या गल्ल है।
चाचू: एही ता डरने वाळी गल्ल है।सरकारी मतलब नक्कमा कनै मुफ्त कोई मुल्ल नीं।सरकारी स्कूलां, सरकारी हस्पतालां च मजबूर लोग ही जांदे। सरकारी टेलीफून, सरकारी बस। सरकारी बस इक नौकरी ही ठीक होंदी।
भतीजू: चाचू तेरा दमाग खराब है या तू पागल है। तिजो पता भी सरकारी मनता दा क्या रबाब होंदा। पहाड़ी भासा दा क्या नां होई जाणा। लखारियां जो नाम मिलणे, सरकारी परचे छपणे, स्कूलां च पढ़ाई होणी।
चाचू: दमाग तेरा खराब है। भतीजू।  अखें-बखें दिख क्या होआ दा। जे किछ भी सरकारी है बजा दा। जिथु तक भासा दी गल्ल है। जेड़ी हिंदी सरकारी भासा है सैह भी सरकारी दफ़्तरां च बजा दी। तिसा च सरकार त्रियें महीनें रपोर्ट करीं दी। 99 टका। कम सारा ग्रेज़ीया च। हिंदी इस 99 दे फेरे च रगडोई-रगडोई हुण हफणा लगी पइयो।  जमाना चला गिया। हुण सरकारां भी सरकारी नोकर नीं रखा दी। सब ठेके पर।
भतीजू: चाचू एह गल्ल ता ठीक है। सब ठेके पर ही मिलदे।
चाचू: तू भी ठेके ही पई रेहन्दा।
भतीजू: चाचू। सारियां गलां झड। तू ठीक बोला दा। सरकारी नौकरी ही ठीक होंदी। तू मिंजो ताईं सरकारी नौकरी कनै सरकारी नौकरिया वाळी छोकरिया दा जुगत करी दे।अहुँ सारी उमर तेरे घरें पाणी भरगा।
चाचू: दोयो। सरकारी नौकर होन ता सैह अपणे घरें पाणी नीं भरदे। तें मिंजो अपणे घरें बड़ना नीं देणा।
भतीजू:  चाचू अहूँ देह्या नीं है।
चाचू: तू देह्या नीं है केँह् कि सरकारी नीं है। जुगत अहुँ क्या दसां। ग्रेज़ी ही सारयां ते बडी जुगत है। असां दा सारा देस इसा जुगाड़ च ही ता मुकणा लगया। अपणिया बोलीयां-भासां ता लगभग मुकाई तियां। मेरे याणे ग्रेज़ी पढ़ी साहब बणी जान। वदेसी नीं ता देसी ही सही पर साब बणी जान। होर भनण ठीकरियाँ, बदाम भने तू। दिखया नीं अज-कल मा-बुड़े जमदे याणयां नें भी यस नो ग्रेज़ी गलाते हैं। होर ग्रां से दूर ग्रेज़ी स्कूल में पढ़ाते हैं।
भतीजू: चाचू तुसां कनै बापूएं पहाड़ी गलाई कनै सरकारी स्कूला हिन्दी पढ़ाई मेरी ज़िंदगी खराब करी ती।
चाचू: हुण तू बोला दा था। पहाड़ी अठमीं अनुसूची च पाई नें स्कूलां पढ़ाणी। हुण मिंजो कनै बापुये जो गाळी देई जा दा। पहाड़ी केँह् बोलदे।
भतीजू: चाचू। एही तो गल्ल है जो तेरी समझ में नीं ओती है। अंग्रेजां जो अपणे जमाने च सब खून माफ थे। हुण अंग्रेज़ीया जो सब खून माफ हन।
चाचू: अरा। अहुं जो सब समझा ओन्दा। सब जानकार हन। सब अपणे डाले अपु ही बडी जा दे। अंग्रेजी केँह् मारे असां अपुं ही आत्महत्या ही करी लेणी।
भतीजू: चाचू तू समझा कर। तिजो क्या लगदा। मारना ता असां लगयो ही हन। देर-सबेर असां अपणियां सारीयां भासां मारी ही देणीया हन। पर कम से कम शहीदां दिया सूचिया नां ता आई जाये।

कुशल कुमार।


9869244269

3 comments:

  1. बहुत बधिया लेख प्रधान जी 👌👌

    ReplyDelete
  2. कुशल जी तुसां मजाके मजाके च भासा दे सरकारी पेच चाचे भजीजे दे मुंहें छुहाई ते। जदूं स्हाड़यां सगेयां चाचेयां भतीज्यां एह पेच खरी करी कस्सी देणे हन तदूं भासा अप्पूं ई खुदमुख्तार होई जाणा है।

    ReplyDelete
  3. बड़ी छैळ डिसकस चाचू भतीजू री।

    ReplyDelete