Thursday, August 14, 2014

फोहलणिया/ पहेलियाँ






अपणा इतिहास दिखिए ता पता लगदा भई जम्‍मू कश्मीर पाकिस्तान कनै पंजाब दे कुछ लाके कनै उतरांचल दे पहाड़ी लाके पहलें कट्ठे ई थे। इस करी नै इनां दी भाषा कनै संस्कृतिया दा हिमाचले दे जनजीवने पर गैह्रा असर है।
इयाँ ही फोहलणी सबदे पंजाबी सबद फ़ोलणा दी झलक साफ नजरी ओंदी। "फ़ोलणा" यानि तोपणा।

समाजे इकी दुए दी बुधि कनै ज्ञान परखने ताएँ भी फोलनिया पुछणे दी परंपरा चलदी औआ दी।

किन्‍नौर च इस ताएँ "फोहलणिया कनै बूझगे री कौथा"  सब्दां दा भी चलन मिलदा।
पहाड़ां च लोक फोहलणी जो मनोरंजन दा बड़ा बडा तरीका मनदे। राती पराले दियां बंदरियां  बही अग्‍गी तपदे या सर्दियां दियां लमियाँ रातीं कटणे ताएँ फोहलणियां दा खेल छोटे-बडे सारे खेली सकदे। फोहलणियां दा खेल  शास्त्रार्थ साही भी खेली सकदे। जे कोई फोहलणिया नी बुझी सकै ता पुछणे आला शर्ता कोई भी चीज मंग्‍गी सकदा। इस खेले याण्यां  दा मनोरंजन हुंदा कनै दिमाग बधदा।

ब्‍याहे च लाड़े जो छंद बोलणे दी बिनती करना तिसदिया बुधिया दी परखणे दा इक जरिया था।

जगह-जगह दी अपणी आवो हवा, रैह्ण-सैह्न, खेती बाड़ी, खानपान, वेशभूषा, भाषा कनै संस्कृति हुंदी कनै इन्‍हां सबनां दा असर  फोहलणिया पर पौंदा इस ताएँ फोहलणिया दे विषय लोकजीवन दी झांकी पेश करदे।

सिरमोर दे लाके एह इक  फोहलणी चलदी 
एक चिड़ी चडडगे दार ,
त्यों रे बच्चे नौ हज़ार 

एक चिड़िया के विरले दार ,
परन्तु बच्चे नौ हज़ार 

जवाब - फीमे दा डोडा 

इसा फोहलणिया पोस्ते दी फसला दा पूरा रुप पैदावार कनै नशे दी छमता दा हवाला मिलदा।
पहाड़ां च रस्‍ते बड़े दुरगम हुंदे कनै नदियां पर पुल बड़े घट थे। लोक किश्तियां कनै डंगरां दियां खल्‍लां दे सहारें नदियां पार करदे थे। किश्‍तया दे बारे च भी इक फोहलणी है।

वणे च बड्डी , वणे च टुक्की ,वणे च कित्ता हार संगार 
बारह बरहीयाँ जले च रेही , मुड़ी नी दिक्खे घर -वार

वन में काटी , वन में छांटी , वन में हुए हार श्रृंगार 
बारह वर्ष जल में काटे , मुड़ ना देखे घर -बार 

जवाब - बेड़ी , किश्ती , नौका 

पहाड़ां दा लोक जीवन खेती-वाड़ीया पर ही निरभर है तिस ताएं डंगरयां दे मदता ने फसलां बुआई बगैरा दे कम कित्‍ते जांदे थे छोटयां –छोटयां कनै पौड़ीयां साही खेतरां च बालदां दिया मदता ने हल बाहणे दा कम्म कीता जादां था

इस बारे च इक कांगड़ी फोहलणी

टिक टिक टैंजो , धरत पुट्टैन्ज़ो
तिन्न मुंडियां , दस पैर चलैन्जो

जवाब -हल जोतदा किरसाण

जियां – जियां वक़्त बदलोंदा गिया हिमाचले दे लोक सेना च भरती होए। जाह्लु फौजी छुट्टीया ओंदे थे तो जियां कि पहाड़ां च  अमूमन राती दे वक्‍त ठंड ही रैहंदी थी ता  रात के वक्‍त  ग्रां दे लोक अगि भाल बही ने कथां सुणदे-सुणादे या फौजीयां दे घरे वाळे जागरे (जगराते) करांदे ता फौजियां कनै फ़ौजा दे कम्बल भी पहाड़ां दे लोक जीवन च शामल होई गै कनै कुछ-कुछ घरां च पराले दियां बंदरीयां कनै खजूरे दियां पंदां दी जगह इना कम्बलां लई लयी।
इन कंबलां दे कारण बजूद च आई एह फोहलणी 
ईटक-मिटक ,बड़ी का सिटक,
धोबी भी धोये , अपर गोरा ना होए 

(बड़ी का सिटक यानि बड़ी दे रुखे दी छाल गलाणे दा मतलब एह है कि ए‍ह कम्बल बड़ी दे सिकड़ां बराबर मोटा होंदा) 

पहाड़ी लोक चिंतन कनै मनोरंजन रोजमर्रा दियां जरूरंता कनै कम्‍में ओणे वालीयां चीजां ने जुड़या है घराट (पनचक्की ) जिसदी कला कनै जोगता दा सबूत है

धारा बाहियाँ काकड़ियाँ , पछवाड़ें जम्मी बेल,
जब्बरुए दी दाढ़ी पुट्टी , अंदर पेई खेल 

जवाब - घराट (पनचक्की ) 



हिमाचली फोहलणीयां च ऐत्‍थु दा लोक-जीवन बोलदा, इना च ऐत्‍‍थु दे लोक चिंतन कनै व्‍यवहार दी झांकी मिलदी। इस तांए लोक संस्कृतिया जो ढंगे नै बरतणे ताएं इन्हां जो बरतणा भी जरूरी है। मूह्रलयां लेखकां लोक संस्कृति जो सहेजने दी कोशिश कीतिओ है पर अज के आधुनकि दौर च तिनां दे बेशकीमती कम्‍मे दी ब्रांडिंग करने दी ज़रुरत है तां जे तिन्‍हां दा कम्‍म आम जनता तक पूजी सकै। फोहलणिया पर डाक्टर गौतम शर्मा व्यथित होरां भी लीखया पर अज ज़रुरत है तिन्‍हां साही मतयां बड्डेयां लेखकां दे कम्‍मे जो आधुनिक तरीकयां ने आम जान मानस तक पजाणे दी।


4 comments:

  1. बहुत खूब.. मजा आई गया पढी कन्ने...

    ReplyDelete
  2. इक एह फोह्ल्णी मिंजो बी आद ऐ।

    "कौळ फुल्ल , कौळ फुल्ल , कौळ फुल्ल प्यारा
    कुती अद्धा कुती सारा कुती है इ नीं बचारा"

    कमल का फूल प्यारा
    कहीं आधा कहीं सारा (पूरा)
    कहीं है ही नहीं बेचारा

    असाँ निके निके थे ता मेरी माँ पान्दी थी । असाँ ते नीं बझोन्दी थी ता रोन्दी-रोन्दी माँ मतलब समझान्दी थी। जुआब मिलदा था
    " मा-बुह्ड़े। "
    "माता-पिता।"
    कहीं माता है , कहीं पिता है, कहीं दोनों में से कोई भी नहीं है । ज़रा और बड़े हुए तो माँ के रोने का कारण समझ आया क्योंकि उन्होंने दोनों को खो दिया था।

    ReplyDelete
    Replies
    1. तुसां तां पोह्लणिया सुणांदे सुणांदे मना दे तार छेड़ी ते।

      Delete
    2. अहान भि बेह्न्दे थे दाअदुएये वाल सुन्दे थे कह्निया कने फ़ोह्ह्ल्निया.

      Delete