Friday, June 12, 2015

किछ जरूरी बयान

(खौह्द्ळ पौंदी जाह्लू सैह तिन्‍हां देवदारां पर कोई बेरहम कुहाड़ी चलदी जिन्‍हां असां दियां जड़ा संभाळी करी रखियां हुंदियां। मणिपुर च देसे दे 18 जुआन सैह देवदार थे कने तिन्‍हां चा सत म्‍हाचले दे थे। इक छरूड़ू भावनां दा। कारगिल जंग ते परंत पैैहला मौका है जाहलू इक्‍की दिने च ही मणिपुरे च म्‍हाचले दे सत जुआन स्‍हीद होई गै।) 


..............
किछ जरूरी बयान  
.............

सुण मुनिए! 


खूब पढ़ेयां तू
भीड़ा ते डरदी मत
रस्‍ता भीड़ा चीरी करी ही निकळदा।
औणा था मैं अपर
मिंजो जाणा पेया।
जित्‍थू भी संसार बसांह्गी
गलाणा है लोकां
स्‍हीदे दी मुन्‍नी है
अपर रोंदी मत
अथरुआं बचाई करी रख्‍यां
मंडी जिले दे इक अमर स्‍हीद मनोज कुमार होरां जो आखिरी विदा दिंदा तिन्‍हां दा मुन्‍नू।  

सुण मुन्‍नुआ


माऊ दा ध्‍यान रखेयां
अंगणे च लाह्येयो बूटेयां जो दिंदा रेह्यां पाणी
दिख्‍यां सुकी नी जाह्न मेया
अपणे सुपनेयां संभाली करी रख्‍यां 

सुण अम्‍मा


इतणा ही था साथ
तेरे पुतरे दा नी था
तिन्‍हां ने कोई बैर
अपर पता नी कजो
पिट्ठी पर सट्टी चोट
हुंदे सामणे तां
दस्‍दा मैं भई तेरा दुध पीतेया मैं
ओआने साफ रखनेयो

सुण बापू 


कई बरी चुकणा पौंदे
अणचाहेयो बोझ
कई बरी ढोणा पौंदा
अपणियां हडियां दा बुचकू
बह्रले ढैणा मत दिंदे

कने तू...

तिज्‍जो क्‍या गलां 
मिंजो पता है
कितणा कठन हुंदा स्‍हीदे दी घरे वाली होणा
अपण तू
मत्‍थे जो सुन्‍ना मत छडदी
मत भनदी मीए सैह बंगड़ू
जेहड़े सनियारिया दे मेळे च लै थे
मोर्चे ते हटदी मत। 

-नवनीत शर्मा

4 comments:

  1. नवनीत जी नै इन्‍हां दा नां सोची नै ही ''किछ जरूरी बयान'' रक्‍खेया। इसनै इन्‍हां कवतां दी धार होर तेज हाई जा दी। अंदर भावनां दा जबरदस्‍त उबाळ कनै लुआंटा है। जिन्‍ने बरी पढ़ा उन्‍ने बरी अंदर बाह्र भंवळोई जांदा। सुकिया सच्‍चाइया दे सपड़े पर ह्थरुआं दी सीर। इक ठोस शोक गीत (eligy)।

    ReplyDelete
  2. नवनीत जी भरोइयां आखीं ने लीखा दा।
    गलाणा सोखा होन्दा, जीणा ओखा । क्या गलायें आँखीं दे पाणिये जो लफ्ज़ देणे तांईं।

    ReplyDelete
  3. नवनीत जी भरोइयां आखीं ने लीखा दा।
    गलाणा सोखा होन्दा, जीणा ओखा । क्या गलायें आँखीं दे पाणिये जो लफ्ज़ देणे तांईं।

    ReplyDelete
  4. भाई अनूप जी दा कने कुशल भाई जी दा आभार जिन्‍हां इन्‍हां भावनां जो कवता समझी करी होसला बधाया। मिंजो इन्‍हां स्‍हीदां दे घरे दे बारे च सोच्‍ची करी काह्ळी पौंदी। एह असां ताईं भी अपणे हड्डां दे बुचकू ढोणे वाळी गल है................................

    ReplyDelete