Saturday, December 28, 2013

जिँदगी भी ‘द्विज’ जी सह्चियो रूह्यी नैं झाण लग्गै


हिमाचली गजल

निस्चे दा जे तिसा पर पक्का नसाण लग्गै
जाई पखेरुए दिया हाक्खी च बाण लग्गै

पैह्ल्लैं ता जिन्दे ! तिज्जो जळबाँ  दी पाण लग्गै
ताँ ई तजर्बेयाँ दी तिज्जो भी   साण लग्गै

जादा कि तोड़ने जो एह खिंज -ताण लग्गै
मुस्कल बड़ा इ  हुण ताँ झल्लण -झलाण लग्गै

किछ लम्म-लेट अपणी किछ मार लारेयाँ दी
खँजड़ैं न खाण लग्गै, मँजड़ैं न बाण लग्गै

भुक्खा दा भूत तिद्दा
हुण क्या बगाड़ी लैहंग्गा
फाक्कैं रेह्यी ने मितरा माह्णू मसाण लग्गै

भरमें च ईह्याँ पाह्येआ जजमान तैं पुरोह्त्ता
पर्ने च ढकियों मच्छी तिसजो पुराण लग्गै

तेरा कसूर नीं ऐ ऐनक है होर तेरी
मूआ-मड़ा सै माह्णू तिज्जो पठाण लग्गै

कुसिओ एह ठीक कर्ह्गा ? कुसिओ दुआ एह दिहँग्गा
बैद्दे दा हुण ता अपणा भुन्जाँ बछाण लग्गै

लगदी नीं दूर जान्दी गास्सैं पतंग मितरा
बेढब अजीब टेह्डी जीह्याँ उठाण लग्गै

बसुआस जीह्याँ टुट्टे हण आस बी नीं कोई
खरियाँ भी होन नीताँ सांजो ता काण लग्गै

काह्ल्लू तिकर ऐ इन्नै हण होर भार चुकणाँ
मा धरतिया दी पिठ ता दूह्री कमाण लग्गै

हुजळैठियाँ ते ताँ ई औणा तैं बाज बैद्दा !
कदी जे मरीज्जाँ सौग्गी तेरा बछाण लग्गै

करतूत काळी-कौड़ी होणी तेरी ओ मितरा
मिठ्ठा बड़ा ई तेरा बोल्लण- गलाण लग्गै

चेह्रे पर होर चेह्रा तिस पर भी होर चेह्रा
फिरी माहणुए दी कीह्याँ असली पछाण लग्गै

खरकोई भी बह्दा दी खुर्क होर खसमाँ खाणी
जिँदगी भी ‘द्विज’ जी  सह्चियो रूह्यी  नैं झाण लग्गै


-द्विजेन्द्र द्विज

4 comments:

  1. चेह्रे पर होर चेह्रा तिस पर भी होर चेह्रा
    फिरी माहणुए दी कीह्याँ असली पछाण लग्गै
    पाहाड़ीया च गज़ला दा नोंएं ढंगे दा बखाण लग्गै

    ReplyDelete
    Replies
    1. भाई तेज कुमार सेठी जी

      नौंएं साल्ले दियाँ मबारकाँ तुसाँ जो.
      बखाण काफ़िया दसणें तियें धन्न्बाद.

      Delete
  2. द्विजेंद्र जी, काफिए ता होर भी सुज्‍झा दे- खाण, काण, लाण, धियाण, पाण, तरखाण, प्राण, मुकाण ... अपर जे काफियां नै ही गजल बणी जांदी तां मैं भी गजलां दी गाह्ण पाई देणी थी। गजलां तां तुसां लिखणियां कनैं असां पढ़नियां। एही मजा है। मैं तां तुहां दियां गजलां च गुज्‍झी मार कनै भाषा दी ताकत दिक्‍खी नै हरान ई हुंदा रैंहदा। इयां इ लिखदे रेह्या।

    ReplyDelete
  3. अनूप जी तुसां दा गलाणा ठीक है द्विजेंद्र जी, दियां गजलां च गुज्झी मार कनै भाषा दी ताकत दिक्खी नै मजा आई जांदा। मैं ता जितणी वरी भी द्विज जी जो पढ़दा। मिंजो साही मुंबई च रैहणे वाले जो कोई भुल्लया शब्द याद ओंदा या नोंआ मिलदा।
    द्विज जी बड़े गुज्झे तुसादियां गजलां दे बाण लग्गै
    तुसादियां गजलां पहाड़ी भाषा दी पछैण लग्गै

    ReplyDelete