Saturday, September 21, 2013

अनूप सेठी जी साने गुरुजी राष्ट्रीय एकता सम्मान ने सम्मानित



धौलाधार!

धौलाधार!
तिजो मैं छड्डी आया
एह सोची भी नीं हुंदा
संस्‍कारी मने साही चिट्टी धार
तिजो सौगी लई सरका दा
मैं धूंखोर सड़कां
काळीयां कळूटियां

तू जादा वचार मत करें
मिंजो तिजो बिच कुछ सैंकड़ा मील पटड़ियां ऊंगरी आईयां
फिरी भी असां घुमगे समुदर कनारें सौगी-सौगी

कल समुदर सलेटी रंगे दा
मिंजो घुळजां पईया चादरा साही लग्‍गा
अम्‍बरें तिस जो छेकी रखया था पताळे तिक्‍कर

ऐत्‍थु कोई नी जाणदा
समुदरे दा ठ‍काणा
अम्‍बरे दा पता
दिखा ना मैं भी कल
बछाणे दी चादर समझी हटी आया
पर तिह्दे कनारे नै लगाव है मिंजो
तेरियां घाटियां साही

तू सोचें मत
जित्‍थू तक चादर सुझा दी है
तित्‍थू तिजो रखी दिंगा अम्‍बर-भेदी 

ताल्‍हू ऐह जे बण बिछया है अन्‍नाह्
धूंबाज आदमखोर
कुछ ता फाटकां गाळगा अपणयां

फिरी भी इस आदमखोर बणे ने दोस्‍ती करी हुंगी
ए‍ह सोची नी सकदा
तियां ही जियां
धौलाधार!
तिजो मैं छड्डी आया
एह सोची नी सकदा।

अनूप सेठी जी होरां ऐह कवता 1983 च धरमशाला ते मुंबई आई ने हिंदीया च लिखी थी। इतणे साल बीती गै पर इस आदमखोर बणे च धौलाधार नी गुआची। इक फाटक गळया कनै 14 सितंबर 2013 जो महाराष्‍ट्र राज्‍य हिंदी साहित्य अकादमी दी तरफा ते महाराष्‍ट्र दे संस्‍कृति कार्य मंत्री संजय देवतले होरां साने गुरुजी एकता सम्‍मान दा तिलक लगाया।
  
महाराष्‍ट्र कनै हिंदी साहित्‍य च 
असां हिमाचलियां दा नां रोशन करने ताएं।

महाराष्‍ट्र राज्‍य हिंदी साहित्य अकादमी दे 
साने गुरुजी राष्‍ट्रीय एकता सम्‍मान ने सम्‍मानित अनूप सेठी जी

जो पहाड़ी दयार, हिमाचल मित्र कनै सारयां हिमाचलियां दी तरफा ते

लख-लख बधाईयां, मुबारकां अभिवादन। 

कुशल कुमार

No comments:

Post a Comment